» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य

Share Button

INR. एक समय अयोध्या में  राममंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद ने भारतीय राजनीति की दशा और दिशा को हमेशा के लिए बदलकर रख दिया था। पिछले चार दशक से इस मुद्दे पर एक खास राजनीतिक दल ने जमकर सियासी रोटियां सेंकी हैं।

लेकिन आज उसी दल ने इस मुद्दे के साथ राम मंदिर आंदोलन के नायकों को भी भूल गई है। राम मंदिर आंदोलन से जुड़े नेताओं को राजनीतिक हाशिए पर धकेला जा रहा है।

90 के दशक के पूर्व देश में राम मंदिर आंदोलन की लहर सी चल पड़ी थी।  लालकृष्ण आडवाणी राम मंदिर आंदोलन के सबसे बड़े चेहरे बनकर उभरे।

इसी मुद्दे की बुनियाद पर 1989 के लोकसभा के चुनाव में नौ साल पुरानी बीजेपी दो  सीटों से बढ़कर 85 पर पहुंच गई थी। जिसका परिणाम यह हुआ कि आज केंद्र व देश के 19 राज्यों की सत्ता पर काबिज होकर दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी बीजेपी बनी हुई है।

राम मंदिर आंदोलन  के मुद्दे से  भाजपा आज केंद्र में एक ताकतवर सरकार के रूप में उभरी हुई है। दूसरी बार भी सत्ता में वापसी को लेकर मैदान में मजबूती से डटी हुई है।

राम मंदिर आंदोलन के प्रणेता और नायक भाजपा की राजनीति पटल से आज गायब हैं।उन्हें हाशिए पर धकेल दिया गया है। भाजपा में अटल,आडवाणी और जोशी युग समाप्त हो गया है।

उनके जगह एक ताकतवर नेता पीएम नरेंद्र मोदी ने जगह स्थापित कर ली है। राम मंदिर के शलाका पुरुष लालकृष्ण आडवाणी भी इस बार राजनीतिक नेपथ्य में चले गए हैं।

साथ ही राम मंदिर आंदोलन से जुड़े कई अन्य दिग्गजों का भी पार्टी ने बेटिकट कर दिया है। राम मंदिर के सभी नायकों के लिए पार्टी ‘खलनायक’ बनकर उभरी है।

राम मंदिर आंदोलन से जुड़े लगभग सभी   वरिष्ठ नेताओं को भाजपा ने इस बार बेटिकट कर दिया है। जिससे वें चुनाव मैदान में नहीं है। राम मंदिर आंदोलन के शलाका पुरुष और राम रथ यात्रा के के नायक लालकृष्ण आडवाणी को इस बार भाजपा ने टिकट नहीं दिया है।

राम मंदिर आंदोलन के दौरान रथयात्रा के कारण लालकृष्ण आडवाणी सुर्खियों में आए थे जहां उन्हें बिहार में लालू प्रसाद की सरकार ने गिरफ्तार किया था। उनकी गिरफ्तारी ने उन्हें रातों रात भाजपा में हीरो बना दिया था। 

राम रथ यात्रा और लालकृष्ण आडवाणी के व्यक्तित्व की ही यह देन थी कि  1991 में राम मंदिर आंदोलन से जुड़े जिन लोगों को भाजपा ने टिकट दिया था  वें सभी सांसद बन गए।

भाजपा में अटल -आडवाणी और जोशी युग की शुरुआत हो चुकी थी। राम मंदिर आंदोलन से जुड़े एक और दिग्गज  वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी को पिछले बार कानपुर से टिकट मिला था। लेकिन इस बार उनके साथ भी बीजेपी का रवैया उपेक्षित रहा।

मुरली मनोहर जोशी भी लालकृष्ण आडवाणी की तरह  तिरंगा यात्रा निकालकर सुर्खियों में आएं थे। उन्होंने  दक्षिण भारत से लेकर कश्मीर तक तिरंगा यात्रा निकाली थी। यहाँ तक कि उन्होंने  कश्मीर के लाल चौक पर तिरंगा भी  फहराया था।फिर वहाँ से यह यात्रा अयोध्या पहुँची थी।

राम मंदिर आंदोलन के  तीसरे बड़े हीरो विनय कटियार भी भाजपा की राजनीति में हाशिए पर हैं। श्री कटियार  अयोध्या में रहकर राम मंदिर आंदोलन चलाने का श्रेय उन्हें जाता है। उन्हें भी इस बार टिकट नहीं मिला है। जबकि विनय कटियार भाजपा में एक कद्दावर नेता माने जाते थे।

राम मंदिर आंदोलन के एक और हीरो  जौनपुर और हरिद्वार से सांसद रहें स्वामी चिन्यमानंद सरस्वती भी राजनीतिक पटल से गायब है।जबकि वे अटलबिहारी सरकार में गृह राज्यमंत्री भी थे।

अयोध्या के राम जन्म भूमि न्यास के सदस्य भगवाधारी डा. रामविलास दास वेदांती मछली शहर तथा प्रतापगढ से सांसद रह चुके हैं। लेकिन भाजपा ने इन्हें  कहीं से टिकट नहीं दिया  है। वे टिकट नहीं मिलने से पार्टी से नाराज भी चल रहे हैं। उनके बयान भी  मीडिया में  आए थे कि भाजपा राम मंदिर के संकल्प को भूल चुकी है। जिसका परिणाम भाजपा को भुगतना पड़ सकता है।

राम मंदिर आंदोलन में अग्रणी पंक्ति में रही भाजपा की एक बड़ी नेता  भगवा चोले वाली साध्वी उमा भारती भी इस बार बीजेपी की राजनीति से गायब हैं।

साध्वी उमा भारती एक समय  मंदिर आंदोलन के लिए अपने सिर के बाल मुडवा कर कार सेवकों के बीच पहुँच गई थी। गंगा सफाई योजना को लेकर साध्वी उमा भारती इन दिनों चर्चा में भी थी।

भाजपा के एक अन्य दिग्गज कलराज मिश्र अयोध्या से विशेष रूप से जुड़े रहे और हर आंदोलन में उनकी उपस्थिति देखी जाती थी। उन्हें भी उम्र का तकाजा बता कर चुनाव मैदान से बाहर कर दिया। वही भाजपा के पिछड़े वर्ग से आने वाले ओमप्रकाश वर्मा को भी पार्टी ने दरकिनार कर रखा है।

पार्टी के इस रवैये से समर्थकों में नाराजगी भी है। पार्टी की इस दोगली नीति को लेकर चर्चा जोरों पर है। पार्टी 75 साल के लोगों की टिकट काट रही है तो तो फिर अंबेदकर नगर से 75 वर्षीय मुकुट बिहारी वर्मा को टिकट बीजेपी ने कैसे दे दिया।

राम मंदिर आंदोलन के दौरान यूपी के सीएम रहे कल्याण सिंह उन दिनों जननायक के रूप में देखें जाते थे।

वहीं अकेले इस समय संवैधानिक पद पर हैं। वे एक मात्र राम मंदिर आंदोलन के नेता हैं, जो किसी पद पर हैं। बाकी को बीजेपी ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है या फिर उनका टिकट काट दिया है।

भाजपा को सत्ता के केंद्र तक पहुँचाने में राम मंदिर आंदोलन का उल्लेखनीय भूमिका रही है। लेकिन भाजपा नेतृत्व ने राम मंदिर आंदोलन के नायकों को ही राजनीतिक नेप्थय में धकेल दिया है।

Share Button

Related News:

सीएम के हाथों राजकीय राजगीर मलमास मेला का यूं हुआ आगाज
कमिश्नर के घर जाने वाली CBI टीम को कोलकाता पुलिस ने हिरासत में लिया
इस भाजपा सांसद ने दी ठोक डालने की धमकी, ऑडियो वायरल, पुलिस बनी पंगु
देखिये वीडियो, यूं हट रहा है राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से अतिक्रमण
इस मानव श्रृखंला से कितना चमक पायेगा इस बार नीतिश का चेहरा?
5 सीटों पर कल की वोटिंग में कई दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर
‘हवा-हवाई’ हो गईं भारतीय फिल्मों की ‘चांदनी’
इस कारण NDA में फंसी JDU-BJP-LJP की पेंच
अमन का पैगाम के नाम पर गुंडागर्दी, रोड़ेबाजी, फायरिंग, लाठी चार्ज, स्थिति तनावपूर्ण
मगध सम्राट जरासंध की अतीत संवर्धन के लिए होगा आंदोलन
लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम
गणतंत्रः लेकिन, गण पर हावी तंत्र
गरजे तेजस्वी- ‘मेरे अंदर लालू जी का खून, मैं किसी से डरने वाला नहीं’
मलमास मेला की जमीन पर अतिक्रमण के खिलाफ आवाज उठाने वालों पर केस दर्ज
एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?
‘सीएम नीतीश का माफिया कनेक्शन किया उजागर, अब पूर्व IPS को जान का खतरा’
राहुल ने ‘अनुभव-उर्जा’ को सौंपी राजस्थान की कमान
चुनाव के दौरान एक बड़ा नक्सली हमला, आइईडी विस्फोट में 16 कमांडो शहीद, 27 वाहनों को लगाई आग
गैस सिलेंडर लदी बस में आग, 10 लोग जिन्दा जले, हरनौत बाजार के पास लगी आग
भाजपा सांसदों ने रोकी नोटबंदी पर संसदीय समिति की रिपोर्ट
कुख्यात नक्सली के सरेंडर मामले में रघुबर सरकार की मुश्किलें बढ़ी, HC के बाद PMO ने लिया कड़ा संज्ञान
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि पर सफेदपोशों के अवैध होटलों-मकानों से बिजली-पानी कनेक्शन तक काटने में क...
दुनिया के यह सबसे अमीर शख्स रखता है ओल्ड फ्लिप फोन !
*एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क के कर्तव्य को अब आपके दायित्व की जरुरत.....✍🙏*

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter