गुजरात मॉडलः 7 डॉक्टर और 450 इंजीनियरों ने एक साथ ज्वाइन की चपरासी की नौकरी !

Share Button

इतनी पढ़ाई करने के बाद भी हमारे लायक नौकरी नहीं थी। आखिरकार हम चपरासी बनने के लिए भी तैयार हैं………..”

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। वेशक यह खबर काफी चौंकाने वाली जरूर है, लेकिन सच है। हाल में हुए एक नियुक्ति प्रक्रिया में सात डॉक्टरों और करीब 450 इंजीनियरों ने प्यून की नौकरी स्वीकार कर ली है।

इतना ही नहीं, कारण पूछे जाने पर अभ्यर्थियों ने अपने-अपने तर्क भी दिए हैं। अब इसे सरकारी नौकरी के प्रति युवाओं की दीवानगी कहें, या उनके क्षेत्रों में रोजगार की कमी।

लेकिन चपरासी सहित वर्ग-4 के पदों पर नौकरी पाने के लिए हजारों की संख्या में डॉक्टरों, इंजीनियरों और स्नातक अभ्यर्थियों ने आवेदन कर डाले।

ये भर्तियां गुजरात उच्च न्यायालय और अधीनस्थ अदालतों में चपरासी सहित वर्ग-4 के कुल 1149 पदों को भरने के लिए निकाली गई थीं। इसके लिए कुल 1,59,278 आवेदन प्राप्त हुए। इनमें से 44,958 स्नातक डिग्री धारक रहे।

चयन प्रक्रिया पूरी होने के बाद 7 डॉक्टरों, 450 इंजीनियरों और 543 स्नातकों ने वर्ग-4 की नौकरी स्वीकार की है। इन्हें 30 हजार रुपये वेतन मिलेगा।

ये नौकरी लेने के पीछे डॉक्टर, इंजीनियर और स्नातक की डिग्री रखने वाले अभ्यर्थियों के अलग-अलग तर्क हैं।

उनका कहना है कि ‘ये सरकारी नौकरी है। दूसरी बात ये कि इसमें ट्रांसफर का कोई झमेला भी नहीं है।’

जो अभ्यर्थी जज बनने के समकक्ष योग्यता रखते हैं, उन्होंने भी वर्ग-4 की नौकरी के लिए आवेदन किया, परीक्षा दी और चयन होने के बाद ज्वाइन करने के लिए भी तैयार हैं।

इनका कहना है कि ‘इतनी पढ़ाई करने के बाद भी हमारे लायक नौकरी नहीं थी। आखिरकार हम चपरासी बनने के लिए भी तैयार हैं।’

इन डिग्रीधारकों ने ली चपरासी की नौकरी……

डिग्री आवेदक चयनित
ग्रेजुएट 44958 543
पोस्ट ग्रेजुएट 5727 119
टेक ग्रेजुएट 196 156
बीटेक-बीई 4832 450
मेडिकल 19 7

1 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
100 %
Share Button

Related News:

तो क्या ‘बे-कार’ हैं खरबपति सांसद किंग महेन्द्र !
सुनो एक कन्या भ्रूण की चित्कार
न.1 जर्नलिस्ट.काम का पता बताओ भडास4मीडिया
अंततः कांग्रेस के 'कांडा' ही बने भाजपा के कांड !
मेरे विरोधियो ने मुझे फिल्मी "डॉन" बना दिया: मधु कोडा
राजा ने बजा दिया मनमोहन और चिदंबरम का बाजा
आरक्षण को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति आयोग का कड़ा रुख
धारा 120 बी के तहत दोषी लालू की सजाएं साथ चलेंगी या अलग-अलग, फैसला कोर्ट पर
सुप्रीम कोर्ट ने आधार कार्ड को लेकर दिये अहम फैसले, ये आपको जानना है जरुरी
भारत में भ्रष्टाचार रहित शहरी जीवन की कल्पना की जा सकती है !
फिर हुआ शर्मसार सीएम नीतीश कुमार का नालंदा
एक करोड़ के ईनामी ये 2 माओवादी ने सरकार मांग रखी है देहदान की ईच्छा  
काफी दुर्भाग्यजनक है सुदेश महतो की राजनीतिक महत्वाकान्क्षा
दैनिक भास्कर रोहतक के एडीटोरियल हेड जितेंद्र श्रीवास्तव ने ट्रेन से कटकर की आत्महत्या
50-50 फॉमूले ने 20 साल बाद भाजपा को फिर किया सत्ता से दूर
सुप्रीम कोर्ट के आदेशानुसार पेसा कानून के तहत यदि झारखंड मे चुनाव हुआ तो आदिवासियो और सदानो के बीच स...
भ्रष्टाचार के खिलाफ अन्नामय हुआ नालन्दा
दैनिक भाष्कर ने किया राँची में गुंडों का इस्तेमाल
झारखंड : न्यायालय व प्रेस अधिनियमों की धज्जियाँ उड़ा रहा है "दैनिक भास्कर"
बताईये: दोनों में कौन है क्रिकेटर युसूफ पठान?
9वीं कक्षा की परीक्षा में पूछा सवाल, 'गांधी जी ने आत्महत्या कैसे की'? 😳
राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से हर हाल में हटेगा अतिक्रमण, प्रशासन सक्रिय
इस बार मुख्यमंत्री बनते ही शिबू सोरेन ने बदले तेवर
महाराष्ट्र पर आज यूं हुआ महाबहसः सुप्रीम कोर्ट ने कहा-'संविधान की रक्षा हमारी ड्यटी, कल पेश करें राज...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter