शिव सैनिकों की फौज जो न कर सकी, वह इस लॉ स्टूडेन्ट ने कर दिखाया !

Share Button

ऋषभ रंजन लॉ (फोर्थ ईयर, दिल्ली में) के छात्र हैं। इन्होंने ही आरे पेड़ों की कटाई के मसले पर चिंता जताते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) रंजन गोगोई को खत लिखा था……………”

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क।  मुंबई में आरे पेड़ों की कटाई के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा आदेश दिया है। कॉलोनी में ‘मेट्रो कार शेड’ बनाने के लिए हो रही पेड़ों की कटाई पर कोर्ट ने फिलहाल रोक लगा दी है।

कहा है कि अब कुछ भी न काटा जाए। ऐसे में यह पर्यावरणविदों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और पर्यावरण प्रेमियों के लिए किसी राहतमंद खबर से कम नहीं है और ऐसा होने के पीछे एक नाम है ऋषभ रंजन।

ऋषभ रंजन लॉ (फोर्थ ईयर, दिल्ली में) के छात्र हैं। इन्होंने ही आरे पेड़ों की कटाई के मसले पर चिंता जताते हुए चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (CJI) रंजन गोगोई को खत लिखा था। रंजन ने यह चिट्ठी छात्र प्रतिनिधिमंडल की ओर से लिखी थी, जिसमें उन्होंने वहां पर पेड़ों की कटाई रोकने के लिए मांग की थी।

दरअसल, मुंबई मेट्रो की लाइन 3 के लिए ग्रीन जोन में कार शेड बनाया जाना है, जिसके लिए मुंबई नगर निगम ने लगभग 2600 पेड़ काटने के निर्देश पर हरी झंडी दे दी थी।

यही मामला हाईकोर्ट में पहुंचा, पर बंबई हाईकोर्ट ने आरे कॉलोनी को जंगल मानने से मना किया और निगम के फैसले पर ऐक्शन लेने से इन्कार कर दिया था। इसी के बाद रंजन ने जनहित याचिका दाखिल की थी।

एक तरह से देखें तो रंजन ने वह कर दिखाया, जो शिव सैनिक की अच्छी खासी फौज न कर पाई। उन्होंने Rediff.com  को इस बारे में बताया, “आरे में सिर्फ केवल पेड़ों की बात नहीं है, बल्कि वहां पर चिड़िया और अन्य फ्लोरा और फॉना भी है। हर भौगोलिक जगह के अपने परिस्थितिविज्ञान संबंधी निहितार्थ होते हैं।”

यह पूछे जाने पर कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश से खुश हैं?  ऋषभ रंजन ने कहा कि वह इसके लिए कोर्ट के शुक्रगुजार हैं। आरे में पेड़ काटना अनैतिक है।

इस सवाल पर कि आप दिल्ली में रहते हैं और यह मामला मुंबई का है। फिर भी आपने इसे सुप्रीम कोर्ट में उठाया? लॉ स्टूडेंट ने इस पर कहा- हम कानून के छात्र हैं और हम मुंबई के दोस्तों के संपर्क में हैं। हम निगम की ऐसी हरकतों के खिलाफ हैं, जिन्होंने आरे कॉलोनी में पेड़ काटे।

0 0
Happy
Happy
0.00 %
Sad
Sad
0.00 %
Excited
Excited
0.00 %
Sleppy
Sleppy
0.00 %
Angry
Angry
0.00 %
Surprise
Surprise
100.00 %
Share Button

Related News:

चारा घोटा की नींव रखने वाले को पर्याप्त सबूत होते भी सीबीआई ने क्यों बख्शा!
चार साल में मोदी चले सिर्फ ढाई कोस
झारखंड के मुख्यमंत्री जी: झारखंड को बचाईये न अपने गांव के इन "छोकडा" लोगों से
डी.एम.का जनता दरबार या मजाक?खुद डी.एम.संजय कुमार अग्रवाल ही घुमावदार नज़र आता है!
भारत के खिलाफ एक आग है पाकिस्तानी विदेश मंत्री हिना रब्बानी खार
कुंदन पाहन ने चौंकाया, नेपाली PM प्रचंड ने झारखंड में ली थी नक्सली ट्रेनिंग!
"अनंत विकास स्रोत" और एच.डी.एफ.सी.बैंक का यह कैसा धंधा?
भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए आत्म मंथन का जनादेश
नालन्दा:शैक्षणिक चेतना का प्रमुख पर्यटन स्थल
झारखंडी सत्ता का फिफ्टीकरण: ढाई साल तक "गुरूजी" मुख्यमंत्री और उसके बाद उनका बेटा हेमंत सोरेन बनेगा ...
सबाल "फिल्टर सिस्टम" का
एक और नीरव मोदी ने किया 187 करोड़ का घोटाला, PNB समेत 6 बैंकों को लगाया चूना
झारखण्ड : कौन बनेगा भाजपा का सीएम?
इस 'नाग-फांस' से मुक्ति कैसे पाएंगे झारखंड के डीजीपी!
नहीं रहे जलेबी खाते-खाते पवन जैन से यूं बने मुनि तरुण सागर महाराज
केन्द्रीय मंत्री जयराम ने स्वागत माला से जूतें पोंछे, किया खादी का अपमान
शिक्षा को संभालने में नीतिश सबसे असफल सीएम
झारखण्ड: कौन बनेगा सीएम? आदिवासी या सदान?
अर्जुन मुंडा को लेकर झामुमो के १८ में ११ विधायक बागी
ऑस्ट्रेलिया के सभी अख़बारों का पहला पन्ना क्यों है काला!
एक पत्रकार ने खोली सोहराबुद्दीन केस की असलीयत, कांग्रेस वेनकाब
पीएम ने 12 सितंबर को किया था उद्घाटन, हैंडओवर के 5 दिन पहले विधानसभा राख
टॉपलेस हुई अन्ना की यह कैसी दीवानी अभिनेत्री !
गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन सप्लाई ठप होने से 30 बच्चों की मौत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter