राष्ट्रपति-प्रधानमंत्री से भी अधिक मजबूत रही अनंत सिंह की सुरक्षा व्यवस्था

Share Button

एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क। मोकामा के निर्दलीय विधायक अनंत सिंह की सुरक्षा व्यवस्था। पटना की SSP का इंतजाम, जो किसी अभियुक्त के लिए आज तक नहीं हुआ।

5 SP, चार ASP, 5 DSP और 29 थानाध्यक्ष। 50 से ज्यादा दूसरे पुलिस पदाधिकारी और तकरीबन एक हजार पुलिस के हथियार बंद जवान। पुलिस की 100 से ज्यादा गाड़ियां। और फिर दंगा निरोधक दस्ते के जवानों की एक पूरी कंपनी।

ये तमाम व्यवस्था आज सिर्फ एक आदमी की सुरक्षा के लिए की गयी थी। वो आदमी ना तो प्रधानमंत्री था ना ही राष्ट्रपति। तो क्या फिर वो अजमल कसाब की तरह का आतंकी था, जिसके लिए पटना पुलिस ने इस किस्म की सुरक्षा व्यवस्था की थी।

ये सारा बंदोबस्त बिहार पुलिस ने अनंत सिंह के लिए किया था, जिन्हें आज दिल्ली से पटना लाया गया। पटना एयरपोर्ट से लेकर बाढ़ कोर्ट तक और फिर बाढ़ कोर्ट से वापस बेऊर जेल तक। अनंत सिंह पुलिस की इसी सुरक्षा व्यवस्था में रहे।

पटना की सीनियर एस पी ने बड़ी मीटिंग कर ये सारा इंतजाम किया था। SSP के ऑफिस से कल रात ही ये लिखित आदेश निकाला गया और आज सुबह से ही पूरे जिले की पुलिस रोड पर थी। 

पटना पुलिस के दो ASP अनंत सिंह को दिल्ली से फ्लाइट में साथ लेकर आये। एयरपोर्ट पर प्लेन के ठीक नीचे पुलिस की गाड़ी खड़ी थी। एयरपोर्ट के अंदर सिर्फ राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री की गाड़ी जाती थी। बिहार पुलिस ने अनंत सिंह के लिए रनवे तक गाड़ी भेजी। 

अनंत सिंह को ले जाने के लिए दो कैदी वैन तैयार थे। एक में 20 सिपाहियों के साथ मसौढ़ी के थानेदार मौजूद थे। दूसरे वैन में पुलिस इंस्पेक्टर तारकेश्वर नाथ तिवारी भी 20 जवानों के साथ मौजूद थे।

कैदी वैन के स्कार्ट के लिए फुलवारी शरीफ के डीएसपी संजय कुमार पांडेय सिपाहियों की पूरी पलटन के साथ मौजूद थे। उनके साथ तीन थानों के थानाध्यक्ष अपनी गाड़ी और सिपाही के साथ तैनात थे। राजीवनगर, शास्त्रीनगर और बुद्धाकॉलोनी के थानेदार अपनी गाड़ी में सिपाहियों को भर कर स्कार्ट के लिए मौजूद थे।

अनंत सिंह को ले जाने वाले कैदी वैन के स्कार्ट के लिए पुलिस की बड़ी गाड़ी में दंगा निरोधी कंपनी के 16 सिपाहियों के साथ इंस्पेक्टर सुधीर कुमार अलग से तैनात थे। पटना एयरपोर्ट के गेट पर ASP पटना सिटी, DSP पटना मुख्यालय, DSP पीसीआर, DSP पुलिस लाइन के साथ बेऊर और नौबतपुर के थानेदार तैनात थे। सब के साथ पुलिसकर्मियों की टीम तो थी ही, पुलिस से 42 जवानों को अलग से तैनात किया गया था।

हवाई अड्डे के बाहरी गेट पर थानाध्यक्ष नेऊरा, थानाध्यक्ष शाहपुर और थानाध्यक्ष जानीपुर तैनात थे। उनके साथ अपने थाने की पुलिस तो थी ही पुलिस लाइन से भी 20 सिपाहियों को भेजा गया था।

-हवाई अड्डे के बाद भी व्यवस्था ऐसी थी कि परिंदा पर नही मार सके। पटेल गोलंबर यानि लोजपा ऑफिस के पास सुल्तानगंज के थानेदार 20 से ज्यादा सिपाहियों के साथ तैनात थे।

सचिवालय के बिरसा मुंडा चौक के पास सचिवालय थाने के थानेदार के साथ सिपाहियों की इतनी ही बड़ी टीम थी। आर ब्लॉक पर अलग से 10 सिपाहियों के साथ एक सब इंस्पेक्टर की तैनाती थी।

पटना के लगभग हर थानेदार को इसी काम में लगा दिया गया था। पूरे रास्ते सचिवालय, जक्कनपुर, पत्रकारनगर, कंकड़बाग, अगमकुआं, बाइपास, दीदारगंज, फतुहा, खुसरूपुर, बख्तियारपु, अथमलगोला और बाढ़ थाने के थानेदार भारी तादाद में पुलिस बल के साथ गश्ती कर रहे थे।

एयरपोर्ट से बाढ़ के रास्ते में कई स्थानों पर सुरक्षा के ज्यादा प्रबंध थे। दीदारगंज टोल प्लाजा, बख्तियारपुर चौक, अथमलगोला चौक पर पुलिस पदाधिकारियों के साथ 20-20 हथियारबंद जवानों को तैनात किया गया था।

बाढ़ कोर्ट को तो पुलिस छावनी में तब्दील कर दिया गया था। बाढ़ कोर्ट की सुरक्षा के प्रभारी फतुहा के ASP थे। उनके साथ शाहजहांपुर, दनियावां, मालसलामी और सालिमपुर के थानेदार अपने अपने थानों की पुलिस के साथ मौजूद थे। बाढ़ कोर्ट की सुरक्षा के लिए पुलिस लाइन से 150 लाठीधारी जवानों को भेजा गया था।

अनंत सिंह की सुरक्षा पटना के चार एसपी कर रहे थे। पटना के ट्रैफिक एसपी खुद घूम कर ट्रैफिक ठीक करा रहे थे, सिटी एसपी मध्य, सिटी एसपी पूर्वी और सिटी एसपी पश्चिमी के साथ साथ ग्रामीण एसपी को भी घूम घूम कर सुरक्षा व्यवस्था देखने का जिम्मा दिया गया था।

अनंत सिंह के प्लेन से उतरने के बाद से लेकर बाढ़ कोर्ट में पेश होने तक के हर क्षण की वीडियोग्राफी हो रही थी। पुलिस ने कम से कम पांच वीडियो कैमरों को अनंत सिंह के साथ तैनात कर रखा था।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

बिहारः बालिका गृह की 13 वर्षीया दिव्यांग नाबालिग लड़की मां बनी !
डॉ. जायसवाल की ताजपोशी कहीं सुशील मोदी की काट तो नहीं!
एक दशक बाद सलमान खान का ब्रिटेन में द-बंग टूर
गुजरात चुनाव पूर्व भाजपा को बड़ा झटका, मोदी राज से नाराज सांसद ने दिया इस्तीफा
दुर्बार के 7000 सेक्स वर्करों ने दिया गलोवल वार्मिंग का अनोखा संदेश
इस कारण NDA में फंसी JDU-BJP-LJP की पेंच
युवा तुर्क छात्र नेता कन्हैया का यहां से लोकसभा चुनाव लड़ना तय
फ्रॉडिंग में ICICI बैंक अव्वल, SBI सेकेंड
सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड को लेकर दिये अहम फैसले, ये आपको जानना है जरुरी
न्यू एंंटी करप्शन लॉ के तहत अब सेक्स डिमांड होगी रिश्वत
RTI मामले में छत्तीसगढ़ नं.1, यूपी जीरो, बिहार का बेवसाइट तक नहीं, 14 साल में महज 2.25 फीसदी इस्तेमा...
नहीं रहे जलेबी खाते-खाते पवन जैन से यूं बने मुनि तरुण सागर महाराज
पटना के GV मॉल में लगी भीषण आग, यूं हुआ करोड़ो की संपति स्वाहा
50-50 फॉमूले ने 20 साल बाद भाजपा को फिर किया सत्ता से दूर
एक इंटरनेशनल गोल्ड मेडलिस्ट खिलाड़ी, जो दूसरों की खेत में चला रहा हल-कुदाल
शपथ ग्रहण से पहले किसान कर्जमाफी की तैयारी शुरू
गरजे तेजस्वी- ‘मेरे अंदर लालू जी का खून, मैं किसी से डरने वाला नहीं’
विधानसभा में बोले CM नीतीश- बिहार में लागू नहीं होगी NRC, जातीय जनगणना कराए केन्द्र सरकार
नक्सलियों ने फूंका डुमरी बिहार रेलवे स्टेशन, मालगाड़ी इंजन में लगाई आग,स्टेशन मास्टर-ड्राइवर के वॉकी...
कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?
खुफिया सूचना तंत्र को मजबूत करने का समय
बोले काटजू- "सत्ता से बाहर होगी भाजपा, यूपी-बिहार में रहेगी नील"
हाइपोथर्मियाः कोटा, बीकानेर एवं राजकोट में अब तक 500 से उपर बच्चों की मौत
30 साल के जालसाजों पर कहर ढायेगी बिहार शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर का यह फैसला

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter