» तीन तलाक को राष्ट्रपति की मंजूरी, 19 सितंबर से लागू, यह बना कानून!   » तीन तलाक कानून पर कुमार विश्वास का बड़ा रोचक ट्विट….   » मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » बिहार के विश्व प्रसिद्ध व्यवसायी सम्प्रदा सिंह का निधन   » पत्नी की कंप्लेन पर सस्पेंड से बौखलाया था हत्यारा पुलिस इंस्पेक्टर   » कर्नाटक में सरकार गिरना लोकतंत्र के इतिहास में काला अध्याय : मायावती   » समस्तीपुर से लोजपा सांसद रामचंद्र पासवान का निधन   » दिल्ली की 15 साल तक चहेती सीएम रही शीला दीक्षित का निधन   » अपनी दादी इंदिरा गांधी के रास्ते पर चल पड़ी प्रियंका?   » हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!  

टीम चयन से नाराज गावस्कर को आई धोनी की याद

Share Button

(INR). दक्षिण अफ़्रीका दौरे पर भारतीय टीम के चयन और फ़ैसलों ने सबको हैरान किया है। फिर वो टीम के उप कप्तान और विदेशी ज़मीं पर सबसे सफल भारतीय बल्लेबाज़ों में से एक अजिंक्य रहाणे को बाहर रखना हो या पहले टेस्ट के अपने सबसे सफल गेंदबाज़ भुवनेश्वर को दूसरे टेस्ट में ना खिलाना हो या फिर मैच के चौथे दिन तीसरा विकेट गिरने के बाद रोहित शर्मा को बल्लेबाजी के लिए ना भेजना हो।  मुश्किल हालात में पार्थिव पटेल को बल्लेबाज़ी के लिए भेजने का फ़ैन्स के साथ-साथ अब पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर भी इस पर खुलकर बोले हैं।

सुनील गावस्कर ने इस संबंध में कहा, “आप पहले टेस्ट से इस टीम के चयन को देखिए। इस टेस्ट में भी टीम का चयन देखिए और बाकी चीज़ें जो ये टीम कर रही है। ये टीम अलग तरह से सोच रही है, जिस पर हम में से कोई भी उंगली नहीं उठा सकता। भारतीय क्रिकेट से जुड़े हम सभी लोगों को दुआ करनी चाहिए कि ये जो कर रहे हैं वो काम कर जाए। पहले टेस्ट में वो काम नहीं किया। दूसरे टेस्ट में भी अब तक वो काम नहीं किया है।”

गावस्कर टीम से इतने निराश दिखे कि उन्हें पूर्व भारतीय कप्तान महेंदर सिंह धोनी की याद आ गई। उन्होंने कहा,  “काश उन्होंने संन्यास नहीं लिया होता। उन्होंने कहा कि अगर धोनी चाहते तो वो खेल सकते थे। लेकिन साफ़ है कि उन पर कप्तानी का बहुत दबाव था। मेरे मुताबिक, उन्हें कप्तानी छोड़ कर बतौर विकेट कीपर बल्लेबाज़ टीम में बने रहना चाहिए था। क्योंकि ड्रेसिंग रूम में उनकी सलाह अनमोल है। शायद उन्होंने सोचा कि उनका चले जाना ही ठीक है।”

चौथे दिन के बाद टीम इंडिया ने अपने 3 विकेट 35 रन पर ही गंवा दिए, जिसके बाद गावस्कर ने कहा कि उन्हें नहीं लगता कि टीम इंडिया अब ये मैच जीत सकती है। सच कहूं तो विराट कोहली के आउट हो जाने के बाद मुझे नहीं लगता कि भारत में ये मैच जीतने की क्षमता है

गावस्कर निराश ज़रूर हैं, लेकिन हर भारतीय क्रिकेट के फ़ैन की तरह उनकी भी उम्मीद है कि विदेशों में भारतीय टीम के हालात अच्छे हो जाएं।

Share Button

Related News:

कब तक चलेगी झारखंड मे गुरूजी की सरकार? मंत्रिमंडल गठन के बाद पार्टी मे भूचाल तो आवंटित विभाग के बाद ...
झारखंड विधानसभा चुनाव:रांची जिला, रांची क्षेत्र के उम्मीदवारो को मिले मत
रांची के दैनिक सन्मार्ग ने दिया मानवता का परिचय
जब गुलजार ने नालंदा की 'सांसद सुंदरी' तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म 'आंधी'
प्रियंका के इंकार के बाद रिंग में दस्ताने पहन यूं अकेले रह गए मोदी
महागठबंधन की तस्वीर साफ, लेकिन कन्हैया पर नहीं बनी बात
'कमल' खिलते ही त्रिपुरा में व्लादिमीर लेनिन की मूर्ति पर चलाया बुल्डोजर
यूं गेंहू काटने वाली 'बंसती' को जिताने 'वीरू' पहुंचे मथुरा, बोले- मैं  किसान हूं
*एक्सपर्ट मीडिया न्यूज नेटवर्क के कर्तव्य को अब आपके दायित्व की जरुरत.....✍🙏*
इस मानव श्रृखंला से कितना चमक पायेगा इस बार नीतिश का चेहरा?
5 साल की सजा के 48 घंटे बाद ही जमानत पर यूं रिहा हुआ सलमान
BRD मेडिकल कॉलेज में  मौतों का सिलसिला जारी, 48 घंटो में फिर 42 बच्चों की मौत
ललन के चक्रव्यूह मे फंसे बिहार के सुशासन बाबू
बजट सत्र के बाद बदल जाएगा देश की उपरी सदन राज्यसभा का रंग
झारखंडी सत्ता का फिफ्टीकरण: ढाई साल तक "गुरूजी" मुख्यमंत्री और उसके बाद उनका बेटा हेमंत सोरेन बनेगा ...
रांची के रिम्स में लालू से मिलकर यूं गरजे बिहारी बाबू- ‘खामोश’
पीएम मोदी के 'स्टार हमशक्ल' को यूं महंगे पड़ रहे 'अच्छे दिन'
EC का बड़ा एक्शनः योगी-मायावती के चुनाव प्रचार पर रोक
हम होली कैसे मनाएं?
तेजप्रताप का शंखनाद- मैं कृष्ण और मेरा भाई अर्जुन, अब होगी असली जंग
राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य
कल CM,PMO,DGP,DIG,SSP,CSP को भेजा ईमेल, आज सुबह पेड़ से यूं लटकता मिला उसका शव  
 प्रभुनाथ को जेल से लालू की राजनीति को एक बड़ा झटका
कौन है संगीन हथियारों के साये में इतनी ऊंची रसूख वाला यह ‘पिस्तौल बाबा’

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» मुंशी प्रेमचंद: हिंदी साहित्य के युग प्रवर्तक   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां  
error: Content is protected ! india news reporter