‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ को लेकर हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल

Share Button
google-site-verification: google06aa9eb2c1eeb192.html

याचिका में कहा गया है कि ट्रेलर भारतीय दंड संहिता की धारा 416 का उल्लंघन करता है, जिसके तहत किसी जीवित किरदार और जीवित व्यक्ति का प्रतिरूपण कानूनी रूप से गलत है….”

INR. दिल्ली उच्च न्यायालय में मंगलवार को फिल्म ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के ट्रेलर पर प्रतिबंध की मांग करने वाली एक जनहित याचिका दायर की गई। 

याचिका में कहा गया है कि फिल्म के ट्रेलर से प्रधानमंत्री पद की गरिमा और प्रतिष्ठा को अकारण क्षति पहुंची है। यह फिल्म पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पूर्व मीडिया सलाहकार संजय बारू द्वारा लिखित पुस्तक पर आधारित है।

फिल्म में अभिनेता अनुपम खेर मनमोहन और अक्षय खन्ना बारू का किरदार निभा रहे हैं। फिल्म इस शुक्रवार को रिलीज होगी। दिल्ली की फैशन डिजाइनर पूजा महाजन ने अपने वकील अरुण मैत्री के माध्यम से यह जनहित याचिका दाखिल की है।

याचिका में कहा गया है कि फिल्म प्रधानमंत्री जैसे संवैधानिक पद की छवि को नुकसान पहुंचाएगी और इसकी प्रतिष्ठा को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय रूप से खराब करेगी।

सोमवार को एकल पीठ ने याचिका को यह कहते हुए निपटा दिया था कि इसे जनहित याचिका के रूप में दाखिल किया जाना चाहिए।

वकील मैत्री ने कहा कि फिल्म निर्माताओं ने मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी से उनके किरदार निभाने या उनके राजनीतिक जीवन के चित्रण या समान तरीके से कपड़े पहनने के लिए किसी प्रकार की सहमति नहीं ली है।

याचिकाकर्ता ने कहा है कि केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के दिशा-निर्देशों के मुताबिक लोगों की असल जिंदगी पर आधारित फिल्मों के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) की जरूरत होती है, लेकिन ट्रेलर के लिए कोई एनओसी नहीं ली गई।

याचिका में महाजन ने अदालत से मुद्दे पर केंद्र, गूगल, यू-ट्यूब और सीबीएफसी को ट्रेलर के प्रदर्शन को रोकने के लिए निर्देश देने का अनुरोध किया है। उन्होंने अदालत से सीबीएफसी द्वारा फिल्म को दिए गए प्रमाण पत्र को खारिज करने का भी अनुरोध किया है।   

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

आशाराम बापू : कानून से उपर का संत या अपराधी?
बड़ा फर्क है टीम अन्ना और जेपी आंदोलन में
आयुष्मान योजना की सौगात के साथ पीएम मोदी ने कही ये खास बातें
राखी सावंत ने अन्ना को राम और केजरीवाल को रावण बताया
मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक
SC का बड़ा फैसलाः फोन ट्रैकिंग-टैपिंग-सर्विलांस की जानकारी लेना है मौलिक अधिकार
नक्सलियों ने नोटबंदी के समय BJP MLC को दिए थे 5 करोड़ !
संवैधानिक व्यवस्था से भी ऊपर है कांग्रेस:नीतीश कुमार
कुलपति प्रोफ़ेसर सुनैना सिंह बोलीं- गौरवशाली इतिहास को पुर्णजीवित करेगा नालंदा विश्वविद्यालय : सुनैन...
राहुल गांधी का सचित्र ट्वीट- 'मानसरोवर के पानी में नहीं है नफरत’
शिबू सोरेन:झारखंड का सबसे कद्दावर नेता
यूपी में 44 की मौत, बिहार के 15 जिलों में रेड अलर्ट, स्कूल बंद
जानिएः कौन है चंदन सिंह, जिसने केन्द्रीय मंत्री गिरीराज सिंह को लगाया ठिकाना
यहां तो गूंगे बहरे बसते है, खुदा जाने कहां जलसा हुआ होगा ?
लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम
दहेज के लिए यूं जानवर बना IPS, पत्नी ने दर्ज कराई FIR
भावनाओ को भडकाती दैनिक हिन्दुस्तान
प्रो. सुनैना सिंह ने संभाला नालंदा विश्वविद्यालय की कुलपति का पदभार
'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' का सरदार कितना असरदार !
बिहारी बाबू का फिर छलका दर्द ‘अब भाजपा में घुट रहा है दम’
एक चपरासी से भी बद्दतर दिमाग वाला है नालंदा का डी.एम.संजय कुमार अग्रवाल ?
कसाई कौन ? डॉक्टर या दैनिक भास्कर ?
खेल के साथ बिजनेस भी करेगे धौनी
झारखंड के मुख्यमंत्री जी: झारखंड को बचाईये न अपने गांव के इन "छोकडा" लोगों से

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter