प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !

Share Button

“एक साधु अपनी नाबालिग बेटी को कामाख्या देवी के लिए बलि दे रहा था। तब पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था……..”

INR. असम में गुवाहाटी के मशहूर कामाख्‍या मंदिर में उस वक्त लोग दहशत में आ गए जब मंदिर के पास नीलांचल पहाड़ियों में एक महिला का सिर कटा हुआ शव मिला। कहा जा रहा है कि महिला की जादू टोने के चक्कर में नरबलि दी गई। पुलिस को शव के पास से पूजा की सामग्री भी बरामद हुई है।

बताया जा रहा है कि कामख्या मंदिर में शनिवार से सालाना अंबुबाची मेला शुरू होने वाला है। लेकिन इसके पहले ही महिला का सिर कटा शव मिलने से यहां दहशत का माहौल बन गया है। पुलिस ने शव को अपने कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है।

गुवाहाटी के पुलिस कमिश्‍नर दीपक कुमार ने बताया कि, ‘शव दुर्गा मंदिर जाने वाले रास्ते पर मिला। मृत महिला की उम्र 45 साल के आसपास लग रही है। महिला के शरीर के पास पूजा सामग्री पाई गई है। जांच अभी की जा रही है।

जॉइंट कमिश्‍नर देबराज उपाध्‍याय का कहना है, ‘महिला के शरीर के पास पूजा सामग्री के अलावा खून के धब्‍बे मिले हैं। आरोपी को पकड़ने के लिए स्निफर डॉग्स की मदद ली जा रही है।

पोस्‍टमॉर्टम के बाद ही पता चल सकेगा कि महिला की हत्‍या मंदिर परिसर में हुई है या कहीं और उसकी हत्या करके शव को मंदिर परिसर में रखा गया।

वहीं, मंदिर के पुजारी नरबलि की बात से इन्कार कर रहे हैं। कामाख्‍या बारदेउरी समाज के सचिव भूपेश कुमार शर्मा का कहना है कि यह शरारती तत्‍वों की हरकत है। महिला की हत्या कहीं और करके माहौल बिगाड़ने के लिए शव को मंदिर में रखा गया है।

मालूम हो कि इसके पहले भी कामाख्‍या मंदिर में इस तरह की घटना सामने आ चुकी है। 2012 में मंदिर जाने वाले रास्‍ते पर एक पुरुष का कटा हुआ सिर मिला था। इसके बाद काफी तनाव की स्थिति बनी थी।

साल 2003 में स्‍थानीय लोगों ने एक साधु को नरबलि देते हुए रंगे हाथ पकड़ा था। वह अपनी नाबालिग बेटी को कामाख्या देवी के लिए बलि दे रहा था। उसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

बिहार में क़ानून-व्यवस्था की कहानी:खुद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जुबानी
वायरल ऑडियो से उभरे सबालः कौन है मुन्ना मल्लिक? कौन है साहब? राजगीर MLA की क्या है बिसात?
सबाल "फिल्टर सिस्टम" का
झारखंडी सत्ता का फिफ्टीकरण: ढाई साल तक "गुरूजी" मुख्यमंत्री और उसके बाद उनका बेटा हेमंत सोरेन बनेगा ...
चार साल में मोदी चले सिर्फ ढाई कोस
.....और पटना से यूं फुर्र हो गये बिग बी
पीएम मोदी के 'स्टार हमशक्ल' को यूं महंगे पड़ रहे 'अच्छे दिन'
गरीब महिलाओं तक के आँसू से भी! नहीं पिघलते मुख्यमंत्री के घर-जिले नालंदा के हिलसा अनुमंडल के पदाधिक...
नीतीश ने सबसे अधिक किसानों,युवाओं और गरीबों को पहुंचाई तकलीफः अखिलेश यादव
राहुल गांधी का सचित्र ट्वीट- 'मानसरोवर के पानी में नहीं है नफरत’
रांची होटवार जेल बना पुलिस छावनी, काफी आक्रोश में हैं बिहार-झारखंड के राजद नेता
नीतीश की अबूझ कूटनीति बरकरारः अब RCP की उड़ान पर PK की तलवार
काफी दुर्भाग्यजनक है सुदेश महतो की राजनीतिक महत्वाकान्क्षा
SC का यह फैसला CBI की साख बचाने की बड़ी कोशिश
भाजपा-झामुमो के बीच जारी है अंतरंग याराना
बोफ़ोर्स की तरह ही 'पीएम 2019' का खेल कहीं बिगाड़ न दे रफ़ाएल
इस बार मुख्यमंत्री बनते ही शिबू सोरेन ने बदले तेवर
तो क्या ‘बे-कार’ हैं खरबपति सांसद किंग महेन्द्र !
सुप्रीम कोर्ट और हाई कोर्ट के बीच जूतमपैजार :न्यायायिक व्यवस्था पर उठे सवाल
नक्सलियों ने नोटबंदी के समय BJP MLC को दिए थे 5 करोड़ !
झारखंड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने के सुप्रीम कोर्ट के फैसले के खिलाफ फूंका बिगुल,उधर आद...
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से हर हाल में हटेगा अतिक्रमण, प्रशासन सक्रिय
आतंकी कैंप पर एयर अटैक पर बोले राहुल गांधी- IAF के पायलटों को मेरा सलाम
कानून से उपर है संत आशाराम बापू ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter