“मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में 5 दिसंबर 1992 की स्थिति चाहिए”

Share Button

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की ओर से राजीव धवन ने कहा कि हम हमेशा ये नहीं सोच सकते हैं कि 1992 नहीं हुआ। अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखे जाने का आज सोमवार को आखिरी दिन है…..”

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के आखिरी दौर की सुनवाई चल रही है। अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से वकील राजीव धवन ने सोमवार को अपनी दलीलें रखीं।

अपनी दलीलें रखते वक्त राजीव धवन ने कहा कि हमें (मुस्लिम पक्ष) 5 दिसंबर 1992 जैसा अयोध्या चाहिए, जो बाबरी मस्जिद विध्वंस से पहले का था।

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की ओर से राजीव धवन ने कहा कि हम हमेशा ये नहीं सोच सकते हैं कि 1992 नहीं हुआ। अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखे जाने का सोमवार को आखिरी दिन है।

इस मामले की सुनवाई 17 अक्टूबर को खत्म होनी है, 14 अक्टूबर को मुस्लिम पक्ष की दलील खत्म करनी है। 15-16 अक्टूबर को हिंदू पक्ष को अपने तर्क रखने हैं।

आज सोमवार को जब अयोध्या मसले पर सुनवाई शुरू हुई तो राजीव धवन ने मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखीं।

राजीव धवन ने अदालत में कहा कि श्रद्धा से जमीन नहीं मिलती है, स्कन्द पुराण से अयोध्या की जमीन का हक नहीं मिलता है। हिंदू पक्ष लगातार अदालत में श्रद्धा और पुराणों का जिक्र कर रहा है।

इसके अलावा राजीव धवन की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में कई सवाल खड़े किए गए, उन्होंने अदालत में कहा कि आप हमेशा हमसे (मुस्लिम पक्ष) से सवाल करते हैं, जबकि उनसे (हिंदू पक्ष) से सवाल नहीं पूछे जा रहे हैं। हालांकि, अदालत की ओर से इस किसी तरह की टिप्पणी नहीं की गई।

वर्ष 90 के दशक की शुरुआत में जब भारतीय जनता पार्टी ने राम मंदिर रथ यात्रा निकाली तो देश में राजनीति गर्मा गई थी। 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में भारी सुरक्षा के बीच भाजपा नेताओं की अगुवाई में भीड़ बाबरी मस्जिद के ढांचे की तरफ बढ़ रही थी, हालांकि पहली कोशिश में पुलिस इन्हें रोकने में कामयाब रही थी।

लेकिन अचानक दोपहर में 12 बजे के कारसेवकों का एक बड़ा जत्था मस्जिद की दीवार पर चढ़ने लगा। लाखों की भीड़ में कारसेवक मस्जिद पर टूट पड़े और कुछ ही देर में मस्जिद को कब्जे में ले लिया। जिसके बाद जो हुआ वो पूरे देश ने देखा और इतिहास बन गया।

Share Button

Related News:

संगठित-संरक्षित अपराधों की शरण स्थली बना पारधी ढाना
जामिया मिलिया इस्लामिया में नकली डिग्री के धंधे का भंडाफोड़,5 गिरफ्तार
नक्सलियों के लिये शर्मनाक सबक है कानू सान्याल का आत्महत्या करना.
रेलवे सफर में ये आपके हैं अधिकार
वन भूमि को कब्जाने के क्रम में हरे-भरे पेड़ यूं काट रहा है राजगीर का विरायतन
अन्ना हजारे को जबरन उठा सकती है पुलिसः अरविंद केजरीवाल
ओरमांझी की मनोरम प्रकृति और पर्यावरण को यूँ नष्ट कर रहे हैं पत्थर माफिया
पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव को लेकर आदिवासी और सदान आमने-सामने
फिर दिखाई दे सकते हैं कुलांचे भरते चीते
सोशल मीडिया की 'अफवाह' हुआ सच, अराजक बना बिहार
आरटीआई के दायरे में है निलबंन और आरोप-पत्र की जानकारी
कांग्रेस ने मुझे फिल्मी "डॉन" बना दिया: मधु कोडा
बिहारी बाबू का फिर छलका दर्द ‘अब भाजपा में घुट रहा है दम’
राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी के जन्मदिन पर ये उनका अपमान नहीं तो क्या है ?
राम जाने क्या होगा आगे? रजनीतिक गर्दिश मे है झारखंड.
कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी के होश ठिकाने, अन्ना से बोले सॉरी
किसने बनाया ये सुअरखाना ?
इस भाजपा सांसद ने दी ठोक डालने की धमकी, ऑडियो वायरल, पुलिस बनी पंगु
भारत 19 साल बाद बना सुरक्षा परिषद का अध्‍यक्ष
राहुल गांधी लापता !! अखबार में छपा विज्ञापन
अफसरों से बोले नितिन गडकरी- ‘काम करो नहीं तो लोगों से कहूंगा धुलाई करो’
जेपी स्मृति दिवस विशेष: जब जेपी की मौत पर फूट-फूट कर रोए लालू
'नतीजों में गड़बड़ी हुई तो उठा लेंगे हथियार और सड़कों पर बहेगा खून'
सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बुरे फंसे बिहार के शिक्षामंत्री

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
error: Content is protected ! india news reporter