» तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!   » तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट….   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यवसायी सम्प्रदा सिंह का निधन   » पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर   » कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती   » समस्तीपुर से लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान का निधन   » दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन   » अपनी दादी इंदिरा गांधी के रास्ते पर चल पड़ी प्रियंका?   » हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!  

प्रशांत किशोर की ब्रांडिंग में उलझे नीतीश, जदयू में आई भूचाल

Share Button

“रिक्टर स्केल पर इसका केंद्र जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार तथा जदयू के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर के बीच में कहीं ठहरता है….”

INR. बिहार सियासी हादसों वाला राज्य है। यहां की मुख्य ‘राजनीतिक फसल’ सियासी उठापटक ही है। संपूर्ण क्रांति वाले राज्य बिहार की जहां ताजा सियासी भूकंप सत्तारूढ़ जदयू के भीतर से ही उपजा है।

आखिर इस राजनीतिक जलजले के मूल में क्या है? क्यों कहा जा रहा कि जिम्मेवारी पार्टी की और मेहनत पर्सनल इंटरेस्ट पर, यह नहीं चल सकता। किसने पार्टी की जिम्मेवारी के नाम पर खुद के इंटरेस्ट को तरजीह दी है?

सियासी गलियारे से जो बातें छनकर बाहर आई हैं, उनके अनुसार प्रशांत किशोर ने कुछ ऐसे बयान दिये जो आने वाले चुनावों में जदयू के लिए मुसीबत बनने वाले हैं।

प्रशांत किशोर द्वारा प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री बनाने वाले बयान से लेकर जदयू को भाजपा के साथ न जाने की बात, जैसे बयानों से जदयू उनसे नाराज है।

दबी जुबान से आरसीपी सिंह कैंप के जदयू नेता, प्रशांत किशोर के बयानों से किनारा कर रहे हैं। संकेत मिल रहा है कि नीतीश कुमार और उनके बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा।

बेगूसराय के शहीद पिंटू सिंह को जब सरकार और पार्टी की ओर से कोई श्रद्धांजलि देने नहीं गया, तब प्रशांत किशोर ने सरकार और पार्टी की ओर से माफी मांगी।

फिर जब वह मुजफ्फरपुर में युवाओं के साथ कार्यक्रम में गए, तब उन्होंने कहा कि उन्होंने देश में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री बनाए हैं। अब वह युवाओं को भी सासंद, विधायक बनाएंगे।

इसके बाद उनका एक और बयान वायरल हो रहा है जिसमें वह कह रहे हैं कि नीतीश कुमार को बीजेपी के साथ गठबंधन नहीं करना चाहिए। प्रशांत कुमार के ये कुछ हालिया ऐसे बयान हैं, जो जदयू को सूट नहीं करते और पार्टी इससे किनारा कर रही है।

नीतीश प्रशांत किशोर की काबिलियत तो स्वीकारते हैं, लेकिन उनके इन बयानों को वे उनमें उपजे घमंड और दंभ के संदर्भ में देख रहे हैं। इस वजह से जदयू में प्रशांत किशोर को लेकर काफी नाराजगी है।

प्रशांत किशोर के सांसद-विधायक बनाने वाले बयान ने उन्हीं के पार्टी के नेताओं को असहज कर दिया है। जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने कहा है कि उनकी पार्टी के रोल मॉडल नीतीश कुमार हैं।

बतौर नीरज कुमार किसी को एमएलए-एमपी बनाना जनता के हाथ मे है। उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी इस बयान से इत्तेफाक नहीं रखती। नीरज कुमार ने कहा कि पार्टी सिर्फ माहौल बनाती है, नेता बनाना तो जनता के हाथ में है।

इससे पहले एक इंटरव्यू में प्रशांत किशोर ने कहा था कि नीतीश कुमार को महागठबंधन से नाता तोड़ने के बाद बीजेपी के साथ न जाकर नए जनादेश के लिए दोबारा चुनाव में जाना चाहिए था।

प्रशांत किशोर का यह बयान जदयू को काफी असहज कर गया। लोकसभा चुनाव सिर पर है, और विपक्ष खासकर राजद प्रशांत किशोर के इस बयान को भुनाने की कोशिश कर सकता है।

जदयू में प्रशांत किशोर पर भाजपा और नीतीश के बीच कन्फ्यूजन क्रियेट करने के आरोप भी लगे हैं। 3 मार्च को पटना में हुई एनडीए की रैली में प्रशांत किशोर नदारद रहे। प्रशांत किशोर पिछले दिनों मुंबई में शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मिले थे।

दरअसल वहां माइनस बीजेपी अभियान पर काम कर रहे थे। इसमें नीतीश कुमार की सहमति कम प्रशांत किशोर की भाजपा से व्यक्तिगत खुन्नस का ज्यादा रोल था। बीजेपी से प्रशांत किशोर की दूरी की वजह पार्टी की बैठक में उनकी सफाई में झलकी जब उन्होंने कहा कि वे शिवसेना से लेकर जिस पार्टी से भी बातचीत कर रहे हैं, वह सिर्फ नीतीश कुमार के लिए ही कर रहे हैं।

बेगूसराय के शहीद पिंटू सिंह को जब सरकार और पार्टी की ओर से कोई श्रद्धांजलि देने नहीं गया, तब प्रशांत किशोर ने सरकार और पार्टी की ओर से माफी मांगी।

हालांकि, बाद में खुद सीएम नीतीश कुमार शहीद पिंटू सिंह को श्रद्धांजलि देने गए। सीएम के इस दौरे को प्रशांत किशोर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर शेयर किया और लिखा-‘एंड द फॉलोअप’।

प्रशांत किशोर के इस ट्वीट से साफ है कि वह यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि उनके ट्वीट के बाद ही नीतीश कुमार शहीद पिंटू सिंह को श्रद्धांजलि देने उनके घर गए। जदयू के कई नेता उनसे नाराज हो गए व उनके इस कदम को पर्सनल इंटरेस्ट से प्रेरित बताया।

कई जदयू नेता यह मान रहे हैं कि प्रशांत किशोर खुद को पार्टी से बड़ा मानने लगे हैं। वह पार्टी से भी अपने आप को बड़ा बनाना चाहते हैं। वे पार्टी का काम न करके अपनी ब्रांडिंग कर रहे हैं।

Share Button

Related News:

अभिनेता अनुपम खेर सहित 14 पर थाने में एफआईआर के आदेश
जंतर-मंतर के बजाय अब रामलीला मैदान में होगी "अन्ना की लीला"
झारखण्ड की बदहाली के लिये बिहारियो को दोषी मानते है शिबू सोरेन
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत यदि झारखंड मे चुनाव हुआ तो आदिवासियो और सदानो के बीच स...
विशेष श्रद्धांजलिः ...तब जहानाबाद में 12 किलोमीटर पैदल चले थे कुलदीप नैयर
विदेश सचिव का बयान- सिर्फ आतंकी थे टारगेट, 300 मारे गए   
डंपर से टकराई कैफियत एक्सप्रेस, 12 डिब्बे पटरी से उतरे, 70 घायल
भाजपा से नाता तोड़ शिवसेना अकेले लड़ेगी 2019 का लोक-विधान सभा चुनाव
ऐसा अजूबा सरकारी अस्पताल सीएम नीतिश कुमार के गृह जिले में ही संभव है!
आशाराम बापू : मोदी को छोडिये, भारतीय कानून से उपर आप कैसे हो सकते है?
झारखंडी सत्ता का फिफ्टीकरण: ढाई साल तक "गुरूजी" मुख्यमंत्री और उसके बाद उनका बेटा हेमंत सोरेन बनेगा ...
देश की असफल महिला सोनिया गांधी को फोर्ब्स पत्रिका ने दुनिया का ताकतवर बताया !
हिरण्य पर्वत पर ही तथागत ने किया था अंतिम वर्षावास
देखिये,ये हैं "सुशासन बाबू" यानि मुख्यमंत्री नीतीश के घर-जिले नालंदा में गरीबों को टरकाने वाले हिल...
राष्टीय आंदोलन वनाम बाबा रामदेव और अन्ना हजारे
बिहार के इस टोले का नाम 'पाकिस्तान' है, इसलिए यहां सड़क, स्कूल, अस्पताल कुछ नहीं
फिर विवादो के घेरे मे आया रांची का 365दिन चैनल
तो क्या ‘बे-कार’ हैं खरबपति सांसद किंग महेन्द्र !
हत्यारोपी BJP MLA संजीव सिंह की जेल में रोजाना सजते दरबार और लालू पर कसे शिकंजे को लेकर उठे सबाल
मीडिया की ABCD का ज्ञान नहीं और चले हैं पत्रकार संगठन चलाने
ईको टूरिज्म स्पॉट बनकर उभरेगा घोड़ा कटोरा :सीएम नीतीश
फर्जी निकला रांची प्रेस क्लब का पता? डाकघर से यूं लौटी लीगल नोटिश
सोनिया गांधी के खिलाफ जांच कार्रवाई क्यों नहीं?
"सुशासन बाबू" अपने घर-जिले के अधिकारियो पर लगाईये लगाम.पुछिये दोषी कुशासन है या गरीव किसान?

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां  
error: Content is protected ! india news reporter