तेज बहादुर की जगह सपा की शालिनी यादव होंगी महागठबंधन प्रत्याशी!

Share Button

INR. उत्तर प्रदेश के वाराणसी लोकसभा सीट से सपा प्रत्याशी और बर्खास्त बीएसएफ के जवान तेज बहादुर यादव के नामांकन को निर्वाचन अधिकारी ने रद्द कर दिया है।

तेज बहादुर के नामांकन पत्र के कागजों में गड़बड़ी पाई गई थी, जिसके लिए वाराणसी के रिटर्निंग ऑफिसर ने उन्हें नोटिस देकर एक प्रमाण पत्र जमा करने को कहा गया था लेकिन वह नहीं कर पाए। इसके बाद नामांकन रद्द कर दिया है, फिलहाल वह चुनाव नहीं लड़ पाएंगे।

तेज बहादुर यादव के नामांकन रद्द होने के बाद अब माना जा रहा है कि शालिनी यादव सपा के उम्मीदवार के तौर पर चुनाव मैदान में होंगी, क्योंकि उन्होंने भी नामांकन दाखिल कर रखा है।

दरअसल सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने तेज बहादुर यादव से पहले शालिनी यादव को अपना प्रत्याशी घोषित किया था। शालिनी यादव कांग्रेस छोड़कर सपा में शामिल हुई है।

तेज बहादुर यादव प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सामने वाराणसी से चुनाव लड़ने को ताल ठोका था। पहले उन्होंने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर नामांकन दाखिल किया था।

इसके बाद समाजवादी पार्टी ने तेज बहादुर को अपना प्रत्याशी घोषित कर दिया। इसके बाद उन्होंने सपा उम्मीदवार के तौर पर दूसरा नामांकन पत्र दाखिल किया।

नामांकन पत्रों की जांच के बाद तेज बहादुर यादव द्वारा दाखिल दो नामांकन पत्रों में बीएसएफ से बर्खास्तगी की दो अलग-अलग जानकारी सामने आई थी।

हालांकि नामांकन रद्द होने के बाद तेज बहादुर ने कहा कि मेरा नामांकन गलत तरीके से रद्द किया गया है। मुझे सबूत देने के लिए कहा गया था, मैंने सबूत दिए भी। इसके बावजूद मेरा नामांकन रद्द कर दिया गया। अब हम इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएंगे।

दरअसल वाराणसी लोकसभा सीट से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दूसरी बार चुनावी मैदान में हैं। मोदी के खिलाफ कांग्रेस ने अजय राय को अपना प्रत्याशी बनाया है, जिन्होंने नामांकन पत्र दाखिल कर रखा है।

सपा ने पहले शालिनी यादव को अपना प्रत्याशी घोषित किया था और बाद में तेज बहादुर यादव को उम्मीदवार घोषित कर दिया था। हालांकि सपा की ओर से दोनों प्रत्याशियों ने अपने-अपने नामांकन दाखिल कर रखा है।

ऐसे तेज बहादुर के नामांकन रद्द होने के बाद अब माना जा रहा है कि शालिनी यादव पार्टी की प्रत्याशी होंगी।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

अन्ना की गिरफ्तारी के विरोध में सड़कों पर जन सैलाब उमड़ा
कुख्यात नक्सली कुदंन पाहन की फांसी की मांग को लेकर आमरण अनशन पर बैठे विकास मुंडा, कहा- सरेंडर की हो ...
ईको टूरिज्म स्पॉट बनकर उभरेगा घोड़ा कटोरा :सीएम नीतीश
...तो नया मोर्चा बनाएँगे NDA के बागी 'कुशवाहा '
"झारखंड में दिखेगी विनाश की रेखा !!"
नहीं बदला है दैनिक हिन्दुस्तान का चरित्र
भाजपा की 20-20 खेल में यूं उलझे नीतिश-कुशवाहा
पीएम मोदी के 'स्टार हमशक्ल' को यूं महंगे पड़ रहे 'अच्छे दिन'
उपमुख्यमंत्री सुदेश की अनुभवहीनता कही ले न डूबे मुख्यमंत्री शिबू सोरेन की लुटिया
दलित की खातिर सीएम की कुर्सी छोड़ने को तैयार हैं सिद्धारमैया
"सुशासन बाबू" के सुशासन को मुहँ चिढ़ाता उनका घर-जिला नालंदा का ताजातरीन सूरत
तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट....
कसाई कौन ? डॉक्टर या दैनिक भास्कर ?
‘टाइम’ ने मोदी को 'इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ के साथ ‘द रिफॉर्मर’ भी बताया
सता और विपक्ष का ये कैसा घाल-मेल?
ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास
भारतीय मीडिया का सबसे बड़ा गैंग
70 फीट ऊँची बुद्ध प्रतिमा के मुआयना समय बोले सीएम- इको टूरिज्म में काफी संभावनाएं
तमाड़ के भूत से भयभीत हैं शिबू सोरेन?
वैशाली के 3 डीएसपी, 50 इंस्पेक्टर समेत 66 पर एक साथ एफआइआर
इंगलिश मीडिया ने टीम इंडिया की तुलना कुत्ते से की
“अंकल माओवादी हमारे स्कूल क्यो उडाते है?” नक्सलियो के लिये शर्म है गांव के इन स्कूली बच्चो की चीख
नवादा के डीएम दरबार में छात्राओं के साथ छेड़छाड़ का मामला गूंजा
केन्द्रीय मंत्री सुबोधकांत सहाय बाल-बाल बचे : उनकी पिकनिक मे समर्थक ने शरीर मे आग लगाई

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter