“मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में 5 दिसंबर 1992 की स्थिति चाहिए”

Share Button

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की ओर से राजीव धवन ने कहा कि हम हमेशा ये नहीं सोच सकते हैं कि 1992 नहीं हुआ। अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखे जाने का आज सोमवार को आखिरी दिन है…..”

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। सुप्रीम कोर्ट में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद के आखिरी दौर की सुनवाई चल रही है। अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से वकील राजीव धवन ने सोमवार को अपनी दलीलें रखीं।

अपनी दलीलें रखते वक्त राजीव धवन ने कहा कि हमें (मुस्लिम पक्ष) 5 दिसंबर 1992 जैसा अयोध्या चाहिए, जो बाबरी मस्जिद विध्वंस से पहले का था।

सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम पक्ष की ओर से राजीव धवन ने कहा कि हम हमेशा ये नहीं सोच सकते हैं कि 1992 नहीं हुआ। अदालत में मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखे जाने का सोमवार को आखिरी दिन है।

इस मामले की सुनवाई 17 अक्टूबर को खत्म होनी है, 14 अक्टूबर को मुस्लिम पक्ष की दलील खत्म करनी है। 15-16 अक्टूबर को हिंदू पक्ष को अपने तर्क रखने हैं।

आज सोमवार को जब अयोध्या मसले पर सुनवाई शुरू हुई तो राजीव धवन ने मुस्लिम पक्ष की ओर से दलील रखीं।

राजीव धवन ने अदालत में कहा कि श्रद्धा से जमीन नहीं मिलती है, स्कन्द पुराण से अयोध्या की जमीन का हक नहीं मिलता है। हिंदू पक्ष लगातार अदालत में श्रद्धा और पुराणों का जिक्र कर रहा है।

इसके अलावा राजीव धवन की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में कई सवाल खड़े किए गए, उन्होंने अदालत में कहा कि आप हमेशा हमसे (मुस्लिम पक्ष) से सवाल करते हैं, जबकि उनसे (हिंदू पक्ष) से सवाल नहीं पूछे जा रहे हैं। हालांकि, अदालत की ओर से इस किसी तरह की टिप्पणी नहीं की गई।

वर्ष 90 के दशक की शुरुआत में जब भारतीय जनता पार्टी ने राम मंदिर रथ यात्रा निकाली तो देश में राजनीति गर्मा गई थी। 6 दिसंबर 1992 को अयोध्या में भारी सुरक्षा के बीच भाजपा नेताओं की अगुवाई में भीड़ बाबरी मस्जिद के ढांचे की तरफ बढ़ रही थी, हालांकि पहली कोशिश में पुलिस इन्हें रोकने में कामयाब रही थी।

लेकिन अचानक दोपहर में 12 बजे के कारसेवकों का एक बड़ा जत्था मस्जिद की दीवार पर चढ़ने लगा। लाखों की भीड़ में कारसेवक मस्जिद पर टूट पड़े और कुछ ही देर में मस्जिद को कब्जे में ले लिया। जिसके बाद जो हुआ वो पूरे देश ने देखा और इतिहास बन गया।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

भारतीय मीडिया में ब्राह्मणों और बनियों का राज: अरुंधति रॉय
यहां तो गूंगे बहरे बसते है, खुदा जाने कहां जलसा हुआ होगा ?
शर्मनाक! अश्विनी चौबे सरीखे गिरी सोच का आदमी केन्द्रीय मंत्री है
सलमान खान को 5 साल की सजा, गए जोधपुर सेंट्रल जेल
अपनी नाकामियो का ठिकरा बिहारियो पर अभी से फोडने लगे शिबू सोरेन
इस तरह तैयार की जाती है बढ़ते मांग के बीच सेक्स डॉल्स
‘टाइम’ ने मोदी को 'इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ के साथ ‘द रिफॉर्मर’ भी बताया
अपनी टीम समेत अन्ना गिरफ्तार
‘मुजफ्फरपुर महापाप’ के ब्रजेश ठाकुर का करीबी राजदार को CBI ने दबोचा
मंत्री बनने लिये जय श्रीराम के बोल, फिर फतवा के बाद मांग ली माफी
"प्रभात ख़बर औए ३६५ दिन में सौतन-डाह"
अपनी दादी इंदिरा गांधी के रास्ते पर चल पड़ी प्रियंका?
ऐसे होगा 21वीं शताब्दी के भारत का निर्माण !
दक्षिण अफ्रीका का सूपड़ा साफ, भारत ने पारी और 202 रन से हराया
ये हैं भारत के प्रमुख मीडिया हाउस और उसके मालिक
मेरी सरकार को राहुल गांधी से प्रमाण-पत्र नहीं चाहिये:नीतीश कुमार
देखिये,ये हैं "सुशासन बाबू" यानि मुख्यमंत्री नीतीश के घर-जिले नालंदा में गरीबों को टरकाने वाले हिल...
न.1 दैनिक जागरण के 2न. संवाददाता
मीडिया : अक्ल-शक्ल सब बदला
अन्ना अनशन करें या तोड़ें उनकी समस्या है, सरकार नहीं झुकेगीः प्रणव मुखर्जी
डॉ. जायसवाल की ताजपोशी कहीं सुशील मोदी की काट तो नहीं!
अन्ना पड़े बीमार : होगी आंदोलन पर असर
उपमुख्यमंत्री सुदेश की अनुभवहीनता कही ले न डूबे मुख्यमंत्री शिबू सोरेन की लुटिया
सिल्ली MLA अमित कुमार ने केन्द्रीय मंत्री से मुलाकात कर रखी ये समस्याएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter