» महागठबंधन की तस्वीर साफ, लेकिन कन्हैया पर नहीं बनी बात   » बोले काटजू- “सत्ता से बाहर होगी भाजपा, यूपी-बिहार में रहेगी नील”   » नहीं रहे पूर्व रक्षा मंत्री एवं गोवा के सीएम मनोहर पर्रिकर, समूचे देश में शोक की लहर   » ‘इ जनता बा मोदी जी! दौड़ा-दौड़ा के सवाल पूछी’   » बज गई आयोग की डुगडुगी, जानिए 7 चरणों में कहां, कब और कैसे होगा चुनाव   » प्रशांत किशोर की ब्रांडिंग में उलझे नीतीश, जदयू में आई भूचाल   » वीडिय़ोः MP  ने मंत्री-पुलिस के सामने MLA को जूतों से यूं जमकर पीटा   » भाजपा की वेबसाइट हैक, दिखे यूं अश्लील मैसेज   » पुलिस गिरफ्त में पुलवामा आतंकी हमले के वांछित नौशाद उर्फ दानिश की पत्नी एवं बेटी   » रांची में गरजे राहुल गांधी- देश का चौकीदार चोर है  

‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ को लेकर हाई कोर्ट में जनहित याचिका दाखिल

Share Button
google-site-verification: google06aa9eb2c1eeb192.html

याचिका में कहा गया है कि ट्रेलर भारतीय दंड संहिता की धारा 416 का उल्लंघन करता है, जिसके तहत किसी जीवित किरदार और जीवित व्यक्ति का प्रतिरूपण कानूनी रूप से गलत है….”

INR. दिल्ली उच्च न्यायालय में मंगलवार को फिल्म ‘द एक्सिडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ के ट्रेलर पर प्रतिबंध की मांग करने वाली एक जनहित याचिका दायर की गई। 

याचिका में कहा गया है कि फिल्म के ट्रेलर से प्रधानमंत्री पद की गरिमा और प्रतिष्ठा को अकारण क्षति पहुंची है। यह फिल्म पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के पूर्व मीडिया सलाहकार संजय बारू द्वारा लिखित पुस्तक पर आधारित है।

फिल्म में अभिनेता अनुपम खेर मनमोहन और अक्षय खन्ना बारू का किरदार निभा रहे हैं। फिल्म इस शुक्रवार को रिलीज होगी। दिल्ली की फैशन डिजाइनर पूजा महाजन ने अपने वकील अरुण मैत्री के माध्यम से यह जनहित याचिका दाखिल की है।

याचिका में कहा गया है कि फिल्म प्रधानमंत्री जैसे संवैधानिक पद की छवि को नुकसान पहुंचाएगी और इसकी प्रतिष्ठा को राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय रूप से खराब करेगी।

सोमवार को एकल पीठ ने याचिका को यह कहते हुए निपटा दिया था कि इसे जनहित याचिका के रूप में दाखिल किया जाना चाहिए।

वकील मैत्री ने कहा कि फिल्म निर्माताओं ने मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और उनकी मां सोनिया गांधी से उनके किरदार निभाने या उनके राजनीतिक जीवन के चित्रण या समान तरीके से कपड़े पहनने के लिए किसी प्रकार की सहमति नहीं ली है।

याचिकाकर्ता ने कहा है कि केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के दिशा-निर्देशों के मुताबिक लोगों की असल जिंदगी पर आधारित फिल्मों के लिए अनापत्ति प्रमाण पत्र (एनओसी) की जरूरत होती है, लेकिन ट्रेलर के लिए कोई एनओसी नहीं ली गई।

याचिका में महाजन ने अदालत से मुद्दे पर केंद्र, गूगल, यू-ट्यूब और सीबीएफसी को ट्रेलर के प्रदर्शन को रोकने के लिए निर्देश देने का अनुरोध किया है। उन्होंने अदालत से सीबीएफसी द्वारा फिल्म को दिए गए प्रमाण पत्र को खारिज करने का भी अनुरोध किया है।   

Related Post

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
» राहुल गाँधी और आतंकी डार की वायरल फोटो की क्या है सच्चाई ?   » घाटी का आतंकी फिदायीन जैश का ‘अफजल गुरू स्क्वॉड’   » प्रियंका की इंट्री से सपा-बसपा की यूं बढ़ी मुश्किलें   » जॉर्ज साहब चले गए, लेकिन उनके सवाल शेष हैं..   » रोंगटे खड़े कर देने वाली इस अंधविश्वासी परंपरा का इन्हें रहता है साल भर इंतजार   » जानिए कौन थे लाफिंग बुद्धा, कैसे पड़ा यह नाम   » जयंती विशेष: के बी सहाय -एक अपराजेय योद्धा   » ‘द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर’ का सरदार कितना असरदार !   » भाजपा और कांग्रेस दोनों के लिए आत्म मंथन का जनादेश   » जयरामपेशों का अड्डा बना आयडा पार्क  
error: Content is protected ! india news reporter