» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास

Share Button

“देश की इस 17 वीं लोकसभा चुनाव में राजनीतिक दलों में सेना के नाम पर वोट मांगने की नयी संस्कृति आ गई है। सेना की शहादत के नाम पर वोट भुनाने का खेल चल पड़ा है। अब राजनीतिक दलों के लिए सेना भी वोट बैंक बन गई है। लेकिन दूसरी तरफ देश की रक्षा एवं सेवा में तत्पर इन सैनिकों के गांव की सुध सरकार नहीं ले पा रही है। इन सैनिकों में कई ऐसे सैनिक होंगे, जिनके गाँव में विकास की रौशनी नहीं पहुँची है। उनके गाँव के लोग आज भी बीमार होने पर खाट पर टंगाकर चार किलोमीटर दूर उन्हें अस्पताल जाना पड़ता है। जहाँ पानी पीने के लिए आज भी कुएँ पर निर्भर रहना पड़ रहा है….”

बिहार एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क ब्यूरो (जयप्रकाश नवीन)। बिहार के सीएम भी विकास का राग अलापते थकते नही है।लेकिन उनके राज में ही गया का चिरयामा विकास से कोसो दूर है। जहानाबाद लोकसभा क्षेत्र में आने वाले इस गांव के लोगों ने रोड नहीं तो वोट नहीं का एलान कर वोट बहिष्कार का निर्णय लिया है।

बिहार के गया जिला मुख्यालय से 40 किलोमीटर दूर अतरी प्रखंड का एक गाँव जिसका नाम है चिरयामा। जो फौजियो के गांव के नाम से भी जाना जाता है। देशसेवा का यह जज्बा यहां पीढ़ियों से चला आ रहा है। आलम यह है कि गांव में ऐसा कोई घर नहीं जहां से एक बेटा फौज में न हो।

पहाड़ की तलहटी में बसा यह गांव जहानाबाद लोकसभा के अंतर्गत आता है। जहां हर घर में सैनिक है। 1200 की आबादी वाले इस गांव में लगभग डेढ़ सौ घर है जिनमें  100 से ज्यादा सैनिक है। जो देश के विभिन्न सीमाओं पर तैनात है। कई घरों में तो दो तीन लोग सेना में है। वही गांव के कई ऐसे घर है जहाँ तीन -तीन पीढ़ियों से लोग सेना में देश की सेवा करते आ रहे हैं।

लेकिन इस गांव की हालत देखकर किसी को भी रोना आ सकता है।गाँव की पहचान भले ही फौजियों की गाँव वाली हो लेकिन आज भी चिरनायामा विकास से कोसो दूर आदिम दमनीयता के रूप में देखा जा सकता है।जहां मूलभूत सुविधाएँ नहीं है। बल्कि गांव में  समस्याओं का समंदर है।

21 वीं सदी में भी चिरयामा विकास को मुँह चिढा रहा है। जहां बीमार होना अभिशाप है। बीमार होने पर लोगों को खाट पर लादकर मरीजों को 4 किलोमीटर दूर अस्पताल पहुंचाते हैं लोग। अगर जच्चगी की बात हो तो भगवान ही मालिक है। 

जहां पीने का पानी नहीं मिलता। गांव के लोग आज भी पेयजल के लिए कुएँ पर निर्भर है। वो भी भीषण गर्मी में सूख जाता है। ग्रामीण  पथरीली और उबड खाबड रास्ता तय कर शहर पहुँचते हैं। वो भी बरसात में बंद। पहाड़ी रास्तों पर चलकर बच्चे स्कूल जाते हैं।

गाँव में सबसे बड़ी समस्या सड़क की है। पहले तो गांव में आवागमन की भी सुविधा नही थी। लेकिन ग्रामीणों ने श्रमदान कर पहाड़ का सीना चीरकर एक रास्ता भी बना दिया। जहां से चार किलोमीटर की दूरी तय कर प्रखंड मुख्यालय अतरी पहुँचा जा सकता है।

कहने को यह गांव जहानाबाद लोकसभा में आता है। जहां चुनाव को लेकर विभिन्न राजनीतिक दलों का प्रचार जोरों पर है। लेकिन इस गांव पर नेताओं की कृपा दृष्टि शायद नहीं हुई है। ग्रामीणों का कहना है कि पिछली बार अरूण कुमार सिंह गाँव आएं थे, विकास के वायदे भी कर गए लेकिन कुछ नहीं हुआ।

नेताओं की वादाखिलाफी से आजिज ग्रामीणों ने इस बार वोट बहिष्कार का एलान कर दिया है। उनका कहना है कि रोड नहीं तो वोट नहीं।

कहा जाता है भारत गांवों का देश है। देश की आत्मा गांव में बसती है।तो क्या गांव में रहने वाली आत्मा रोती ही रहेगी। सरकार आदर्श गांव बनाने की बात करती है लेकिन विकास सिर्फ़ शहरों तक ही सिमट कर रहेगा?

कहाँ है सरकार और सरकारी  मशीनरी जो दुनिया बदल देने का दंभ भरती है। कहाँ हैं वे लोग जो हिन्दुस्तान को विश्व गुरू बना देने की बात करते हैं?  

कहाँ है बिहार के ‘विकास पुरूष’ नीतीश कुमार जो विकास के बड़े दावे करते हैं? जिनके शासन में चिरयामा विकास से कोसो दूर है? कहाँ है वे लोग जो सैनिकों की शहादत पर वोट मांग रहे हैं?

21 वीं सदी के भारत के इस गांव की बदहाली कब खत्म होगी ‘फौजियों के गांव’ के लोग निजाम से पूछ रहे हैं। विकास से दूर रखने पर चिरयामा इस बार नेताओं को सबक सीखाने की ठान ली है।

Share Button

Related News:

राम ही खुद तय करेगें अयोध्या में मंदिर निर्माण की तारीखः योगी आदित्यनाथ
'बाहुबली द बिगनिंग' और 'बाहुबली द कंक्लूजन' के बाद पर्दे पर दिखेगी 'बाहुबली-3'
शराबबंदी के बीच सीएम नीतीश के नालंदा में फिर सामने आया पुलिस का घृणित चेहरा
‘10-12-14 साल के बच्चों को मार कर पुलिस ने बताया था कुख्यात नक्सली’
प्रशासन को ठेंगा दिखा अपने अवैध होटल का विस्तार करने में मस्त है राजगीर का यह कथित जर्नलिस्ट
देखिये वीडियो, यूं हट रहा है राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से अतिक्रमण
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से हर हाल में हटेगा अतिक्रमण, प्रशासन सक्रिय
इस भाजपा सांसद ने दी ठोक डालने की धमकी, ऑडियो वायरल, पुलिस बनी पंगु
ये हैं चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा और उन पर सवाल उठाने वाले 4 जज
दलित की खातिर सीएम की कुर्सी छोड़ने को तैयार हैं सिद्धारमैया
टाटा जू को कहीं अन्यत्र शिफ्ट करने के आदेश
यूं गेंहू काटने वाली 'बंसती' को जिताने 'वीरू' पहुंचे मथुरा, बोले- मैं  किसान हूं
सुप्रीम कोर्ट की दो टूकः शादी का वादा कर शारीरिक संबंध बनाना रेप
'मौत की बस' में कारबाइड या  सिलेंडर? सस्पेंस कायम
मां हिन्दी के इस लोकप्रिय ‘पागल-दीवाना’ बेटा को जन्म दिन मुबारक
आईना देख बौखलाये भाजपाई, वरिष्ठ पत्रकार कृष्ण बिहारी मिश्र पर किया थाना में मुकदमा
यशवंत सिन्हा ने भाजपा से तोड़ा नाता, बोले-खतरे में है लोकतंत्र
ममता की रैली में शामिल हुए भाजपा के 'शत्रु', पार्टी ने दिए कार्रवाई के संकेत
बड़ा रेल हादसाः रावण मेला में घुसी ट्रेन, 100 से उपर की मौत
अभिनेता अनुपम खेर सहित 14 पर थाने में एफआईआर के आदेश
मीडिया की ABCD का ज्ञान नहीं और चले हैं पत्रकार संगठन चलाने
बिहारी बाबू का फिर छलका दर्द ‘अब भाजपा में घुट रहा है दम’
IPS जसवीर सिंह सस्पेंड, योगी आदित्यनाथ पर लगाया था रासुका
जानिए कौन थे लाफिंग बुद्धा, कैसे पड़ा यह नाम

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter