» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

‘टाइम’ ने मोदी को ‘इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’ के साथ ‘द रिफॉर्मर’ भी बताया

Share Button

“पत्रिका के अंदर ‘‘क्या विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र मोदी सरकार के पांच साल और झेल सकता है?’’ शीर्षक के तहत एक लेख छपा है जिसे तासीर ने लिखा है…..”

INR. देश में लोकसभा चुनाव के अंतिम पड़ाव पर पहुंचने के बीच ‘टाइम’ पत्रिका ने अपने अंतरराष्ट्रीय संस्करण के कवर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर के साथ एक विवादास्पद शीर्षक छापा है, लेकिन इसके नीचे ही एक अन्य शीर्षक में मोदी की प्रशंसा की गई है।

अमेरिकी पत्रिका ने 20 मई 2019 के यूरोप, पश्चिम एशिया एवं अफ्रीका, एशिया और दक्षिण प्रशांत के अपने अंतरराष्ट्रीय संस्करण के कवर पर मोदी की तस्वीर के साथ शीर्षक दिया है ‘‘इंडियाज डिवाइडर इन चीफ’’।

इस लेख को आतिश तासीर ने लिखा है जो भारतीय पत्रकार तवलीन सिंह और दिवंगत पाकिस्तानी नेता एवं कारोबारी सलमान तासीर के बेटे हैं। इस शीर्षक के नीचे एक अन्य शीर्षक दिया गया है : ‘‘मोदी द रिफॉर्मर’’ (सुधारक मोदी) ।

पत्रिका में यह भी कहा गया है कि विपक्षी कांग्रेस के पास वंशवाद के सिद्धांत के अलावा और कुछ देने को नहीं है। ‘‘मोदी द रिफॉर्मर’’ (सुधारक मोदी) लेख ‘यूरेशिया ग्रुप’ के अध्यक्ष एवं संस्थापक इयान ब्रेमर ने लिखा है।

पत्रिका के अंदर ‘‘क्या विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र मोदी सरकार के पांच साल और झेल सकता है?’’ शीर्षक के तहत एक लेख छपा है जिसे तासीर ने लिखा है।

इसके अलावा ब्रेमर ने ‘‘आर्थिक सुधार के लिए भारत की सबसे बड़ी आशा मोदी’’ शीर्षक के तहत लेख लिखा है। तासीर ने लेख में लिखा, ‘‘मोदी के आर्थिक चमत्कार वास्तविक बनने में न केवल असफल हुए बल्कि इसने भारत में जहरीले धार्मिक राष्ट्रवाद का माहौल पैदा करने में भी मदद की।’’ 

तासीर ने कहा कि भारत की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के पास राहुल गांधी की बहन प्रियंका गांधी को, भाई के साथ खड़ा करने के अलावा और कोई राजनीतिक सोच नहीं बची। उन्होंने कहा कि मोदी भाग्यशाली हैं कि उनका विपक्ष इतना कमजोर है। 

वहीं दूसरी ओर, ब्रेमर ने लिखा कि मोदी का आर्थिक रिकॉर्ड मिश्रित रहा है लेकिन, ‘‘भारत को बदलाव की आवश्यकता है और मोदी अब भी वह व्यक्ति है जो ऐसा कर सकते हैं।

उन्होंने चीन, अमेरिका और जापान के साथ संबंधों में सुधार किया है।’’  उन्होंने कहा कि उनके घरेलू विकास एजेंडे ने करोड़ों लोगों के जीवन में सुधार किया है।

Share Button

Related News:

घाटी का आतंकी फिदायीन जैश का 'अफजल गुरू स्क्वॉड'
अब परचून की दुकानों में शराब बेचेगी भाजपा सरकार
प्रियंका की इंट्री से सपा-बसपा की यूं बढ़ी मुश्किलें
मुखबिर और ठग है दैनिक भास्कर का पत्रकार सुबोध मिश्रा !
गैंग रेप-मर्डर में बंद MLA से मिलने जेल पहुंचे BJP MP साक्षी महाराज, बोले- 'शुक्रिया कहना था'
अमन का पैगाम के नाम पर गुंडागर्दी, रोड़ेबाजी, फायरिंग, लाठी चार्ज, स्थिति तनावपूर्ण
नौकरी में बहाली बिहार में सिर्फ नालंदा जिले के लोगों का: राबड़ी देवी
फालुन गोंग का चीन में हो रहा यूं अमानवीय दमन
इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरे...
कुख्यात नक्सली के सरेंडर मामले में रघुबर सरकार की मुश्किलें बढ़ी, HC के बाद PMO ने लिया कड़ा संज्ञान
....और इस कारण 6 माह में 3 बार यूं बदले केन्द्र सरकार की ‘मोदी केयर’ के नाम
झूठे साबित हो चुके हैं एग्जिट पोल के नतीजे
मोदी सरकार में अछूत बनी जदयू नेता नीतीश ने कहा- सांकेतिक मंत्री पद की जरूरत नहीं
रामविलास पासवान का देखिये परिवारवाद, अब भतीजा बना छात्र लोजपा का राष्ट्रीय अध्यक्ष
पीएम मोदी के 'स्टार हमशक्ल' को यूं महंगे पड़ रहे 'अच्छे दिन'
SBI बैंक में देखिये भ्रष्टाचार, मिड डे मिल का 100 करोड़ बिल्डर के एकाउंट में डाला
महागठबंधन की सरकार में महादलितों पर अत्याचार बढ़ाः जीतनराम मांझी
इमरान का संसद में बयान- कल भारत लौटेंगे अभिनंदन
चारा घोटा की नींव रखने वाले को पर्याप्त सबूत होते भी सीबीआई ने क्यों बख्शा!
सुप्रीम कोर्ट की दो टूकः शादी का वादा कर शारीरिक संबंध बनाना रेप
एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?
बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय
इस तरह तैयार की जाती है बढ़ते मांग के बीच सेक्स डॉल्स
तो क्या ‘बे-कार’ हैं खरबपति सांसद किंग महेन्द्र !

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter