देश का गद्दार निकला डीएसपी देवेंद्र सिंह, होगा आतंकी सा सलूक

Share Button

 “वर्ष 1990 के दशक में देवेंद्र सिंह ने 10 साल तक स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के साथ काम किया। इस दौरान उसके काम के लिए आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया गया था और उसे इंस्पेक्टर बना दिया गया…….

 INR. जम्मू-कश्मीर के कुलगाम से गिरफ्तार डीएसपी देवेंद्र सिंह को लेकर सुरक्षा एजेंसियों ने जम्मू-कश्मीर को कई बार आगाह किया था, लेकिन कभी किस्मत तो कभी लापरवाही की वजह से डीएसपी देवेंद्र सिंह बार-बार बचता रहा।

 लेकिन 11 जनवरी को सुबह जब वो श्रीनगर से अपने आई-10 कार में अपने घर से निकला तो उसका गुडलक खत्म हो चुका था। जवाहर टनल से पहले पुलिस ने उसे हिज्बुल के दो टॉप आतंकियों के साथ गिरफ्तार कर लिया।

 सवाल ये है कि राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित ये अधिकारी आखिर अपना ईमान बेचने पर राजी कैसे हो गया। सूत्र बताते हैं कि इसके पीछे वजह सिर्फ पैसा है।

 दक्षिण कश्मीर के पुलवामा के रहने वाला देवेंद्र सिंह 1990 में सब-इंस्पेक्टर के तौर पर जम्मू-कश्मीर पुलिस में भर्ती हुआ था। उसने श्रीनगर के अमर सिंह कॉलेज से ग्रुजेएशन किया था।

 उसके करियर में कई बार विवाद आए, उसके खिलाफ जम्मू-कश्मीर पुलिस को आगाह भी किया गया, लेकिन हर बार वो बचता रहा।

 सूत्र बताते हैं कि जम्मू-कश्मीर में आतंकवाद से लड़ने में व्यस्त जम्मू-कश्मीर पुलिस ने बार-बार इन चेतावनियों को नजरअंदाज कर दिया।

 इसके अलावा डीएसपी देवेंद्र सिंह के करियर का शानदार ट्रैक रिकॉर्ड भी बार-बार उसे कार्रवाई से बचाता रहा। एक सूत्र ने बताया, “आतंकवाद के खिलाफ अभियान में उसका काम जोरदार रहा, इस वजह से वो बचता रहा, कई बार जांच हुई, लेकिन कोई एक्शन नहीं लिया गया।”

 सीआरपीएफ के एक दूसरे अधिकारी ने 1990 के उस दौर को याद किया जब देवेंद्र सिंह उत्तरी कश्मीर के सोपोर में आतंकियों के खिलाफ बड़ी बहादुरी से लड़ा था।

 1990 के दशक में देवेंद्र सिंह 10 साल तक स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (SOG) के साथ काम किया। इस दौरान उसने सम्मान और जलन (ईष्या) दोनों कमाए। देवेंद्र सिंह को उसके काम के लिए आउट ऑफ टर्न प्रमोशन दिया गया था।

 उसे इंस्पेक्टर बना दिया गया। आतंकियों के खिलाफ ऐसे ही एक ऑपरेशन के दौरान बड़गाम में देवेंद्र सिंह घायल हो गया था।

 एक बार देवेंद्र सिंह को एक ड्रग के सौदागर को अवैध तरीके से नशीली दवा बेचता पकड़ा गया, उसके खिलाफ जांच भी हुई। देवेंद्र सिंह के खिलाफ रंगदारी के आरोप भी लगे।

 एक और घटना जिस दौरान देवेंद्र सिंह पर सबकी नजरें गई। जब उसने लकड़ियों से भरे ट्रक को अगवा कर लिया। बाद में पता चला कि ये ट्रक पूर्व सीएम गुलाम मोईद्दीन शाह के एक रिश्तेदार की थी।

डीएसपी देवेंद्र सिंह का आतंकवाद के साथ पहला रिश्ता तब सामने आया, जब संसद पर हमले के दोषी आतंकी अफजल गुरु ने अपने एक पत्र में अपने वकील को लिखा कि देवेंद्र सिंह ने उसे एक आतंकवादी को दिल्ली लाने को कहा था और यहां पर उसके लिए रहने की व्यवस्था करने को कहा था।

ये आतंकी जैश का वही सदस्य था जो संसद पर हमले के दौरान सुरक्षा बलों की कार्रवाई के दौरान मारा गया था। हालांकि अफजल के पत्र में देवेंद्र सिंह का नाम आने के बावजूद भी उससे पूछताछ नहीं की गई।

 स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप में काम करने के बाद देवेंद्र सिंह का तबादला ट्रैफिक पुलिस में कर दिया गया। देवेंद्र सिंह 2003 में कोसोवो गए शांति रक्षक दल का भी हिस्सा था। पिछले साथ उसे राष्ट्रपति के पुलिस मेडल से सम्मानित किया गया था।

 उसके खिलाफ गुनाहों की लिस्ट सामने आने के बाद एक सीनियर पुलिस अधिकारी ने कहा, “जम्मू-कश्मीर पुलिस एक प्रोफेशनल फोर्स है, उसके साथ आतंकी जैसा सलूक किया जाएगा।”

1 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %
Share Button

Related News:

चक्रवाती हवाओं के साथ इन राज्यों में भारी बारिश की संभावना
30 दिसंबर,वुधवार को मोहराबादी मैदान मे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेगे शिबू सोरेन
झारखंड मे कांग्रेस का अब “राम नाम सत्य” होगा:लालू
संजय यादव : विधायक नहीं,1नं.गुंडा है
Jio धमाका ऑफर, ग्राहकों को FREE में मिलेगा 120जीबी डेटा
अनिल अंबानी के नहीं आए अच्छे दिन, तिलैया अल्ट्रा मेगा पावर प्रोजेक्ट रद्द
नीतीश के सुशासन को लेकर उनके घर-जिले मे उठा सवाल:दोषी कौन?कुशासन या किसान?
सुशासन बाबू:अब आपही बताईये कि दोषी कौन?कुशासन या किसान?
जब जेपी ने इंदिरा को लिखा- ‘RSS मुझे नाथूराम गोडसे की तरह गद्दार समझता है’
बिहारः कोंच BDO ने छत से कूद कर की आत्‍महत्‍या! हाल ही में बैंक PO से हुई थी शादी
शिबू सरकार का यह कैसा खेल?
30 साल के जालसाजों पर कहर ढायेगी बिहार शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर का यह फैसला
डी.एम.का जनता दरबार या मजाक?खुद डी.एम.संजय कुमार अग्रवाल ही घुमावदार नज़र आता है!
समस्तीपुर से लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान का निधन
‘द लाई लामा’ मोदी की पोस्टर पर बवाल, FIR दर्ज
कांग्रेस,भाजपा को छोडिये: देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री दिल्ली में बैठकर प्याज छिलने के लिए है! ...
नकली फेसबुकियों को सावधान करता मध्‍य प्रदेश के सीएम का फर्जी प्रोफाइल
शिबू सोरेन ने कांग्रेस को नकारा,भाजपा के साथ सरकार बनाने के स्पष्ट संकेत दिया
कांग्रेस पर मोदी के तीखे वार और पांच राज्यों में बीजेपी के हार के मायने ?
ममता बनर्जी ने शुरु की 'भाजपा भारत छोड़ो आंदोलन'
आरक्षण को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति आयोग का कड़ा रुख
झारखंड : राज्यपाल ने लोकतंत्र का गला घोंटकर नई मिशाल कायम की
हैदराबाद गैंग रेप-मर्डरः पुलिस ने चारो आरोपी को रिमांड अवधि में वारदात स्थल पर ले जाकर मार गिराया
पत्रकार पुत्र की निर्मम हत्या पर बोले मांझी-  बेशर्म हैं सत्ता में बैठे लोग

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter