प्रदेश छात्र जदयू महासचिव हत्याकांडः परिजन ने नालंदा पुलिस के खुलासे पर उठाये सवाल

Share Button

” एक तरफ जहां प्रदेश छात्र जदयू महासचिव राकेश कुमार की अपहरण के बाद हुई नृशंस हत्या के मामले को कथित 48 घंटे के भीतर मामले को सुलझाने का दावा करते हुये नालंदा पुलिस अपनी पीठ थपथपाने में जुटी है। वहीं, मृतक के परिजन ने पुलिस जांच पर ही कई सवाल उठा दिये हैं।”

प्रदेश छात्र जदयू महासचिव राकेश कुमार…..

पटना (इंडिया न्यूज रिपोर्टर)। परिजनों का कहना है कि अवैध संबंध का आरोप सरासर गलत है और राजनीतिक दबाव के कारण पुलिस ऐसा कह रही है।

मृतक राजेश के ससुर अविनाश कुमार ने कहा कि पूछताछ के बहाने गोरेलाल को पुलिस द्वारा थाना बुलवाया। वहां मारपीट कर उससे वह जुर्म कबूलवा लिया, जो उसने किया ही नहीं।

अविनाश का कहना है कि मनीष के साथ राकेश के जाने की सूचना उन्हें गोरेलाल ने ही दी थी। उसी समय उन्हें उनकी हत्या किये जाने की आशंका हुई थी।

अगर गोरेलाल उन्हें नहीं बताता तो उन्हें तो पता भी नहीं चलता कि राकेश कहां गये थे। घटना के दिन किसी ने गोरेलाल को डिहरा गांव या उसके आसपास नहीं देखा था।

मृतक राकेश के मित्र ब्रजेश कुमार का कहना है कि पुलिस अवैध संबंध का आरोप लगाकर न सिर्फ उनकी छवि खराब करने पर तुली है, बल्कि मामले को दूसरी तरफ मोड़ने की भी कोशिश कर रही है। जब राकेश के साथ इतनी महिलाओं के संबंध थे तो आज तक कभी किसी ने शिकायत क्यों नहीं की।

आरोपितों ने अगर कहीं शिकायत की हो तो बतायें। वहीं जिस दिवाकर का हवाला पुलिस दे रही है उसकी बच्ची काफी छोटी है। उससे संबंध की बात सोचना भी गलत है।

वहीं दीपक को अगर अपनी पत्नी के भागने से इतना ही दुख था तो उसकी पत्नी तो एक बार पहले भी भाग गयी थी उस समय तो उसने कुछ नहीं किया था। अब उसे इतना गुस्सा आ गया कि हत्या कर दी।

अविनाश ने आरोप लगाया कि पुलिस राजनीतिक दबाव में झूठ बोल रही है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक रंजिश हत्या का कारण हो सकता है। इसलिए मामले को दबाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि उनके साले चंडी थाना के चैनपुर गांव निवासी सूरज की हत्या डेढ़ साल पहले हुई थी। उस मामले में मनीष अभियुक्त था। वह बार-बार राकेश पर समझौता करने का दबाव दे रहा था। यह भी हत्या का एक कारण हो सकता है।

बता दें कि पुलिस अधीक्षक सुधीर कुमार पोरिका ने मंगलवार को अपने कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि अवैध संबंधों के कारण राकेश की हत्या की गयी। उनकी हरकतों से आरोपित नाराज थे। 29 मई की रात को ही पीट-पीटकर मार डाला था।

इस मामले में सात आरोपितों की पहचान की गयी है। इसमें एक महिला समेत पांच को गिरफ्तार कर लिया गया। दो अब भी फरार हैं। फरार आरोपितों में दीपक भी शामिल हैं,जिनके घर में घटना को अंजाम दिया गया था।

एसपी ने बताया कि हत्याकांड में हरनौत बाजार के पटेल नगर मोहल्ला निवासी मनीष कुमार व खरुआरा गांव निवासी दिवाकर को पश्चिम बंगाल के डोंगरूच थाना क्षेत्र से गिरफ्तार किया गया।

वहीं चेरन गांव निवासी सोनू कुमार, हसनपुर गांव निवासी गोरेलाल व दिवाकर की पत्नी गुड़िया देवी उर्फ पुष्पा देवी को हरनौत के अलग-अलग स्थानों से पकड़ा गया है।

एसपी ने बताया कि इस मामले की छानबीन करने के दौरान पुलिस रिश्तों के दलदल में उलझ कर रह गयी। आरोपित दिवाकर ने जो बताया उसपर विश्वास करना कठिन है।

पूछताछ में दिवाकर ने बताया कि राकेश कुमार उर्फ टिंकू का संबंध उसके साढ़ू दीपक की पत्नी से था। इधर कुछ दिनों से उसकी बेटी पर भी राकेश की गंदी नजर थी। दो-तीन दिन पहले ही उसे धमकी दी गयी थी कि बेटी को उठा लेंगे। बेटी के बारे में सुनकर दिवाकर को गुस्सा आ गया। फिर उसने पत्नी और साढ़ू के साथ मिलकर हत्या की योजना बनायी।

पुलिस का कहना था कि कुछ दिन पूर्व राकेश अपनी एक रिश्तेदार को लेकर भाग गया था। दीपक के दालान में की हत्या:-दिवाकर के अनुसार योजना बनाने के बाद उसमें मनीष, सोनू व गोरेलाल भी शामिल हुए।

घटना के दिन मनीष, गोरेलाल के साथ वह राकेश को बुलाकर डिहरा गांव ले गया। थोड़ी देर बाद सोनू भी वहां पहुंच गया। उसके बाद सभी ने मिलकर दीपक के दालान में पीट पीटकर उसकी बेरहमी से हत्या कर दी। राकेश की बाइक को गरभूचक गांव के पास तालाब में फेंक दिया। उसी रात को लाश को पचौरा के खंधे में गाड़ दिया। घटना को अंजाम देकर सभी अपने-अपने कामों में लग गये। जैसे कुछ हुआ ही नहीं। कई तो मृतक के परिजन के साथ मिलकर मदद करने का नाटक भी करने में लगे थे।

पुलिस के अनुसार दीपक ने राकेश के सिर पर पत्थर से वार किया। उसके बाद सभी मिलकर उसे कमरे में ले गये और मारने-पीटने के साथ ही गला काट दिया। राकेश के मोबाइल से हुआ खुलासा: एसपी ने बताया कि मृतक के भाई ने तीन आरोपितों के खिलाफ एफआईआर करायी थी।

मामले के खुलासे के लिए एसडीपीओ निशीत प्रिया के नेतृत्व में एसआईटी का गठन किया गया। टीम के सदस्यों ने अनुसंधान के दौरान राकेश के मोबाइल का सीडीआर निकाला। सीडीआर के विश्लेषण से इस घटना में शामिल आरोपितों के नामों का खुलासा हुआ।

इसके बाद एक टीम अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए पश्चिम बंगाल भेजी गयी। छापेमारी टीम में थानाध्यक्ष संजय कुमार, चेरो ओपी प्रभारी राकेश कुमार, कल्याण बिगहा ओपी प्रभारी विष्णुदेव कुमार, अजय कुमार, डीआईयू प्रभारी सियाराम प्रसाद आदि शामिल थे।

इस मामले के आरोपित दीपक और दिवाकर अपने साढ़ू हैं। वहीं मनीष भी रिश्ते में उनका साढ़ू लगता है। एसपी ने बताया कि दीपक की पत्नी पहले भी एक बार भाग चुकी थी। दूसरी बार राकेश के साथ भागी थी। इतना होने के बाद भी दीपक उसे साथ रखता था, इसका कारण है संपत्ति की लालच। दीपक की पत्नी को उसकी निसंतान मौसी ने गोद ली थी, जिसकी सारी संपत्ति उसकी पत्नी को ही मिलना था। लेकिन उसकी हरकतों से मन-ही-मन वह काफी गुस्सा था।

पुलिस का कहना है कि मृतक राकेश की मनीष व सोनू के साथ काफी बनती थी। वहीं गोरेलाल भी इनके फ्रेंड सर्किल में था। मनीष तो अपने साढ़ुओं की परेशानी से गुस्सा था। लेकिन सोनू और गोरेलाल इसमें क्यों शामिल हुआ, इसकी छानबीन में पुलिस जुटी है।

गिरफ्तार मनीष के खिलाफ पहले से ही हत्या के दो मामले दर्ज है। इसमें से एक मामले में वह कुछ महीने पहले ही जेल से छूटकर आया है। वहीं पुलिस का कहना है कि चारों आरोपित पहले किसी न किसी मामले में जेल जा चुके हैं।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

यह है दुनिया का सबसे अमीर गांव, इसके सामने हाईटेक टॉउन भी फेल
प्रभात खबर प्रबंधन और कर्मचारियों में हुआ मजीठिया को लेकर समझौता,सुप्रीम कोर्ट से लिया मुकदमा वापस
5 साल की सजा के 48 घंटे बाद ही जमानत पर यूं रिहा हुआ सलमान
रांची के रिम्स में लालू से मिलकर यूं गरजे बिहारी बाबू- ‘खामोश’
पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर
एक सफल फैशन डिजाइनर बनने के पहले इस तरह करें खुद को तैयार
पूर्व जदयू विधायक ने दी शराब पार्टी, गोलियां चलाई, महिला को लगी गोली
फर्जी निकला रांची प्रेस क्लब का पता? डाकघर से यूं लौटी लीगल नोटिश
डॉ. जायसवाल की ताजपोशी कहीं सुशील मोदी की काट तो नहीं!
शिवसेना सांसद का बड़ा सवाल- ‘16 अगस्त को ही हुआ था वाजपेयी का निधन?’
पत्रकार वीरेन्द्र मंडल को सरायकेला SP ने यूं एक यक्ष प्रश्न बना डाला
बिहार के सभी आंचलिक पत्रकारों की है यही राम कहानी
शपथ ग्रहण से पहले किसान कर्जमाफी की तैयारी शुरू
3 स्टेट पुलिस के यूं संघर्ष से फिरौती के 40 लाख संग धराये 5 अपहर्ता, अपहृत भी मुक्त
धारा 120 बी के तहत दोषी लालू की सजाएं साथ चलेंगी या अलग-अलग, फैसला कोर्ट पर
अब यूपी के फर्रुखाबाद के डॉ. लोहिया अस्पताल में 49 बच्चों की मौत !
रेलवे सफर में ये आपके हैं अधिकार
भारतीय मूल की इस दंपति को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार!
महागठबंधन की तस्वीर साफ, लेकिन कन्हैया पर नहीं बनी बात
राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य
कंगाली से ऐसे करोड़पति बना रेप के आरोपी रसुखदार फलाहारी बाबा
अवैध राजगीर गेस्ट हाउस होटल के सामने नगर प्रशासन का 24घंटे का दंडात्मक आदेश भी बौना
इस बार यूं पलटी मारने के मूड में दिख रहा नीतीश का नालंदा
सुप्रीम कोर्ट की दो टूकः शादी का वादा कर शारीरिक संबंध बनाना रेप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter