राहुल गाँधी और आतंकी डार की वायरल फोटो की क्या है सच्चाई ?

Share Button

“इंडिया न्यूज रिपोर्टर ऐसे फोटोशॉप्ड तथा फर्जी वायरल मैसेज से सावधान रहने की पहल करती है। कोई ऐसा मैसेज मिले, उस पर विश्वास करने से पहले उससे जुड़े की वर्डस को इंटरनेट पर जरूर सर्च कर लें, ताकि आपको सच्चाई जान सकें। सोशल मीडिया पर सदभाव बांटे, अफवाह नहीं …..” 

INR. सोशल साइट अभिव्यक्ति का एक सशक्त माध्यम माना जाता है लेकिन आज इसका दुरूपयोग व्यापक पैमाने पर किया जा रहा है।सोशल साइटों पर आए दिन उलूल’जलूल मैसेज वायरल करने तथा उसकी सच्चाई जाने फाॅरवर्ड करने की प्रथा चल पड़ी है। पुलवामा आतंकी हमले के बाद सोशल मीडिया पर एक फोटो खूब  वायरल हो रहा है।

इस वायरल फोटो में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी के साथ खड़ा शख्स  पुलवामा आतंकी हमले का फिदायीन आदिल अहमद डार बताया जा रहा है तो वही दूसरी तरफ सेना से संबंधित एक फर्जी खाता भी खूब शेयर हो रहा है। जिसमें फिल्म स्टार अक्षय कुमार देश की जनता से सैनिकों के सेवार्थ दान की बात कह रहे हैं ।

पहले आते हैं कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी की वायरल फोटो मैसेज पर।इस मैसेज में भीड़ के साथ उनकी एक फोटो है। इस फोटो के बारे में कहा जा रहा है कि राहुल गाँधी के साथ खड़ा शख्स कोई और नहीं बल्कि पुलवामा आतंकी आदिल अहमद डार है।

इसमें सवाल भी पूछा जा रहा है कि कि क्या यह व्यक्ति राहुल गाँधी का खास है? क्या इस हमले के पीछे कांग्रेस का हाथ है?  इस मैसेज के बहाने कांग्रेस पर निशाना साधा जा रहा है।

यह वायरल मैसेज सौ फीसदी फेक बताया जा रहा है। इसमें फोटोशॉप सॉफ्टवेयर के माध्यम से राहुल गाँधी के बगल में खड़े व्यक्ति के चेहरे पर आतंकी की फोटो चिपका दी गई है।

गूगल रिवर्स सर्च करने पर वायरल फोटो की ऑरिजल फोटो तुरंत मिल जाता है।जिस पर फोटोशॉप कर यह वायरल फोटो तैयार की गई है।

इंटरनेट पर मौजूद असली फोटो के साथ जो कैप्सन है उसके अनुसार यह फोटो पांच साल पुरानी है।पांच साल पहले 28 फरवरी को राहुल गाँधी  उतर प्रदेश के बाराबंकी स्थित हाजी वारिस अली शाह की दरगाह पर गए थे।

राहुल गांधी के बगल में खड़े पूर्व सांसद जितिन प्रसाद खड़े हैं। वायरल फोटो में जितिन प्रसाद के चेहरे पर फोटोशॉप सॉफ्टवेयर के माध्यम से आतंकी आदिल की फोटो चस्पा कर वायरल कर दिया गया।

फोटो शॉप सॉफ्टवेयर के द्वारा किसी भी फोटो के साथ आसानी से छेड़छाड़ की जा सकती है। इसी का फायदा शरारती तत्व उठा लेते हैं तथा गलत तथा भडकाउ मैसज शेयर कर देते हैं।

वहीं दूसरी तरफ पिछले कई साल से  ARMY WELFARE FUND BATTLE CASUALTIES नाम से फर्जी खाता भी शेयर किया जा रहा है। या तो खाता गलत है या खबर गलत है ? आखिर यह सच्चाई क्या है ?

सुपरस्टार अक्षय कुमार के सुझाव पर मोदी सरकार का एक और अच्छा फैसला : ……..
एक रूपये मात्र रोज का भुगतान वो भी भारतीय सेना के लिए। मोदी सरकार ने कल कैबिनेट की मीटिंग में भारतीय सेना की आधुनिकता और सेना के जवानो जो कि युद्ध क्षेत्र में घायल होते है या शहीद होते है उनके लिए एक बैंक अकाउंट खोल ही दिया।जिसमे हर भारतीय अपनी स्वेक्षा से कितना भी दान दे सकता है। जो कि 1 रुपए से शुरू होकर असीमित है।

इस पैसे का प्रयोग सेना तथा अर्धसैनिक बलो के लिए हथियार खरीदना भी होगा । मन की बात तथा फेसबुक, ट्वीटर,व्हाट्सएप्प पर लोगो के सुझाव पर आज के जलते हालात पर मोदी सरकार ने अंततः फैसला लेते हुए नई दिल्ली, सिंडिकेट बैंक में आर्मी वेलफेयर फण्ड बैटल कैजुअल्टी फण्ड अकाउंट खोला है।

यह Film Star Akshay Kumar का मास्टर स्ट्रोक है। जहाँ से भारत को सुपर पॉवर बनने से कोई नहीं रोक सकता। भारत की 130 करोड़ जनसंख्या में से अगर 70% भी केवल एक रुपया इस फण्ड में रोज़ डालते है तो वो 1 रुपये एक दिन में 100 करोड़ होगा। 30 दिन में 3000 करोड़ और 36000 करोड़ एक साल में। 36,000 करोड़ तो पाकिस्तान का सालाना रक्षा बजट भी नहीं है।

हमलोग प्रतिदिन 100 या 1000 रुपया रोज़ फालतू के काम में खर्च कर देते है लेकिन यदि हमलोग एक रूपये सेना के लिए दिया तो सचमुच भारत एक सुपर पॉवर जरूर बनेगा। आपका ये रुपया सीधे रक्षा मंत्रालय के सेना सहायता एवं वॉर कैजुअल्टी फण्ड में जमा होगा। जो सैन्य सामग्री और सेना के जवानो के काम आएगा। इसलिए मोदीजी के इस अभियान से जुड़कर सीधे तौर पर सेना की मदद करें।

पाकिस्तान हाय हाय कर, सड़क जाम करने और बयानबाजी करने से कुछ नहीं होगा। मोदी और देश की जनता की सोच को अमलीजामा पहनाये और अपने देश की सेना को मजबूत बनाये। जिससे पकिस्तान और चीन जैसे देशो को उसकी बिना किसी देश की सहायता से उनकी औकात बता सके। बैंक डिटेल्स नीचे दिए गए है। Bank Details:
SYNDICATE BANK
A/C NAME: ARMY WELFARE FUND BATTLE CASUALTIES,
A/C NO: 90552010165915
IFSC CODE: SYNB0009055
SOUTH EXTENSION BRANCH,NEW DELHI.  इस सन्देश को सभी जगह फैला दे ताकि सभी 130 करोड़ भारतीयो को अपने कर्तव्यों का पता चल जाये। सभी ग्रुप और पर्सनल no. पर भी भेजें। 
जय हिन्द। वन्दे मातरम् ।

व्हाट्सऐप्प फॉरवर्ड के इस जमाने में कुछ भी फारवर्ड हो रहा है और देशभक्ति के नाम पर तो कोई बात ही नहीं है। जवाब फॉरवर्ड करने वालों को ही देना चाहिए। आम आदमी को इतना सतर्क तो रहना ही चाहिए पर लोग बेवकूफ बन रहे हैं ।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

इसे पढ़िए और पहल कीजिएः जरुरी है दासता की इन बेडियों को उतार फेंकना
कुख्यात नक्सली कुदंन पाहन की फांसी की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे विकास मुंडा, कहा- सरेंडर की हो ...
सवाल न्यायपालिका की स्वायत्तता का
माउंट एवरेस्ट पर 10 हजार किलो से अधिक इकट्ठा हुआ कूड़ा
ममता की रैली में शामिल हुए भाजपा के 'शत्रु', पार्टी ने दिए कार्रवाई के संकेत
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि पर सफेदपोशों के अवैध होटलों-मकानों से बिजली-पानी कनेक्शन तक काटने में क...
कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती
पीएम मोदी के खिलाफ महागठबंधन प्रत्याशी तेज बहादुर का नामांकण रद्द! जाएंगे सुप्रीम कोर्ट
सेलरी नहीं मिलने से क्षुब्ध ड्राइवर ने 'इंडिया न्यूज' चैनल के मालिक को 'ठोंका' !
चुनाव पूर्व आया बड़ा सर्वेः यूं फिर रहेंगे नंबर वन केजरीवाल
14 वर्ष बाद भी बिहार के अंगीभूत कॉलेजों में चल रही इंटर की पढ़ाई !
चुनाव के दौरान एक बड़ा नक्सली हमला, आइईडी विस्फोट में 16 कमांडो शहीद, 27 वाहनों को लगाई आग
आईना देख बौखलाये भाजपाई, वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र पर किया थाना में मुकदमा
JUJ के पत्रकारों को सुरक्षा और न्याय के संदर्भ में झारखंड DGP ने दिये कई टिप्स
बिहार में एनआरसी लागू होने का सवाल ही नहीं :नीतीश कुमार
देश के इन 112 विभूतियों को मिले हैं पद्म पुरस्कार
कानून बनाओ या अध्यादेश लाओ, राममंदिर जल्द बनाओ : उद्धव ठाकरे
दिल्ली का दंगल शुरु, 8 फरवरी को वोटिंग, 11 फरवरी को आएंगें नतीजे
Jio यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर कॉलिंग के लिए कराने होंगे ये रिचार्ज
बिहारः यहां माता सीता ने की थी प्रथम छठ व्रत, मंदिर में मौजूद आज भी उनके चरण !
इस बार यूं पलटी मारने के मूड में दिख रहा नीतीश का नालंदा
संदर्भ निर्भया गैंगरेपः जानिए फांसी की सजा से जुड़े कुछ अनसुने तथ्य
शादी के बहाने बार-बार यूं बिकती हैं लड़कियां और नेता 'ट्रैफिकिंग' को 'ट्रैफिक' समझते
भारतीय मूल की इस दंपति को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
Menu
error: Content is protected ! india news reporter