पीएम मोदी के खिलाफ महागठबंधन प्रत्याशी तेज बहादुर का नामांकण रद्द! जाएंगे सुप्रीम कोर्ट

Share Button

INR. से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सांसदी का चुनाव लड़ रहे बीएसएफ के पूर्व जवान तेज बहादुर यादव की उम्मीदवारी रद्द कर दी गई है।

चुनाव आयोग ने यादव से बुधवार को दोपहर तक बीएसएफ से नो आब्जेक्शन सर्टिफिकेट यानी एनओसी मांगा था। वे सपा के प्रत्याशी थे।

निर्वाचन अधिकारी की दो नोटिसों का जवाब देने के लिए वे अपने वकील के साथ रिटर्निग आफिसर से मिलने पहुंचे, जहां उन्हें जानकारी मिली कि उनकी उम्मीदवारी रद्द कर दी गई है।

तेज बहादुर ने अपने दो नामांकन पत्रों में से एक में अपनी बर्खास्तगी की जानकारी नहीं दी थी। आयोग ने उन्हें नोटिस देकर बीएसएफ से अनापत्ति प्रमाणपत्र लाने को कहा था।

अभी यह पता नहीं चल सका कि वे यह एनओसी ला पाए थे या नहीं। आयोग ने कहा कि जो सरकारी कर्मचारी भ्रष्टाचार या अनुशासनहीनता के आरोप में बर्खास्त किया जाता है, उसे पांच साल तक चुनाव में भाग लेने का अधिकार नहीं होता।

उल्लेखनीय है कि बीएसएफ में नौकरी के दौरान तेज बहादुर ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म फेसबुक पर 2017 में एक पोस्ट डाली थी, जिसमें उसने सैनिकों को खराब खाना दिए जाने का मुद्दा उठाया था।

वीडियो में उसने अपना टिफिन दिखाते हुए कहा था कि जवानों को जली रोटी और पतली दाल मिलती है। उन्हें भूखा भी सोना पड़ता है। तेज बहादुर की उम्मीदवारी जनप्रतिनिधित्व कानून के सेक्शन नौ के तहत रद्द की गई है।

इस पोस्ट के बाद तेज बहादुर को बीएसएफ ने बर्खास्त कर दिया था। बर्खास्तगी के बाद तेज बहादुर ने वाराणसी से चुनाव लड़ने का एलान किया था।

एलान के मुताबिक उसने बनारस आकर अपना पर्चा दाखिल भी किया। इस बीच महागठबंधन की सपा ने उसे अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया।

माना जा रहा था कि तेजबहादुर गठबंधन के प्रत्याशी के रूप में मोदी को कड़ी टक्कर देंगे। लेकिन ऐसा कुछ होने की संभावना बुधवार की दोपहर खत्म हो गई, जब आयोग ने उसकी उम्मीदवारी ही रद्द कर दी।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

राम भरोसे चल रहा है झारखंड का बदहाल रिनपास
कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली में राहुल गांधी का मोदी पर आक्रामक हमला
जागरण प्रकाशन हुआ विदेशी गुलाम
देखिये,ये हैं "सुशासन बाबू" यानि मुख्यमंत्री नीतीश के घर-जिले नालंदा में गरीबों को टरकाने वाले हिल...
दलालों का अड्डा बन गया है रांची का कांके अंचल कार्यालय
बाल-राज ठाकरे देशद्रोही दिमाग वाले : नीतीश कुमार
तो क्या ‘बे-कार’ हैं खरबपति सांसद किंग महेन्द्र !
रिटायर्ड सिपाही का बेटा लेफ्टिनेंट बन नगरनौसा का नाम किया रौशन
अन्ना को अब भ्रष्ट केन्द्र सरकार की बलि चाहिए
'मौत की बस' में कारबाइड या  सिलेंडर? सस्पेंस कायम
राजगृह के वैभारगिरी पहाड़ी पर हुई थी बौद्ध ग्रंथ त्रिपिटक की पहली संगीति
का कीजियेगा "गुरूजी"? कैसे चलेगी ऐसे सरकार?
नीतिश के खिलाफ कांग्रेस के आक्रामक स्टार प्रचारक होगें तेजस्वी
नालंदा लोशिनिप संजीव सिन्हा ने कहाः रेकर्ड सुरक्षित होगें, अगली तिथि जल्द, न्याय होगा
दैनिक प्रभात खबर प्रवक्ता को विधायक बना डाला
कही कांग्रेस-भाजपा के हाईप्रोफाइल राजनीति-कूटनीति के शिकार तो नही हो रहे गुरूजी
पटना साहिब लोकसभा चुनाव: मुकाबला कायस्थ बनाम कायस्थ
यूं फुटपाथ पर जूता सिल जिंदा है आगरा का राष्ट्रपति जीवन रक्षा पदक विजेता
रांची के रिम्स में लालू से मिलकर यूं गरजे बिहारी बाबू- ‘खामोश’
चकला गाँव को गोद लेने का ढोंग रचकर एक एन.जी.ओ.के सहारे ठगी का धंधा किया एच.डी.एफ.सी.बैंक ने!
किसने बनाया ये सुअरखाना ?
अन्ना हजारे के अनशन पर लगाईं गई शर्तें मौलिक अधिकारों का हननः गडकरी
‘लालू के खिलाफ आपस में मिले थे सुशील मोदी, नीतीश कुमार, राकेश अस्थाना और पीएमओ’
वाराणसी के इस शहीद के घर नहीं पहुंचा कोई अधिकारी-जनप्रतिनिधि

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter