लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम

Share Button

मई 2018 में मद्रास उच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से स्कूल के बैग के वजन को नियंत्रित करने और कक्षा 1 और 2 के लिए होमवर्क के साथ दूर करने के लिए राज्य सरकारों को निर्देश देने के लिए कहा था….”

INR. स्कूलों के बैग और स्कूल बैग के वजन को नियंत्रित करने के लिए, एमएचआरडी ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दिशा निर्देश तैयार करने का निर्देश दिया है। तैयार किए जाने वाले दिशा निर्देश भारत सरकार के निर्देशों के अनुसार होना चाहिए।

मंत्रालय ने उन सभी स्कूलों से भी पूछा है जो शिक्षा विभाग के अधीन आते हैं ताकि वे गृहकार्य से संबंधित सरकारी निर्देशों और तत्काल प्रभाव से बैग के वजन का पालन कर सकें।

प्रश्न में एमएचआरडी परिपत्र ने विशिष्ट निर्देश दिए हैं, जिन्हें शिक्षा विभाग के तहत सभी स्कूलों द्वारा तत्काल प्रभाव से लागू किया जाना चाहिए।

स्कूल अब कक्षा 1 और 2 के छात्रों को होमवर्क नहीं सौंप सकते हैं। केन्द्र सरकार ने यह निर्देश विभिन्न राज्यों में शिक्षा विभाग के अंतर्गत चलन वाले स्कूलों के लिए ही दिए है।

एमएचआरडी द्वारा जारी आदेश में प्राईवेट सकूलों की कोई चर्चा नहीं है, जबकि देश भर में सबसे ज्यादा मनमानी करने वाले प्राईवेट स्कूल ही हैं, जो अपने स्कूलों द्वारा छापी गई किताबों काफी बोझ बच्चों को सौंप देते हैं और हर वर्ष अपना सिलेबल-किताब बदल देते हैं। ताकि निचली कक्षा से पास होकर आने वाला कोई छात्र या छात्रा अपने सीनियर की किताबों का पुन: उपयोग न कर सकें।

स्कूलों को छात्रों को अतिरिक्त सामग्री, और अतिरिक्त सामग्री निर्धारित करने की भी अनुमति नहीं है। एमएचआरडी ने छात्रों के लिए अनुमत वजन सीमा भी तय की है।

कक्षा 1 और 2 छात्रों के स्कूल बैग का वजन 1.5 किलो से अधिक नहीं होगा। कक्षा 3 से 5 छात्रों के लिए स्कूल बैग की अनुमति वजन 2.3 किलो है, कक्षा 6 से 7 छात्रों के लिए 4 किलो है, कक्षा 8 से 9 छात्रों के लिए 4.5 किलो है, और कक्षा 10 के छात्रों के लिए 5 किलो है।

छात्रों के लिए दिए गए होमवर्क की मात्रा के साथ-साथ स्कूल बैग का वजन अब कुछ समय के लिए लाइटलाइट में रहा है। 2015 में केंद्र ने स्कूल बैग के वजन को कम करने के लिए दिशा निर्देश जारी किया था।

अप्रैल 2016 में, सीबीएसई ने छात्रों के लिए स्कूल बैग के वजन को कम करने के तरीकों को नियोजित करने के लिए अपने सभी संबद्ध स्कूलों को भी एक नोटिस जारी किया।

यह फिर से शुरू किया गया कि स्कूलों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि छात्रों को समय-सारिणी के अनुसार आवश्यकतानुसार ऐसी पाठ्यपुस्तकें लेनी हो।

2016 में एमएचआरडी ने 25 केन्द्रीय विद्यालयों में गणित और विज्ञान में कोर कौशल सीखने में मदद करने के लिए छात्रों को टैबलेट प्रदान करके स्कूल बैग वजन कम करने के लिए एक पायलट परियोजना शुरू की।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

चिराग पासवान की दो टूक- मुश्किल होगी 2019 में NDA की डगर
30 दिसंबर,वुधवार को मोहराबादी मैदान मे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगे शिबू सोरेन
समझिये, केजरीवाल की 'ईमानदारी' की पोल खोलने वाला टैंकर घोटाला
दिल्ली विधानसभा चुनावः बिहारी नेताओं की प्रतिष्ठा भी यूं दांव पर
500 कार सवारों के साथ अन्ना ने किया “आजादी की दूसरी लड़ाई” का शंखनाद
एयरटेल,वोडाफोन,आयडिया ग्राहकों ने जियो पर मारे 13,500 करोड़ के मिस्ड कॉल
वीरांगना रेशमा रंगरेजी को राष्ट्रीय सम्मान क्यों नही मिल रहा !!
22 जनवरी को नहीं होगी निर्भया के किसी दरींदे को फांसी
बच सकती थी एम्स में आग से हुई तबाही, अगर...
राहुल ने मुंह खोला, कहा लोकपाल से नहीं मिटेगा भ्रष्टाचार
गाँव के गरीब महिलाओं तक को यूं टरकाते हैं मुख्यमंत्री नीतीश के सुशासित अधिकारी
प्रशांत किशोर की ब्रांडिंग में उलझे नीतीश, जदयू में आई भूचाल
वीडिय़ोः MP  ने मंत्री-पुलिस के सामने MLA को जूतों से यूं जमकर पीटा
नालंदा लोशिनिप संजीव सिन्हा ने कहाः रेकर्ड सुरक्षित होगें, अगली तिथि जल्द, न्याय होगा
फालुन गोंग का चीन में हो रहा यूं अमानवीय दमन
अब राजनीति में कूदेगें सिंघम का 'देवकांत सिकरे'!
भाजपा की वेबसाइट हैक, दिखे यूं अश्लील मैसेज
पत्रकारिता का ए.बी.सी.डी. का ज्ञान नही,चला रहा है चैनल व मीडीया स्कूल
वाह रे दैनिक हिन्दुस्तान ! भीड़ को गाली....खुद को ताली !!
RTI मामले में छत्तीसगढ़ नं.1, यूपी जीरो, बिहार का बेवसाइट तक नहीं, 14 साल में महज 2.25 फीसदी इस्तेमा...
प्राचीन नालन्दा विश्वविद्यालयः भारतीय संस्कृति से जुड़ाव और बिहार दर्शन की बड़ी प्रेरणा
कब टूटेगी झारखंडी नेताओ की संकीर्ण मानसिकता?
नक्सलियो के लिये शर्म है गांव के इन स्कूली बच्चो की चीख
5 सीटों पर कल की वोटिंग में कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter