» तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!   » तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट….   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यवसायी सम्प्रदा सिंह का निधन   » पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर   » कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती   » समस्तीपुर से लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान का निधन   » दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन   » अपनी दादी इंदिरा गांधी के रास्ते पर चल पड़ी प्रियंका?   » हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!  

सुप्रीम कोर्ट से महेंद्र सिंह धोनी की अपील- 39 करोड़ दिलाएं मी लार्ड

Share Button

“आम्रपाली ग्रुप पर करीब 45000 होम बायर्स को घर नहीं देने का आरोप लगा हुआ है। जिसके बाद हजारों लोगों ने सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाया था। इसके बाद धोनी ने आम्रपाली ग्रुप से अपना नाता तोड़ लिया था…..”

INR. इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने आम्रपाली ग्रुप से अपना पैसा वसूल करने के लिए सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

धोनी ने कोर्ट से अपील की है कि आम्रपाली ग्रुप पर उनका 40 करोड़ रुपये बकाया है, जिसे उन्हें वापस दिलाया जाए। इसके लिए उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दाखिल की है।

इसके साथ ही धोनी ने अपनी याचिका को दायर करते हुए कहा कि वे काफी लंबे समय तक कंपनी का चेहरा बने रहे, लेकिन उनका भुगतान अभी तक नहीं किया गया है।

इसके साथ ही आम्रपाली ग्रुप पर हजारों होम बायर्स को ठगने का आरोप लगा हुआ है। जिसमें कहा गया है कि उन्होंने पैसा लेकर लोगों को घर नहीं दिए हैं। जिसके चलते लोगों ने भी एससी में अर्जी दाखिल की है।

धोनी ने अपनी याचिका में कहा है कि वे 2009 से लेकर 2015 तक आम्रपाली ग्रुप के ब्रांड एम्बेसडर रहे। जिसके चलते उनके बीच काफी करार थे।

इसके साथ ही कहा कि 2016 में जब उन्होंने कंपनी के साथ सभी करार खत्म किए तो उन्होंने धोनी का बकाया रुपया नहीं चुकाया। लिहाजा उन्हें कोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा।

बता दें कि आम्रपाली ग्रुप पर करीब 45000 होम बायर्स को घर नहीं देने का आरोप लगा हुआ है। जिसके बाद हजारों लोगों ने सोशल मीडिया पर कैंपेन चलाया था।

इसके बाद धोनी ने आम्रपाली ग्रुप से अपना नाता तोड़ लिया था। उसी दौरान लोग भी मांग कर रहे थे कि कंपनी का ब्रांड एंबेसडर होने के नाते लोगों को धोनी के पक्ष में बोलना चाहिए।

बता दें कि इससे पहले कोर्ट ने आम्रपाली के सीएमडी और निदेशकों को नोटिस जारी कर पूछा था कि क्यों न उनके खिलाफ आपराधिक केस शुरू किए जाएं।

सुप्रीम कोर्ट ने आम्रपाली ग्रुप से जुड़े लोगों को कहा था कि होमबायर्स के पैसे जो भी मिले हैं, उन्हें सुप्रीम कोर्ट के खाते में सोमवार तक जमा कर दें। ऐसा नहीं करने पर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेगा।

Share Button

Related News:

महागठबंधन की सरकार में महादलितों पर अत्याचार बढ़ाः जीतनराम मांझी
सड़ गई है हमारी जाति व्यवस्था
उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार
न भूलेंगे, न माफ करेंगे, बदला लेंगे :CRPF
भाजपा सांसदों ने रोकी नोटबंदी पर संसदीय समिति की रिपोर्ट
जब गुलजार ने नालंदा की 'सांसद सुंदरी' तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म 'आंधी'
शर्मनाकः विश्व प्रसिद्ध नालंदा में सैलानियों को सामान्य सुविधाएं भी नसीब नहीं !
DC का अंतिम फैसला- भू-माफियाओं के खिलाफ राजगीर CO जाएं कोर्ट, SDO हटाएं अतिक्रमण
शिबू सोरेन की गलतफहमी न.1 : झारखण्ड की ताजा बदहाली के लिये बिहारियो को दोषी ठहराया
पटना के GV मॉल में लगी भीषण आग, यूं हुआ करोड़ो की संपति स्वाहा
चुनाव के दौरान एक बड़ा नक्सली हमला, आइईडी विस्फोट में 16 कमांडो शहीद, 27 वाहनों को लगाई आग
'बाहुबली द बिगनिंग' और 'बाहुबली द कंक्लूजन' के बाद पर्दे पर दिखेगी 'बाहुबली-3'
लोकसभा चुनाव नहीं लड़ सकेंगे हार्दिक पटेल
राम भरोसे चल रहा है झारखंड का बदहाल रिनपास
BRD मेडिकल कॉलेज गोरखपुर में फिर हुई 72 घंटे में 46 बच्चों की मौत
चौथा चरण: 9 राज्य,71 सीट, इन नेताओं की किस्मत ईवीएम में होगी बंद
हम होली कैसे मनाएं?
नालंदा प्रशासन को बिहारशरीफ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में हादसा या वारदात का इंतजार है?
वरिष्ठ पत्रकार रजनीश कुमार झा संग एक ‘गुंडा छाप’ ने की सरेआम गाली-गलौज, दी जान मारने की धमकी
अब बाल ठाकरे जैसे लोगों को क्या कहेगे?
सोनिया जी ये इटली नही,विश्व का सबसे बडा लोकतांत्रिक देश भारत है: अपनी महाराष्ट्र सरकार पर लगाम लगाईय...
आगामी 30 दिसंबर को शपथ लेगे दो उप मुख्यमंत्री के साथ मोहराबादी मैदान मे शपथ झारखंड के नये मुख्यमंत्...
सुप्रीम कोर्ट के द्वारा 78% आबादी के विरूद्ध दिये गये फैसले का क्या है औचित्य ?
राहुल गाँधी और आतंकी डार की वायरल फोटो की क्या है सच्चाई ?

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां  
error: Content is protected ! india news reporter