» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम

Share Button

मई 2018 में मद्रास उच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से स्कूल के बैग के वजन को नियंत्रित करने और कक्षा 1 और 2 के लिए होमवर्क के साथ दूर करने के लिए राज्य सरकारों को निर्देश देने के लिए कहा था….”

INR. स्कूलों के बैग और स्कूल बैग के वजन को नियंत्रित करने के लिए, एमएचआरडी ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दिशा निर्देश तैयार करने का निर्देश दिया है। तैयार किए जाने वाले दिशा निर्देश भारत सरकार के निर्देशों के अनुसार होना चाहिए।

मंत्रालय ने उन सभी स्कूलों से भी पूछा है जो शिक्षा विभाग के अधीन आते हैं ताकि वे गृहकार्य से संबंधित सरकारी निर्देशों और तत्काल प्रभाव से बैग के वजन का पालन कर सकें।

प्रश्न में एमएचआरडी परिपत्र ने विशिष्ट निर्देश दिए हैं, जिन्हें शिक्षा विभाग के तहत सभी स्कूलों द्वारा तत्काल प्रभाव से लागू किया जाना चाहिए।

स्कूल अब कक्षा 1 और 2 के छात्रों को होमवर्क नहीं सौंप सकते हैं। केन्द्र सरकार ने यह निर्देश विभिन्न राज्यों में शिक्षा विभाग के अंतर्गत चलन वाले स्कूलों के लिए ही दिए है।

एमएचआरडी द्वारा जारी आदेश में प्राईवेट सकूलों की कोई चर्चा नहीं है, जबकि देश भर में सबसे ज्यादा मनमानी करने वाले प्राईवेट स्कूल ही हैं, जो अपने स्कूलों द्वारा छापी गई किताबों काफी बोझ बच्चों को सौंप देते हैं और हर वर्ष अपना सिलेबल-किताब बदल देते हैं। ताकि निचली कक्षा से पास होकर आने वाला कोई छात्र या छात्रा अपने सीनियर की किताबों का पुन: उपयोग न कर सकें।

स्कूलों को छात्रों को अतिरिक्त सामग्री, और अतिरिक्त सामग्री निर्धारित करने की भी अनुमति नहीं है। एमएचआरडी ने छात्रों के लिए अनुमत वजन सीमा भी तय की है।

कक्षा 1 और 2 छात्रों के स्कूल बैग का वजन 1.5 किलो से अधिक नहीं होगा। कक्षा 3 से 5 छात्रों के लिए स्कूल बैग की अनुमति वजन 2.3 किलो है, कक्षा 6 से 7 छात्रों के लिए 4 किलो है, कक्षा 8 से 9 छात्रों के लिए 4.5 किलो है, और कक्षा 10 के छात्रों के लिए 5 किलो है।

छात्रों के लिए दिए गए होमवर्क की मात्रा के साथ-साथ स्कूल बैग का वजन अब कुछ समय के लिए लाइटलाइट में रहा है। 2015 में केंद्र ने स्कूल बैग के वजन को कम करने के लिए दिशा निर्देश जारी किया था।

अप्रैल 2016 में, सीबीएसई ने छात्रों के लिए स्कूल बैग के वजन को कम करने के तरीकों को नियोजित करने के लिए अपने सभी संबद्ध स्कूलों को भी एक नोटिस जारी किया।

यह फिर से शुरू किया गया कि स्कूलों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि छात्रों को समय-सारिणी के अनुसार आवश्यकतानुसार ऐसी पाठ्यपुस्तकें लेनी हो।

2016 में एमएचआरडी ने 25 केन्द्रीय विद्यालयों में गणित और विज्ञान में कोर कौशल सीखने में मदद करने के लिए छात्रों को टैबलेट प्रदान करके स्कूल बैग वजन कम करने के लिए एक पायलट परियोजना शुरू की।

Share Button

Related News:

फर्जी निकला रांची प्रेस क्लब का पता? डाकघर से यूं लौटी लीगल नोटिश
दैनिक भास्कर रोहतक के एडीटोरियल हेड जितेंद्र श्रीवास्तव ने ट्रेन से कटकर की आत्महत्या
धौनी के बाद सुबोध महतो बने झारखंड की शान, कभी साथ खेले धौनी मे इर्ष्या इतनी कि दो शब्द भी न बोले, ने...
"पूर्णतः तीन वर्गों में बँट चूका है झारखंड का आदिवासी समुदाय"
SC का यह फैसला CBI की साख बचाने की बड़ी कोशिश
लंदन में दंगा जारी, अब तक 500 युवक गिरफ्तार
पुलिस गिरफ्त में पुलवामा आतंकी हमले के वांछित नौशाद उर्फ दानिश की पत्नी एवं बेटी
समूचे देश में सजा है बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के नाम पर ठगी का बाजार
कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली में राहुल गांधी का मोदी पर आक्रामक हमला
कहीं मनमोहन सरकार के लिए खतरे की घंटी न बन जाए विपक्ष के साथ ये "डील"
झारखंड: गुरूजी ने राज्यपाल के सामने सरकार बनाने का दावा ठोंका
राखी सावंत ने अन्ना को राम और केजरीवाल को रावण बताया
नीतीश जी : चिराग तले अन्धेरा वाली कहावत चरितार्थ है आपके घर-जिले नालंदा में!!
क्या गुल खिलाएगी 'साहिब' के 'साहब' की नाराजगी !
नीतीश के साथ पटना में "आरक्षण" देखेंगे अमिताभ
असहाय व असुरक्षित है भारत :रवि शंकर प्रसाद
टीम चयन से नाराज गावस्कर को आई धोनी की याद
राहुल ने ‘अनुभव-उर्जा’ को सौंपी राजस्थान की कमान
जयरामपेशों का अड्डा बना आयडा पार्क
जाति-धर्म के नाम पर नहीं, सामाजिक और शैक्षणिक आधार पर हो आरक्षणः उपेन्द्र कुशवाहा
कांग्रेस की यह कैसी घटिया राजनीति!
एक सफल फैशन डिजाइनर बनने के पहले इस तरह करें खुद को तैयार
बिहारशरीफ में गंदगी से लोगों को जीना मुश्किल,प्रशासन लापरवाह
सामना अखबार और शिबसेना-मनसे पर तत्काल प्रतिबंध लगे

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter