सुप्रीम कोर्ट से 10 दिन में आएगा ये 4 बड़ा फैसला, होगी देश की तस्वीर पर असर

Share Button

👉 1858 से देश के सामाजिक-धार्मिक मामलों का अहम बिंदु रहा अयोध्या मामला, 1885 से मुकदमा चल रहा है

👉सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने वाले निर्णय की समीक्षा याचिका पर भी आएगा फैसला

👉 अयोध्या मामले को लेकर अटकलें हैं कि पांच न्यायाधीशों की बेंच एक सर्वसम्मत फैसला दे पाएगी

👉 फ्रांस से 36 राफेल जेट लड़ाकू विमान की खरीद संबंधित मामले में केंद्र सरकार को क्लीन चिट पिछले साल दी गई

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। अगले 10 दिन भारत की सामाजिक, धार्मिक और राजनीतिक दृष्टि से बड़े महत्वपूर्ण हैं। 4 नवंबर से अगले 10 दिनों में सुप्रीम कोर्ट चार बड़े मामलों की सुनवाई करने वाला है। इसमें जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच अयोध्या भूमि विवाद समेत अन्य मामलों पर सुनवाई करेगी।

इसके अलावा सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश, चीफ जस्टिस ऑफिस को आरटीआई के तहत लाना और राफेल लड़ाकू विमानों की खरीद-फरोख्त में सरकार को क्लीन चिट देने संबंधी मामलों पर सुप्रीम कोर्ट फैसला सुनाएगा।

अयोध्या मामले पर फैसला, जो 1858 से देश के सामाजिक-धार्मिक मामलों का अहम बिंदु रहा है और जिस पर 1885 से मुकदमा चल रहा है, इस विवाद के लंबे इतिहास में एक नया अध्याय दर्ज करेगा।

चीफ जस्टिस गोगोई तीन अन्य बेंचों की अध्यक्षता कर रहे हैं, जो सबरीमाला अयप्पा मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति देने वाले सुप्रीम कोर्ट के निर्णय की समीक्षा याचिका पर फैसला सुनाएगी।

इसके अलावा राफेल सौदे में सरकार को क्लीन चिट देने वाले निर्णय और सीजेआई को आरटीआई के दायरे में लाने वाली याचिका पर भी फैसले का इंतजार है।

अयोध्या मामले को लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं कि पांच न्यायाधीशों की बेंच एक सर्वसम्मत फैसला किस तरह दे पाएगी। इस तरह के मुद्दे पर, जिसने हिंदू और मुस्लिमों को विभाजित किया, एकमत होने का स्वागत किया जाएगा क्योंकि यह किसी भी तरह की अस्पष्टता को दूर करेगा जो 4-1 या 3-2 (5 जजों के बीच) के फैसले के कारण हो सकती है।

साल 1934 में अयोध्या में एक सांप्रदायिक दंगे ने बाबरी मस्जिद के तीन गुंबदों को क्षतिग्रस्त कर दिया था। इसके बाद शहर में रहने वाले हिंदुओं पर जुर्माने से अंग्रेजों ने इसका पुनर्निर्माण कराया था।

22 दिसंबर, 1949 की आधी रात को रामलला मूर्ति को केंद्रीय गुंबद में रखने के बाद विवादित ढांचे पर मुकदमेबाजी साल 1950 में शुरू हुई। हिंदू भक्त गोपाल सिंह विशारद ने 1950 में एक मुकदमा दायर किया, जिसमें गुंबद में ही रामलला की पूजा करने का अधिकार मांगा गया।

निर्मोही अखाड़े ने रामलला के जन्म स्थान पर पूजा करने के अधिकारों को लेकर 1959 में मुकदमा दायर किया जिसके दो साल बाद 1961 में सुन्नी वक्फ बोर्ड ने भी मुकदमा दायर र दिया।

फिर रामलला की ओर से 1989 में जन्मभूमि पर मालिकाना हक का दावा करने वाला मुकदमा हाईकोर्ट के एक पूर्व न्यायाधीश ने उनका निकट मित्र बनकर दाखिल किया था जो मस्जिद को गिराने से तीन साल पहले किया था।

चीफ जस्टिस गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की बेंच ने 6 फरवरी को 65 याचिकाओं पर अपने फैसले को सुरक्षित रखा था, जिसमें न्यायालय के 28 सितंबर के फैसले की समीक्षा करने संबंधित 57 याचिकाएं शामिल हैं।

कोर्ट ने सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओं के प्रवेश की अनुमति दी थी जिस पर याचिकाएं दायर की गईं।

याचिकाकर्ताओं ने तर्क दिया था कि चूंकि सबरीमाला में भगवान अयप्पा एक ब्रह्मचारी थे, इसलिए अदालत को 10-50 साल के मासिक धर्म में महिलाओं के प्रवेश पर रोक की परंपरा में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।

सीजेआई ऑफिस को आरटीआई के तहत लाने की अनुमति देने पर गोगोई की अध्यक्षता वाली एक अन्य पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ने 4 अप्रैल को अपना फैसला सुरक्षित रखा था।

वहीं, फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमान की खरीद संबंधित मामले में एनडीए सरकार को क्लीन चिट पिछले साल दी गई, लेकिन इस फैसले को चुनौती देते हुए समीक्षा याचिका दायर की गईं, जिस पर सीजेआई की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय बेंच के निर्णय का इंतजार है।  

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

वंशवाद एक निकृष्टतम कोटि का आरक्षण
बजट सत्र के बाद बदल जाएगा देश की उपरी सदन राज्यसभा का रंग
मुझे माफ करना अन्ना,मैं इन दलालों पर शर्मिंदा हूं.....
बलिया-सियालदह ट्रेन से भारी मात्रा में नर कंकाल समेत अंतर्राष्ट्रीय तस्कर धराया
जॉर्ज साहब चले गए, लेकिन उनके सवाल शेष हैं..
आपके घर-जिले नालंदा में चिराग तले अंधेरा वाली कहावत चरितार्थ है सुशासन बाबू.
‘द लाई लामा’ मोदी की पोस्टर पर बवाल, FIR दर्ज
हाई कोर्ट ने लगाई बालकृष्ण की गिरफ़्तारी पर रोक
"नीतीश की कूटनीति का एक हिस्सा है नई चुनावी हार"
ताबडतोड फैसले ले रहे है झारखण्ड के राज्यपाल
राजीव गांधी उद्यमी मित्र योजना के नाम पर ठगी का धंधा
सीएम नीतीश का विरोध, गाड़ी पर फेंकी स्याही, दिखाए काले झंडे
हम होली कैसे मनाएं?
बताईये: दोनों में कौन है क्रिकेटर युसूफ पठान?
शिबू सोरेन के समर्थन मे 81 सदस्यीय विधानसभा मे 44 विधायको ने राज्यपाल के सामने दावा ठोंका
प्रो. सुनैना सिंह ने संभाला नालंदा विश्वविद्यालय की कुलपति का पदभार
राजगीर वाइल्ड लाइफ सफारी पार्क निर्माण पर रोक
पुलिस गिरफ्त में पुलवामा आतंकी हमले के वांछित नौशाद उर्फ दानिश की पत्नी एवं बेटी
मेजर ध्यानचंद हॉकी टूर्नामेंट खेलने जा रहे 4 राष्ट्रीय खिलाड़ियों की दर्दनाक मौत, 3 जख्मी
पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव को लेकर आदिवासी और सदान आमने-सामने
भारत का विश्वास या अंधविश्वास? राफेल के पहियों के आगे रखवाई नींबू!
ये न्यूज़ चैनल नहीं, अभिशाप है
अन्ना को धन्यवाद,लेकिन उनका आंदोलन लोकतंत्र के लिए खतरनाकः राहुल गांधी
लंदन में दंगा जारी, अब तक 500 युवक गिरफ्तार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter