दार्जिलिंग बन्द 32वें दिन जारी, स्थिति तनावपूर्ण

Share Button

“अलग राज्य की माँग को लेकर आन्दोलन चला रहे गोरखा जन मुक्ति मोर्चा ने कई जगहों पर रैलियाँ निकाल कर अपना विरोध जता रही है। बेमियादी हड़ताल के कारण दार्जिलिंग में खाद्य आपूर्ति बुरी तरह से प्रभावित हुई है। रविवार बन्द का 32 वाँ दिन था।”

आसनसोल ( राजू शर्मा)।  दार्जिलिंग में गोराखालैंड समर्थकों का आन्दोलन जारी है। अलग राज्य की माँग को लेकर बेमियादी बन्द के 32 वें दिन पहाड़ी क्षेत्रों पुलिस के द्वरा कड़ी सतर्कताबरती जा रही है। इन्टरनेट सेवाओं पर 18 जून से प्रतिबंध लगाया गया था उसे बढ़ा कर उसे 25 जुलाई तक बढ़ा दी गई हैा लेकिन शुक्रवार को पहाड़ों पर आन्दोलनकारियों ने एक सरकारी दफ़्तर सरकारी पुस्तकालय और आरपीएफ के दफ़्तर में आग लगा दी थी,जिसके बाद हिंसा फैल गयी थी।

गोजमुमो और अन्य एनजीओ के सदस्य लोगों को भोजन सामग्री बांट रहें हैं। दार्जिलिंग, कलिमपोंग, करसियांग और सेनादा में सेना लगातार गश्त लगा रही है। पर सेना के तैनाती के बाबजूद पहाड़ों पर हिंसा देखी जा रही है।

स्थानीय सूत्रों से मिली ख़बर के अनुसार कुछ संदिग्ध आन्दोलनकारियों ने शनिवार को करसियांग के गयाबाडी मे 2 पुलिस वाहनों में  तोड़फोड़ की। हालाँकि किसी पुलिस वालों के घायल होने की कोई ख़बर नहीं मिली।

इसी बीच कलकत्ता उच्च न्यायालय ने केन्द्र को और सुरक्षा बल तैनात करने का आदेश दिया है और चार टुकड़ी अर्द्ध सैनिक बल यहाँ पहुँच गयी है

पहले से यहाँ पर अर्द्ध सैनिक बलों की 11 टुकड़ी मौजूद है। पुलिस और सुरक्षा बलों की पहाड़ी क्षेत्रों की सड़कों पर गश्ती कर रही है सभी प्रवेश तथा निकास मार्गों पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है।

दवा की दुकानों को छोड़ कर समस्त व्यापारिक प्रतिष्ठान, रेस्तराँ, होटल, स्कूल और काँलेज बन्द है। अर्ध सैनिक बल वहाँ स्थानीय पुलिस बल के साथ मिल कर क़ानून- व्यवस्था बहाल करने का काम कर रहे हैं ।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

बीए फेल धोनी को मिलेगी डॉक्टर ऑफ लॉ की डिग्री !
खट्टर सरकार को हाई कोर्ट की कड़ी फटकार, कहा- राजनीतिक स्वार्थ में डूबी रही सरकार
तेज बहादुर की जगह सपा की शालिनी यादव होंगी महागठबंधन प्रत्याशी!
करगिल युद्धः एक और विजय कहानी
इस बार मुख्यमंत्री बनते ही शिबू सोरेन ने बदले तेवर
कड़ी पुलिस व्यवस्था के बाबजूद पहुंच रहे अनशनकारियों का नजारा
शराबबंदी के बीच सीएम नीतीश के नालंदा में फिर सामने आया पुलिस का घृणित चेहरा
प्रतिभा को स्थानीयता की सीमा मे न समेटे
दलित की खातिर सीएम की कुर्सी छोड़ने को तैयार हैं सिद्धारमैया
सिर्फ मनमोहन और राहुल गांधी से बात करेंगे अनशन पर बैठे अन्ना !
गुजरात से बिहार आकर मुर्दों की बस्ती में इंसाफ तलाशती एक बेटी
POK के आतंकी अड्डों पर आसमानी प्रहार, मिराज ने की भीषण बमबारी
5 साल की सजा के 48 घंटे बाद ही जमानत पर यूं रिहा हुआ सलमान
ये वन-कोयला नहीं, वन-घोटाला है मौनी बाबा !
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की कड़ी फटकार के बाद हरकत में आये उनके घर-जिले के कुशासित अधिकारी
खेल के साथ बिजनेस भी करेगे धौनी
ST-MT की गला दबाकर हत्या करने जैसी है CNT-CPT में संशोधन: नीतीश
जेटली चुने हुए नेता नहीं हैं इसलिये वे लोगों का दर्द नहीं समझतेः यशवंत सिन्हा
राजगीर वाइल्ड लाइफ सफारी पार्क निर्माण पर रोक
झारखंड:बहुत कठिन डगर दिख रही है शिबू सोरेन की.
सोनिया जी ये इटली नही,विश्व का सबसे बडा लोकतांत्रिक देश भारत है: अपनी महाराष्ट्र सरकार पर लगाम लगाईय...
डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !
30 साल के जालसाजों पर कहर ढायेगी बिहार शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर का यह फैसला
"झारखंड में दिखेगी विनाश की रेखा !!"

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter