» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

पीएम मोदी के खिलाफ महागठबंधन प्रत्याशी तेज बहादुर का नामांकण रद्द! जाएंगे सुप्रीम कोर्ट

Share Button

INR. से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सांसदी का चुनाव लड़ रहे बीएसएफ के पूर्व जवान तेज बहादुर यादव की उम्मीदवारी रद्द कर दी गई है।

चुनाव आयोग ने यादव से बुधवार को दोपहर तक बीएसएफ से नो आब्जेक्शन सर्टिफिकेट यानी एनओसी मांगा था। वे सपा के प्रत्याशी थे।

निर्वाचन अधिकारी की दो नोटिसों का जवाब देने के लिए वे अपने वकील के साथ रिटर्निग आफिसर से मिलने पहुंचे, जहां उन्हें जानकारी मिली कि उनकी उम्मीदवारी रद्द कर दी गई है।

तेज बहादुर ने अपने दो नामांकन पत्रों में से एक में अपनी बर्खास्तगी की जानकारी नहीं दी थी। आयोग ने उन्हें नोटिस देकर बीएसएफ से अनापत्ति प्रमाणपत्र लाने को कहा था।

अभी यह पता नहीं चल सका कि वे यह एनओसी ला पाए थे या नहीं। आयोग ने कहा कि जो सरकारी कर्मचारी भ्रष्टाचार या अनुशासनहीनता के आरोप में बर्खास्त किया जाता है, उसे पांच साल तक चुनाव में भाग लेने का अधिकार नहीं होता।

उल्लेखनीय है कि बीएसएफ में नौकरी के दौरान तेज बहादुर ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर 2017 में एक पोस्ट डाली थी, जिसमें उसने सैनिकों को खराब खाना दिए जाने का मुद्दा उठाया था।

वीडियो में उसने अपना टिफिन दिखाते हुए कहा था कि जवानों को जली रोटी और पतली दाल मिलती है। उन्हें भूखा भी सोना पड़ता है। तेज बहादुर की उम्मीदवारी जनप्रतिनिधित्व कानून के सेक्शन नौ के तहत रद्द की गई है।

इस पोस्ट के बाद तेज बहादुर को बीएसएफ ने बर्खास्त कर दिया था। बर्खास्तगी के बाद तेज बहादुर ने वाराणसी से चुनाव लड़ने का एलान किया था।

एलान के मुताबिक उसने बनारस आकर अपना पर्चा दाखिल भी किया। इस बीच महागठबंधन की सपा ने उसे अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया।

माना जा रहा था कि तेजबहादुर गठबंधन के प्रत्याशी के रूप में मोदी को कड़ी टक्कर देंगे। लेकिन ऐसा कुछ होने की संभावना बुधवार की दोपहर खत्म हो गई, जब आयोग ने उसकी उम्मीदवारी ही रद्द कर दी।

Share Button

Related News:

चार साल में मोदी चले सिर्फ ढाई कोस
जैसा अंदेशा था,वैसा ही हुआ-बीईओ ने दो शिक्षकों पर दर्ज कराई प्राथमिकी, मामला MDM मेढ़क का
रजरप्पा :झारखंडी मीडिया को मां छिन्न मस्तिका मंदिर परिसर का ये आलम दिखाई नहीं देता?
चुनाव के दौरान एक बड़ा नक्सली हमला, आइईडी विस्फोट में 16 कमांडो शहीद, 27 वाहनों को लगाई आग
नौकरी में बहाली बिहार में सिर्फ नालंदा जिले के लोगों का: राबड़ी देवी
"झारखंड:उग्रवादियों से सांठ-गांठ कर अपना प्रभाव बढा रही है इसाई मिशनरियां "
जयरामपेशों का अड्डा बना आयडा पार्क
स्विस इकोनोमी के लिए सबसे बड़ा खतरा बने रामदेव बाबा
पिछले चार साल मे लाखपति से अरबपति बने नीतिश के चहेते मंत्री हरिनारायण सिन्ह
झारखंड:मामला राजद विधायक के नक्सली अपहरण का
और इस कारण बिखर चला 'द कपिल शर्मा शो'
गैर कांग्रेसी राज्यों व वहाँ के लोगों को धमकी दे रहे हैं राहुल : नीतीश कुमार
मीडिया : अक्ल-शक्ल सब बदला
अन्ना अनशन करें या तोड़ें उनकी समस्या है, सरकार नहीं झुकेगीः प्रणव मुखर्जी
'मौत की बस' में कारबाइड या  सिलेंडर? सस्पेंस कायम
प्रेस क्लब भवन कब्जाने के लिये हो रहा है फर्जी संस्था का अवैध चुनाव !
अब केन्द्रीय मंत्री बनेगें शिबू सोरेन !
सही सलामत वापस घर लौटे निवर्तमान विधायक का राज
मैदान छोड़ कहाँ भागे बाबूलाल मरांडी ?
सरकारी दलालों के हाथ कलप-कलप के मर रहे हैं हमारे अन्नदाता
मोदी सरकार में अछूत बनी जदयू नेता नीतीश ने कहा- सांकेतिक मंत्री पद की जरूरत नहीं
BSNL देगी यूजर्स को फ्री 1जीबी डेटा
यहां यूं हालत में मिली IAF  का लापता AN-32, सभी 13 जवानों की मौत
अन्ना को अब भ्रष्ट केन्द्र सरकार की बलि चाहिए

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter