» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

जानिएः कौन है चंदन सिंह, जिसने केन्द्रीय मंत्री गिरीराज सिंह को लगाया ठिकाना

Share Button

INR. बिहार की राजनीति में कोई भी दल या उसके नेता कितने भी ढिंढोंरे पीट ले, लेकिन वे टिकटों के बंटबांरे में बाहुबलियों के आगे घुटने टेक ही देती है। अब नवादा लोकसभा सीट को ही देखिए। यहां महागठबंधन के राजद ने पहले ही यौनचार में सजायाफ्ता बाहुबली नेता राजबल्लव यादव की पत्नी को आगे कर जहां सबको चौंका दिया।

वहीं एनडीए के प्रमुख घटक भाजपा ने अपने निवर्तमान सासंद केन्द्रीय मंत्री गिरीराज सिंह सरीखे नेता को ठिकाना लगाते हुए लोजपा की झोली में सीट डाल दिया।

यहां अंतिम क्षणों तक संभावना व्यक्त की जा रही थी कि बाहुबली नेता सुरजभान सिंह की पत्नी वीणा देवी जंगे मैदान उतरेंगी, लेकिन अचनक लोजपा ने गुमानाम सा नाम चंदन सिंह को लड़ाने की घोषणा कर सनसनी फैला दी है।

उनकी टिकट की घोषणा होते हैं एकारगी सवाल उठा कि आखिर कौन हैं चंदन सिंह….

दरअसल नवादा सीट से जिस चंदन सिंह को लोजपा ने अपना प्रत्याशी बनाया है, इस सीट से पहले उनकी भाभी और फिलहाल मुंगेर से सासंद वीणा देवी का नाम आ रहा था। लेकिन ऐन वक्त पर चंदन अपनी भाभी वीणा देवी पर भारी पड़ गए और लोजपा ने उन्हें इस सीट से अपना प्रत्याशी बनाया है।

चंदन सिंह बाहुबली नेता और पूर्व सांसद सूरजभान सिंह के सबसे छोटे भाई हैं। तीन भाईयों में सबसे छोटे चंदन की गिनती बिहार के बड़े कांट्रैक्टरों में होती है और उनका काफी बड़ा व्यवसाय है।

चंदन झारखंड के एक मशहूर बिल्डर के दामाद हैं और उनका व्यवसाय कई राज्यों में फैला है। चदंन के करीबी लोगों के अनुसार नवादा को लेकर वो पिछले दो सालों से काफी सक्रिय थे और खुद उनके बड़े भाई सूरजभान सिंह ने चंदन को नवादा सीट पर फोकस करने को कहा था।

दरअसल सूरजभान सिंह की पत्नी वीणा देवी के बाद अब छोटे भाई की पॉलिटिक्स में एंट्री की बारी थी, जिसे सूरजभान सिंह ने समय रहते बड़ी आसानी से अंजाम दिया और गिरिराज सिंह का पत्ता कटवाकर भूमिहारों के लिए सेफ सीट कहे जाने वाले नवादा से लांच किया।

चंदन को नवादा सीट मिली है। जहां के निवर्तमान सांसद भजपा के गिरिराज सिंह हैं। ऐसे में उनके उपर न केवल इस सीट को बचाने की जिम्मेवारी होगी बल्कि अपने भाई और पार्टी के विश्वास को भी जीतने की।

इस सीट से राजद ने जेल में बंद राजबल्लभ यादव की पत्नी विभा देवी को टिकट दिया है। ऐसे में जाहिर है कि यहां सीधी लड़ाई यादव बनाम भूमिहार की भी है। चंदन लोजपा से टिकट पाने वाले एकमात्र भूमिहार प्रत्याशी हैं।

Share Button

Related News:

बिहार पहुँची किसान आंदोलन की चिंगारी, बिहारशरीफ में निकला ‘अधिकार मार्च’
पटना साहिब सीट नहीं छोड़ेंगे ‘बिहारी बाबू’, पार्टी के नाम पर कहा ‘खामोश’
दलित की खातिर सीएम की कुर्सी छोड़ने को तैयार हैं सिद्धारमैया
मोदी सरकार में अछूत बनी जदयू नेता नीतीश ने कहा- सांकेतिक मंत्री पद की जरूरत नहीं
SC का बड़ा फैसलाः फोन ट्रैकिंग-टैपिंग-सर्विलांस की जानकारी लेना है मौलिक अधिकार
सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड को लेकर दिये अहम फैसले, ये आपको जानना है जरुरी
ईको टूरिज्म स्पॉट बनकर उभरेगा घोड़ा कटोरा :सीएम नीतीश
सलमान खान को 5 साल की सजा, गए जोधपुर सेंट्रल जेल
नौकरी में बहाली बिहार में सिर्फ नालंदा जिले के लोगों का: राबड़ी देवी
प्रियंका के इंकार के बाद रिंग में दस्ताने पहन यूं अकेले रह गए मोदी
बोले मुख्य चुनाव आयुक्त- 5 राज्यों में नवंबर-दिसंबर में होंगे विधानसभा चुनाव
कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?
कांग्रेस की जन आकांक्षा रैली में राहुल गांधी का मोदी पर आक्रामक हमला
रिटायर्ड सिपाही का बेटा लेफ्टिनेंट बन नगरनौसा का नाम किया रौशन
कोडरमा घाटी से महिला का शव मिला, दुष्कर्म कर हत्या की आशंका
14 वर्ष बाद भी बिहार के अंगीभूत कॉलेजों में चल रही इंटर की पढ़ाई !
पर्यटकों से फिर गुलजार होने लगी ककोलत की मनोरम वादियां
प्रशासन को ठेंगा दिखा अपने अवैध होटल का विस्तार करने में मस्त है राजगीर का यह कथित जर्नलिस्ट
लेकिन, प्राईवेट स्कूलों की जारी रहेगी मनमानी, बोझ ढोते रहेंगे मासूम
BRD मेडिकल कॉलेज में  मौतों का सिलसिला जारी, 48 घंटो में फिर 42 बच्चों की मौत
दुनिया के यह सबसे अमीर शख्स रखता है ओल्ड फ्लिप फोन !
30 साल के जालसाजों पर कहर ढायेगी बिहार शिक्षा बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर का यह फैसला
Me Too से घिरे एम जे अकबर का मोदी मंत्रिमंडल से अंततः यूं दिया इस्तीफा
नक्सलियों ने नोटबंदी के समय BJP MLC को दिए थे 5 करोड़ !

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter