एससी-एसटी एक्ट मामले में सुप्रीम कोर्ट का अहम फैसला अभी सुरक्षित

Share Button

दो दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने अपने पुराने फैसले को पलट दिया था। यानी एससी-एसटी एक्ट के तहत अब पहले की तरह ही शिकायत के बाद तुरंत गिरफ्तारी हो सकेगी। इस कानून के प्रावधानों के दुरुपयोग और झूठे मामले दायर करने के मुद्दे पर न्यायालय ने कहा कि ये जाति व्यवस्था की वजह से नहीं, बल्कि मानवीय विफलता का नतीजा है……….”

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। सुप्रीम कोर्ट ने एससी-एसटी एक्ट मामले को लेकर दाखिल याचिकाओं पर आज हुई सुनवाई के उपरांत अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है। याचिका एससी-एसटी पर अत्याचार करने वाले आरोपी व्यक्ति को अग्रिम जमानत देने के लिए कोई प्रावधान न होने के खिलाफ दाखिल की गई है।

गौरतलब है कि दो दिन पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने अपने पुराने फैसले को पलट दिया था। यानी इस एक्ट के तहत अब पहले की तरह ही शिकायत के बाद तुरंत गिरफ्तारी हो सकेगी।

20 मार्च 2018 को सुप्रीम कोर्ट ने एससी/एसटी एक्ट में बदलाव करते हुए तुरंत गिरफ्तारी पर रोक हटा दी थी। उस वक्त सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि पहले जांच होगी और फिर गिरप्तारी होगी।

जस्टिस अरुण मिश्रा, जस्टिस एम आर शाह और जस्टिस बी आर गवई की बेंच ने केंद्र सरकार की पुनर्विचार याचिका पर ये फैसला सुनाया था। पीठ ने कहा था कि समानता के लिए अनुसूचित जाति और जनजातियों का संघर्ष देश में अभी खत्म नहीं हुआ है।

 समाज में अभी भी ये वर्ग के लोग छुआछूत और अभद्रता का सामना सामना कर रहे हैं और वे बहिष्कृत जीवन गुजारते हैं।

शीर्ष अदालत ने कहा था कि संविधान के अनुच्छेद 15 के तहत अनुसूचित जाति और जनजातियों के लोगों को संरक्षण प्राप्त है, लेकिन इसके बावजूद उनके साथ भेदभाव हो रहा है।

पीठ ने कानून के प्रावधानों के अनुरूप ‘समानता लाने’ के लिए कुछ निर्देश देने का संकेत देते हुए कहा था कि आजादी के 70 साल बाद भी देश में अनुसूचित जाति और जनजाति के सदस्यों के साथ ‘भेदभाव’ और ‘छुआछूत’ बरती जा रही है।

यही नहीं, न्यायालय ने हाथ से मलबा उठाने की कुप्रथा और सीवर और नालों की सफाई करने वाले इस समुदाय के लोगों की मृत्यु पर गंभीर रुख अपनाते हुए कहा था कि दुनिया में कहीं भी लोगों को ‘मरने के लिये गैस चैंबर’ में नहीं भेजा जाता है।

1 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
100 %
Surprise
Share Button

Related News:

कानून के अन्धा होने के बात को प्रमाणित कर रहा है झारखंड मे पेसा कानून के तहत पंचायत चुनाव कराने की स...
लीला भंसाली की सबसे भव्य फिल्म है पद्मावत
आरक्षण को लेकर राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति आयोग का कड़ा रुख
सुबोधकांत बनेंगे मुख्यमंत्री!
सेना कैंटीन का स्वलाभ लेते यूं कैद हुये ईटीवी (न्यूज 18) के एक वरिष्ठ पत्रकार
आधार कार्ड का सॉफ्टवेयर हुआ हैक, कोई भी बदल सकता है आपका डिटेल
जबरन खाना दिया तो अन्ना हजारे पानी भी न पीय़ेंगें
पागल हो गया है झारखंड का मुख्य सचिव!
देखिए गांधी जी का चम्पारणः जहां है मजबूत तंत्र में लोक मजबूर
वेशक बाल ठाकरे दोगली मनसिकता वाला बुढ्ढा हो गया है.
तू निकली पाकिस्तानी बदरंग हिना !
"झारखण्ड:उग्रवादियों से सांठ-गांठ कर अपना प्रभाव है इसाई मिशनरियां"
देश को कहां ले जाएगी अन्ना और संसद का टकराव
पेस्सा के तहत चुनाव: शिबू नार्मल लेकिन सुदेश और रघुवर अपने फेर मे
रांची होटवार जेल बना पुलिस छावनी, काफी आक्रोश में हैं बिहार-झारखंड के राजद नेता
पंचायत चुनाव और उग्रवाद पर दिखा झारखंड के "गुरूजी" का नया अन्दाज
‘सीएम नीतीश का माफिया कनेक्शन किया उजागर, अब पूर्व IPS को जान का खतरा’
राहुल के बयान से संघीय शासन व्यवस्था को खतरा: नीतिश
गरीब महिलाओं तक के आँसू से भी! नहीं पिघलते मुख्यमंत्री के घर-जिले नालंदा के हिलसा अनुमंडल के पदाधिक...
जमशेदपुर में एक हाई प्रोफाइल सेक्‍स रैकेट का भंडाफोड़ः तीन युवतियां समेत 6 धराए
...और खून से लथपथ इंदिरा जी का सिर अपनी गोद में रख सोनिया चल पड़ी अस्पताल
संगठित-संरक्षित अपराधों की शरण स्थली बना पारधी ढाना
‘हवा-हवाई’ हो गईं भारतीय फिल्मों की ‘चांदनी’
अब यूपी के फर्रुखाबाद के डॉ. लोहिया अस्पताल में 49 बच्चों की मौत !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter