» हल्दी घाटी युद्ध की 443वीं युद्धतिथि 18 जून को, शहीदों की स्मृति में दीप महोत्सव   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » यहां यूं हालत में मिली IAF  का लापता AN-32, सभी 13 जवानों की मौत   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » ट्रक से टकराई महारानी बस, 9 की मौत, 25 घायल, हादसे की दर्दनाक तस्वीरें   » बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय   » गैंग रेप-मर्डर में बंद MLA से मिलने जेल पहुंचे BJP MP साक्षी महाराज, बोले- ‘शुक्रिया कहना था’   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » मोदी सरकार में अछूत बनी जदयू नेता नीतीश ने कहा- सांकेतिक मंत्री पद की जरूरत नहीं  

रोंगटे खड़े कर देने वाली इस अंधविश्वासी परंपरा का इन्हें रहता है साल भर इंतजार

Share Button

“इनकी मान्यताएं हैं कि पेट की नाभि के पास की चमड़ी मोटी होती है, उस स्थान पर गर्म छड़ से दागने पर बच्चों में पेट से संबंधित बीमारियां नहीं होती….”

INR. कड़ाके की ठंड.. क्या बच्चे.. क्या बूढ़े, क्या जवान सभी इस सर्द मौसम में रजाई के भीतर आराम करते सूर्य देव के निकलने का इंतजार करते हैं। उसके बाद ही उनकी शुरू होती है दिनचर्या।

लेकिन कोल्हान की धरती अनोखी परंपराओ के लिए जानी जाती रही है। यहां आज भी पारंपरिक अंधविश्वास पर आस्था भारी है। पूरा कोल्हान कड़ाके की ठंड में ठिठुर रहा है, उधर यहां का संथाल समुदाय मकर संक्रांति के अहले सुबह सूर्योदय से पहले अपने दुधमुंएं मासूम पर अत्याचार करने के लिए घंटों लाईन में खड़े हैं।

कारण आज इन मासूमों को गर्म छड़ से दागा जाएगा, जिससे ये मासूम सदा के लिए निरोग हो जाएंगे….। अब आप समझ सकते हैं, आज भी यहां किस प्रकार से आस्था पर अंधविश्वास हावी है।

आम तौर पर जो मां अपने बच्चों को सीने से लगाकर इस कड़ाके की में रजाई के भीतर रहती है, वहीं संथाल समाज की माएं अपने दुधमुंहे बच्चों के शरीर पर गर्म लोहे से दाग लगवाती है।

झारखंड का आदिवासी समुदाय आज भी परंपराओं का वाहक है, लेकिन 21 वीं सदी के झारखंड में परंपरा के नाम पर मासूमों पर इस प्रकार का अत्याचार…

आखिर क्या कर रहा है, समाज का शिक्षित वर्ग ! क्या इन मासूमों पर अत्याचार के किसी  सटीक कारण को आज का विज्ञान परिभाषित करता है ?

जबकि इनकी मान्यताएं हैं कि पेट की नाभि के पास की चमड़ी मोटी होती है, उस स्थान पर गर्म छड़ से दागने पर बच्चों में पेट से संबंधित बीमारियां नहीं होती। अब इन महिलाओं को कौन समझाए..।

वैसे समाज के बुद्धिजीवी भी इस परंपरा को बंद करने के पक्षधर हैं, लेकिन पहल करने की हिमाकत किसी में नहीं है। सरायकेला, जमशेदपुर और चाईबासा के ग्रामीण क्षेत्रों में आज भी ये परंपरा जिंदा है।

अब सरकार को इस दिशा में कारगर कदम उठाने की आवश्यकता है, ताकि इन मासूमों पर अत्याचार बंद हो सके।

 

Share Button

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
» डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!   » राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य   » ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास  
error: Content is protected ! india news reporter