» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

पटना साहिब लोकसभा चुनाव: मुकाबला कायस्थ बनाम कायस्थ

Share Button

दुश्मनी जमकर करों लेकिन यह गुंजाइश रहे

जब कभी हम दोस्त हो जाएं तो

शर्मिन्दा न हो

उर्दू के मशहूर शायर बशीर बद्र की यह पंक्तियाँ पटना साहिब के दो दोस्त प्रत्याशी पर पर लागू होती है। पटना साहिब लोकसभा सीट पर दो दिग्गज दोस्तों की अब सियासी पारी दुश्मनी के साथ शुरू हो रही है…..

पटना (जयप्रकाश नवीन)। राजनीति में न कोई स्थायी दोस्त होता है और न ही दुश्मन। इतिहास गवाह है कि दोस्ती और रिश्तेदारी हमेशा राजनीति की भेंट चढ़ती रही है। कहा जाता है कि राजनीति वो तिलिस्म है जहां जनता से किए जाने वाले वादे और सत्ता के बड़े दावे एक साथ गूंजते हैं, क्योंकि राजनीति की दुनिया में परदे के पीछे साम, दाम, दंड, भेद हर वो तरीका आजमाया जाता है जो नेताओं को पहुंचा सके सत्ता के करीब।

ऐसे ही दो सियासी दोस्तों की टक्कर का गवाह बिहार के हॉट सीट पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र बनने जा रहा है। भाजपा के पूर्व  बागी सांसद सिने स्टार शत्रुहन सिन्हा तीसरी बार पटना साहिब लोकसभा सीट पर हैट्रिक की तैयारी में है। इस बार वे कांग्रेस के टिकट पर चुनाव मैदान में हैं। जहां उनका मुकाबला केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से होगा। यानी मुकाबला कायस्थ बनाम कायस्थ होगा।

पटना साहिब का अपना इतिहास रहा है। इसी ऐतिहासिक पटना साहिब नगरी में चुनाव की बिसात बिछ चुकी है।यहाँ एक बार फिर से नई स्क्रिप्ट लिखी जा रही है। जहाँ सियासत का घमासान है, रोमांचकता है, दोस्ती है और फिर ‘शत्रु’ की शत्रुता भी है।

पटना साहिब लोकसभा सीट पर दो दोस्तों के बीच कठिन संघर्ष का महौल तैयार हो रहा है। जहां ‘दोस्ती’ और ‘शत्रुता’ के बीच मुकाबला 19 मई को आखिरी चरण में होगा।

पटना साहिब लोकसभा से दो बार सांसद रहे अभिनेता शत्रुहन सिन्हा भाजपा से  35 साल पुराने रिश्ते का ब्रेकअप कर कांग्रेस के हाथ के साथ तीसरी बार चुनाव मैदान में है। जहां इस बार उनका कड़ा मुकाबला अपने ही राजनीतिक मित्र केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से हो रहा है।

बिहार में जनसंघ के संस्थापक ठाकुर प्रसाद के पुत्र रविशंकर प्रसाद की सियासी सफर की शुरुआत छात्र राजनीति से होती है। जहां वे 1974 आंदोलन में शामिल होते हैं। 1980 में उन्होंने पटना हाईकोर्ट में वकालत भी शुरू की।

वर्ष 2000 में सुप्रीम कोर्ट में वे वरिष्ठ अधिवक्ता नियुक्त किए गए।श्री प्रसाद ने हवाला केस और अयोध्या मामले की भी पैरवी की। 2000 में वे राज्यसभा सांसद भी चुने गए। वे अटल बिहारी वाजपेयी मंत्री मंडल में कई महत्वपूर्ण पदों पर रहें।

फिलहाल चौथी बार राज्यसभा सांसद केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद इस बार पटना साहिब से भाजपा के टिकट पर जनता के बीच है। जहां उनका मुकाबला सिने स्टार और निवर्तमान सांसद शत्रुहन सिन्हा से है ।

पटना साहिब लोकसभा क्षेत्र में मतदाताओं की कुल संख्या 21 लाख 36 हजार है। पटना साहिब लोकसभा में छह विधानसभा क्षेत्र है। नये परिसीमन में पटना साहिब भाजपा के लिए सुरक्षित सीट माना जाता है।

तभी तो भाजपा के शत्रुहन सिन्हा ने 2009 में टीवी कलाकार और कांग्रेस प्रत्याशी शेखर सुमन को बड़े मतों के अंतर से पराजित किया था। 2014 में भी श्री सिन्हा ने ढाई लाख से ज्यादा मतों से चुनाव जीतने में कामयाब रहे।

लेकिन इस बार परिस्थितियाँ बदल गई है। सिने स्टार शत्रुहन सिन्हा कांग्रेस के टिकट पर यहाँ से चुनाव मैदान में है। जहाँ उनका मुकाबला केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद से होना है। फिलहाल अन्य उम्मीदवार अभी मैदान में नहीं आए हैं, लेकिन शिवसेना की ओर से युवा प्रत्याशी सुमित रंजन सिन्हा भी चुनाव मैदान में हैं।

पटना साहिब लोकसभा चुनाव में हैट्रिक का सपना देख रहे शत्रुहन सिन्हा के लिए राहें आसान नहीं दिखती। कायस्थ, वैश्य और यादव बहुल ‘साहिब’ में श्री सिन्हा का गणित गड़बड़ा रहा है। पिछली बार पौने पांच लाख मतदाताओं ने उन्हें पसंद किया था। लेकिन अब पासा पलट गया है।

पटना साहिब क्षेत्र में दस लाख से ज्यादा कायस्थ मतदाता है। जो भाजपा का परंपरागत वोटर माना जाता है। कायस्थ सिने स्टार शत्रुहन सिन्हा से इसलिए भी नाराज है कि वे समाज के लिए सर्व सुलभ नहीं होते है।

पिछले बार भाजपा से रहते हुए श्री सिन्हा ने दो लाख पैसठ हजार मतों से चुनाव जीता था। इस बार वहीं वोट उनके लिए परेशानी बन सकती है। अपने ही जीत के अंतर को पाटना उनके लिए मुश्किल दिख रहा है। उनके चुनाव मैनेजमेंट में वहीं लोग हैं, जो कभी भाजपा के साथ उनके साथ थे।

पटना साहिब से दोनों दोस्तों के बीच हार-जीत की सर्वव्यापी चर्चा होनी तय है। वही केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद अगर जीतते हैं तो भाजपा के दिल को इस गर्मी में बर्फ सी ठंडक मिल जाएंगी। वहीं अगर श्री सिन्हा पटना साहिब का किला फतह कर लेते हैं तो बिहार में कांग्रेस को ताकत मिल सकती है। श्री सिन्हा का कद भी बढ़ जाएगा। वे राजनीति के महानायक बन कर उभर सकते हैं ।

पटना साहिब में कायस्थ वोटर तीन धड़ो में बंटा दिख रहा है। राज्यसभा सांसद आर के सिन्हा के टिकट नहीं मिलने से उनके समर्थकों का एक गुट तो एक भाजपा के परंपरागत कायस्थ वोटर तो दूसरी तरफ सिने स्टार के समर्थक।

कायस्थ मतदाता यहां असमंजस में हैं। मतदाताओं ने अभी अपने पते नहीं खोले हैं।सोशल मीडिया पर कायस्थ समुदाय की जंग जारी है।फिलहाल पटना साहिब लोकसभा का चुनाव अंतिम चरण में 19 मई को होना है। इसलिए ‘साहिब’ की जनता भी फिलहाल ‘खामोश’ है।

Share Button

Related News:

'नतीजों में गड़बड़ी हुई तो उठा लेंगे हथियार और सड़कों पर बहेगा खून'
कुख्यात नक्सली के सरेंडर मामले में रघुबर सरकार की मुश्किलें बढ़ी, HC के बाद PMO ने लिया कड़ा संज्ञान
'इ जनता बा मोदी जी! दौड़ा-दौड़ा के सवाल पूछी'
'72 हजार' पर भारी पड़ा ‘चौकीदार’
उस महिला का गर्भपात की पुष्टि, कोडरमा घाटी में जिस अज्ञात महिला का मिला था शव
ट्रक से टकराई महारानी बस, 9 की मौत, 25 घायल, हादसे की दर्दनाक तस्वीरें
नालंदा प्रशासन को बिहारशरीफ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में हादसा या वारदात का इंतजार है?
ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास
इस कारण NDA में फंसी JDU-BJP-LJP की पेंच
नालंदा थाना प्रभारी के निलंबन से महिला आरक्षियों को लेकर सहमे जिले के अन्य थानेदार
मास्टरमाइंड PK ने डुबोई कांग्रेस की लुटिया
भारतीय लोकतांत्रिक इतिहास का काला पन्ना आपातकाल
राजगीर थाना में बैठ पहले रांची फोन कर दी धमकी, फिर किया राज़नामा के संपादक पर फर्जी केस, थाना प्रभार...
नीतीश-जदयू से जुड़े ‘आम्रपाली घोटाले’ के तार, धोनी को भी लग चुका है चूना
कांग्रेस ने फोड़ा 'ऑडियो बम', पर्रिकर के बेडरूम में हैं राफेल की फाइलें
शिक्षा को संभालने में नीतिश सबसे असफल सीएम
महागठबंधन की तस्वीर साफ, लेकिन कन्हैया पर नहीं बनी बात
पीएम मोदी के खिलाफ महागठबंधन प्रत्याशी तेज बहादुर का नामांकण रद्द! जाएंगे सुप्रीम कोर्ट
MLA अशोक सिंह हत्याकांड में  Ex. RJD MP प्रभुनाथ सिंह दोषी करार, गये जेल
जिस पत्नी की हत्या के आरोप में पति काट रहा है जेल, वह दो साल बाद प्रेमी के साथ मिली !
परमिट के नाम पर बसों की चांदी, यात्रियों की जान के साथ कर रहे खिलवाड़
लापरवाही की हदः गोरखपुर BRD मेडिकल कॉलेज में 5 दिनों में 60 की मौत
कुंदन पाहन ने चौंकाया, नेपाली PM प्रचंड ने झारखंड में ली थी नक्सली ट्रेनिंग!
मंत्री, डीएसपी, इंस्पेक्टर समेत सैकड़ों के हत्यारे नक्सली कुंदन पाहन के सरेंडर पर उठे  सबाल

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter