बच्चा चोरी अफवाह में 7लोगों की हत्या से उत्पन्न हिंसक उपद्रव के बाद जमशेदपुर का माहौल अब शांत

Share Button

रांची (INR)। बच्चा चोरी की अफवाह में हुई सात युवकों की हत्या के विरोध के दौरान जमशेदपुर में शनिवार को हुए उपद्रव के बाद रविवार को माहौल शांत है। जिंदगी धीरे-धीरे पटरी पर लौटने लगी है। बाजारें खुली हुई हैं। खरीदारों की भीड़ भी नजर आ रही है। मानगो और धतकीडीह के उपद्रवग्रस्त इलाके में जगह-जगह फोर्स तैनात किया गया है।

मानगो इलाके में शनिवार रात 10 बजे से रविवार सुबह 6 बजे तक निषेधाज्ञा लागू रही। इसे आगामी तीन दिनों तक कायम रखने की उम्मीद है। लेकिन निषेधाज्ञा की अवधि रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक की जा सकती है।

बागबेड़ा इलाके में भी बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया है। यहां के नागाडीह गांव में बच्चा चोरी की अफवाह में मारे गए तीन युवकों में से दो के शव का अभी तक परिजनों ने अंतिम संस्कार नहीं किया है। परिवार के लोग उनके बेटों को मारने वालों को गिरफ्तार करने की मांग कर रहे हैं।

मानगो में हुए उपद्रव के मामले में मुस्लिम एकता मंच (एमईएम) के नेता बाबर खान, फिरोज खान सहित 512 लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। उनकी गिरफ्तारी करने की पुलिस ने तैयारी कर ली है।

आईजी आशीष बत्रा के अलावा दो डीआईजी सुधीर कुमार झा, प्रभात कुमार जमशेदपुर में कैंप कर रहे हैं। सीआईडी की टीम भी पहुंची हुई है, जो उपद्रव के कारणों का पता लगा रही है।

बता दें कि अफवाह में हुई सात हत्याओं को लेकर मानगो और धातकीडीह में हालात बेकाबू हो गए हैं। शनिवार को पथराव और तोड़फोड़ के बाद लाठीचार्ज पुलिस ने लाठीचार्ज किया। भीड़ को हटाने के लिए पुलिस ने आंसू गैस के गोले भी छोड़े।

मानगो में हत्याओं के विरोध में लोग सभा कर रहे थे। अचानक नारेबाजी होने लगी। सभा में जुटे लोग सड़क पर आ गए और पथराव करने लगे। भारी पथराव के बाद पुलिस लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले छोड़े। पुलिस के आला अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं। उधर धातकीडीह में सड़क जाम कर रहे लोगों को जब पुलिस ने रोका तो दूसरी तरफ से पथराव होने लगा। उग्र लोगों ने टीओपी में तोड़फोड़ की। दोनों जगहों पर रैफ और सीआरपीएफ को भेजा जा रहा है।

इसके पूर्व गुरुवार को पूर्वी सिंहभूम जिले के नागाडीह गांव और सरायकेला-खरसावां जिले के राजनगर में बच्चा चोरी की अफवाह में सात लोगों की पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना के बाद शुक्रवार को लोग सड़कों पर उतर आए। लोगों ने सड़क जाम कर दिया और तोड़फोड़ की।

जुगसलाई में सात घंटे तक रोड जामकर लोगों के साथ मारपीट की गई। लोगों ने कई मजदूरों की साइकिलें क्षतिग्रस्त कर आग लगा दी। यही नहीं, मौके पर पहुंची पुलिस की बाइक तोड़ने के बाद आग लगाने की भी कोशिश की। जिन मजदूरों के साथ मारपीट की गई, वे नागाडीह इलाके के निवासी हैं। पुलिस ने स्थिति को संभालने के लिए कई जगहों पर फ्लैग मार्च किया।

Related Post

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected ! india news reporter