लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम

Share Button

मई 2018 में मद्रास उच्च न्यायालय ने केंद्र सरकार से स्कूल के बैग के वजन को नियंत्रित करने और कक्षा 1 और 2 के लिए होमवर्क के साथ दूर करने के लिए राज्य सरकारों को निर्देश देने के लिए कहा था….”

INR. स्कूलों के बैग और स्कूल बैग के वजन को नियंत्रित करने के लिए, एमएचआरडी ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दिशा निर्देश तैयार करने का निर्देश दिया है। तैयार किए जाने वाले दिशा निर्देश भारत सरकार के निर्देशों के अनुसार होना चाहिए।

मंत्रालय ने उन सभी स्कूलों से भी पूछा है जो शिक्षा विभाग के अधीन आते हैं ताकि वे गृहकार्य से संबंधित सरकारी निर्देशों और तत्काल प्रभाव से बैग के वजन का पालन कर सकें।

प्रश्न में एमएचआरडी परिपत्र ने विशिष्ट निर्देश दिए हैं, जिन्हें शिक्षा विभाग के तहत सभी स्कूलों द्वारा तत्काल प्रभाव से लागू किया जाना चाहिए।

स्कूल अब कक्षा 1 और 2 के छात्रों को होमवर्क नहीं सौंप सकते हैं। केन्द्र सरकार ने यह निर्देश विभिन्न राज्यों में शिक्षा विभाग के अंतर्गत चलन वाले स्कूलों के लिए ही दिए है।

एमएचआरडी द्वारा जारी आदेश में प्राईवेट सकूलों की कोई चर्चा नहीं है, जबकि देश भर में सबसे ज्यादा मनमानी करने वाले प्राईवेट स्कूल ही हैं, जो अपने स्कूलों द्वारा छापी गई किताबों काफी बोझ बच्चों को सौंप देते हैं और हर वर्ष अपना सिलेबल-किताब बदल देते हैं। ताकि निचली कक्षा से पास होकर आने वाला कोई छात्र या छात्रा अपने सीनियर की किताबों का पुन: उपयोग न कर सकें।

स्कूलों को छात्रों को अतिरिक्त सामग्री, और अतिरिक्त सामग्री निर्धारित करने की भी अनुमति नहीं है। एमएचआरडी ने छात्रों के लिए अनुमत वजन सीमा भी तय की है।

कक्षा 1 और 2 छात्रों के स्कूल बैग का वजन 1.5 किलो से अधिक नहीं होगा। कक्षा 3 से 5 छात्रों के लिए स्कूल बैग की अनुमति वजन 2.3 किलो है, कक्षा 6 से 7 छात्रों के लिए 4 किलो है, कक्षा 8 से 9 छात्रों के लिए 4.5 किलो है, और कक्षा 10 के छात्रों के लिए 5 किलो है।

छात्रों के लिए दिए गए होमवर्क की मात्रा के साथ-साथ स्कूल बैग का वजन अब कुछ समय के लिए लाइटलाइट में रहा है। 2015 में केंद्र ने स्कूल बैग के वजन को कम करने के लिए दिशा निर्देश जारी किया था।

अप्रैल 2016 में, सीबीएसई ने छात्रों के लिए स्कूल बैग के वजन को कम करने के तरीकों को नियोजित करने के लिए अपने सभी संबद्ध स्कूलों को भी एक नोटिस जारी किया।

यह फिर से शुरू किया गया कि स्कूलों को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि छात्रों को समय-सारिणी के अनुसार आवश्यकतानुसार ऐसी पाठ्यपुस्तकें लेनी हो।

2016 में एमएचआरडी ने 25 केन्द्रीय विद्यालयों में गणित और विज्ञान में कोर कौशल सीखने में मदद करने के लिए छात्रों को टैबलेट प्रदान करके स्कूल बैग वजन कम करने के लिए एक पायलट परियोजना शुरू की।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

यहां तो गूंगे बहरे बसते है, खुदा जाने कहां जलसा हुआ होगा ?
भाडे की ईंट,भाडे का रोडा :“गुरुजी” ने जोडा कुनबा
इलाहाबाद हाई कोर्ट ने भेजा था गैंगरेप के मामले में को राहुल गांधी नोटिस
खट्टर सरकार को हाई कोर्ट की कड़ी फटकार, कहा- राजनीतिक स्वार्थ में डूबी रही सरकार
'द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर' को लेकर हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल
प्रसिद्ध हास्य कवि प्रदीप चौबे की कैंसर से मौत
गैंग रेप-मर्डर में बंद MLA से मिलने जेल पहुंचे BJP MP साक्षी महाराज, बोले- 'शुक्रिया कहना था'
बिहार में क़ानून व्यवस्था की ताजा स्थति से संतुष्ट हैं नीतीश कुमार
कहीं फिल्म पीपली लाइव का नत्था बन कर रह न जाएं अन्ना हजारे
चमचागिरी+ अहंकारी = ब्लॉगर कृष्ण बिहारी
रहिमन पानी राखिए, बिन पानी सब सून......
सुबोधकांत बनेंगे मुख्यमंत्री!
कांग्रेस की यह कैसी घटिया राजनीति!
समूचे देश में सजा है बेटी पढ़ाओ बेटी बचाओ के नाम पर ठगी का बाजार
फेसबुक सेः देशभक्ति वनाम झंडे का फंडा
एन.एच-33 : देखिए मनमानी के फोर लेनिंग का एक नमुना
अंधेर नगरी चौपट राजा यानि नक्सली मुख्यमंत्री शिबू सोरेन
नालंदा प्रशासन को बिहारशरीफ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में हादसा या वारदात का इंतजार है?
अन्ना को रामदेव न समझे सरकारः खुफिया विभाग ने दी चेतावनी
बिहारशरीफ में गंदगी से लोगों को जीना मुश्किल,प्रशासन लापरवाह
ST-MT की गला दबाकर हत्या करने जैसी है CNT-CPT में संशोधन: नीतीश
दैनिक भास्कर रोहतक के एडीटोरियल हेड जितेंद्र श्रीवास्तव ने ट्रेन से कटकर की आत्महत्या
राम रहीम उर्फ कैदी नंबर1997 को दफा 376, 511, 501 के तहत 10 साल की सजा
आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter