» प्रियंका के इंकार के बाद रिंग में दस्ताने पहन यूं अकेले रह गए मोदी   » बीजेपी दफ्तर को बम उड़ाया, पीएम मोदी की मेढ़क से तुलना, नीतीश पर भी प्रहार   » जदयू नेता से यूं मांगे 5 लाख और यूं 2 लाख लेते धराए गया के एसडीओ   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!   » राजनीतिक दोस्तों के भी रियल ‘शत्रु’ हैं बिहारी बाबू !   » पत्नी अपूर्वा शुक्ला ने की थी रोहित शेखर तिवारी की गला दबा हत्या   » राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य   » ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास   » EC का बड़ा एक्शनः योगी-मायावती के चुनाव प्रचार पर रोक   » पत्रकार पुत्र की निर्मम हत्या पर बोले मांझी-  बेशर्म हैं सत्ता में बैठे लोग  

जयंती  विशेषः एक सच्चा पत्रकार, जो दंगा रोकते-रोकते हुए शहीद

Share Button

कलम की ताकत क्या होती है और निडर और निष्पक्ष पत्रकारिता किस तरह की जा सकती है। इसकी प्रेरणा हम गणेश शंकर विद्यार्थी के जीवन से ले सकते हैं। खासकर आज के दौर में विद्यार्थी जैसे लोगों की कमी काफी खलती है……”

-: नवीन शर्मा :-

कलम की ताकत हमेशा से ही तलवार से अधिक रही है और ऐसे कई पत्रकार हैं, जिन्होंने अपनी कलम से सत्ता तक की राह बदल दी। गणेश शंकर विद्यार्थी भी ऐसे ही पत्रकार थे। उन्होंने अपनी कलम की ताकत से अंग्रेज़ी शासन की नींव हिला दी थी।

गणेश शंकर विद्यार्थी एक ऐसे स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे, जो  महात्मा गांधी के अहिंसक आंदोलन के समर्थकों और क्रांतिकारियों को समान रूप से देश की आज़ादी के लिए लड़ने में सक्रिय सहयोग प्रदान करते थे।

गणेश शंकर विद्यार्थी का जन्म 26 अक्टूबर, 1890 में अपने ननिहाल प्रयाग (आधुनिक इलाहाबाद) में हुआ था। इनके पिता जयनारायण  स्कूल में अध्यापक थे।

गणेश शंकर विद्यार्थी की शिक्षा-दीक्षा मुंगावली (ग्वालियर) में हुई थी। आर्थिक कठिनाइयों के कारण वे एण्ट्रेंस तक ही पढ़ सके। किन्तु वे स्वाध्याय करते  रहे ऊर्दू और फारसी की भी अच्छी जानकारी हासिल की।

16 साल की उम्र में उन्होंने गांधीजी से प्रेरित होकर अपनी पहली किताब हमारी आत्मोसर्गता लिखी। उन्हें नौकरी मिली पर अंग्रेज़ अधिकारियों से नहीं पटी तो नौकरी छोड़ दी।

प्रताप अखबार की शुरुआत:

 

विद्यार्थी जी ने प्रताप अखबार की शुरुआत 9 नवंबर, 1913 में की थी। विद्यार्थी जी के जेल जाने के बाद प्रताप का संपादन माखनलाल चतुर्वेदी और बालकृष्ण शर्मा नवीन जैसे बड़े साहित्यकार करते रहे।

‘झंडा ऊंचा रहे हमारा’ गीत जो श्याम लाल गुप्त पार्षद ने लिखा था. उसे भी 13 अप्रैल 1924 से जलियांवाला की बरसी पर विद्यार्थी ने गाया जाना शुरू करवाया था।

पांच बार गए जेलः

गणेश शंकर विद्यार्थी वैसे तो 5 बार जेल गए। 1922 में  आखिरी बार मानहानि के केस में जेल हुई थी। विद्यार्थी जी ने जनवरी, 1921 में प्रताप अखबार में रायबरेली के ताल्लुकदार सरदार वीरपाल सिंह के खिलाफ रिपोर्ट छापी थी।

वीरपाल ने किसानों पर गोली चलावाई थी और उसका पूरा ब्यौरा प्रतापमें छापा गया था. इसलिए प्रतापके संपादक गणेश शंकर विद्यार्थी और शिवनारायण मिश्र पर मानहानि का मुकदमा हो गया।गवाह के रूप में इस केस में मोतीलाल नेहरू और जवाहर लाल नेहरू भी पेश हुए थे। फैसला ताल्लुकदार के पक्ष में गया।

दोनों लोगों पर दो-दो केस थे। और दोनों लोगों को 3-3 महीने की कैद और पांच-पांच सौ रुपये का जुर्माना हुआ। ये मुकदमा लड़ने में उनके 30 हजार रुपये खर्च हो गए। पर प्रताप इस केस से लोकप्रिय हो गया. खासकर किसानों के बीच।विद्यार्थी जी को भी सब लोग पहचानने लगे। उनको लोग प्रताप बाबा कहते थे।

अंग्रेजों को भी प्रताप से प्रॉब्लम थी। इसलिए ये सही मौका था कि वो प्रताप को लपेटे में लेते। तो उन्होंने ले भी लिया. ए़डिटर और छापने वाले दोनों से पांच-पांच हजार का मुचलका और 10-10 हजार की जमानतें मांगीं।

7 महीने से ज्यादा विद्यार्थी जेल में रहे। 16 अक्टूबर, 1921 को खुद उन्होंने इसके बाद कानपुर में गिरफ्तारी दी. 10 दिन कानपुर जेल में रहे और फिर लखनऊ भेज दिए गए।  22 मई को जब जेल से निकले तो उन्होंने जेल में लिखी डायरी के आधार पर जेल जीवन की झलक नाम से सीरीज छपी और बहुत हिट रही।

गांधी के बाद कोई मजहब के नाम पर लड़ना रोक सकता है तो वो है मोहानी मशहूर गजल  चुपके-चुपके रात-दिन आंसू बहाना याद है…लिखने वाले प्रसिद्ध शायर हसरत मोहानी गणेश शंकर विद्यार्थ के बहुत अच्छे दोस्त थे।

हरसत मोहानी की 1924 में जब जेल से वापसी हुई तो गणेश शंकर विद्यार्थी ने उनकी तारीफ में प्रतापमें एक लेख लिखा था।

जिसमें उन्होंने लिखा था कि मौलाना को मजहब के नाम पर झगड़ने वालों को रोकना चाहिए। और मोहानी ही हैं जो गांधी जी के बाद लोगों को मजहब के नाम पर एक-दूसरे को मारने से बचा सकते हैं।

दंगे रोकते-रोकते हुई थी मौत

1931 में कानपुर में दंगे हो रहे थे। ऐसे मौके पर गणेश शंकर विद्यार्थी से रहा न गया और वो निकल पड़े दंगे रोकने। कई जगह पर तो वो कामयाब रहे, पर कुछ देर में ही वो दंगाइयों की भीड़ में फंस गए। दूसरे दिन उनका शव बरामद किया गया।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
» मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!   » राजनीतिक नेपथ्य में धकेले गए राम मंदिर आंदोलन के नायक और भाजपा का भविष्य   » ढींढोर पीटने वाले, फौजियों के इस गांव में कहां पहुंचा विकास   » शादी के बहाने बार-बार यूं बिकती हैं लड़कियां और नेता ‘ट्रैफिकिंग’ को ‘ट्रैफिक’ समझते   » बिहार के इस टोले का नाम ‘पाकिस्तान’ है, इसलिए यहां सड़क, स्कूल, अस्पताल कुछ नहीं   » यह है दुनिया का सबसे अमीर गांव, इसके सामने हाईटेक टॉउन भी फेल   » ‘शत्रु’हन की 36 साल की भाजपाई पारी खत्म, अब कांग्रेस से बोलेंगे खामोश   » राहुल गाँधी और आतंकी डार की वायरल फोटो की क्या है सच्चाई ?   » घाटी का आतंकी फिदायीन जैश का ‘अफजल गुरू स्क्वॉड’   » प्रियंका की इंट्री से सपा-बसपा की यूं बढ़ी मुश्किलें  
error: Content is protected ! india news reporter