इस राजनीतिक माहौल में मेरी छाया भी बगावत कर गईः शरद यादव

Share Button

पटना (INR)। गांधी मैदान में आयोजित महारैली में जदयू के बागी सांसद शरद यादव अब लोगों को संबोधित कर रहे हैं।  मंच पर पहुँच कर सबसे पहले राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से गले मिलने वाले शरद यादव ने एक बार फिर विपक्षी एकता की बात की। उन्होंने देश के वर्तमान परिदृश्य पर खूब बोला।

शरद यादव ने कहा कि यह महारैली नहीं है यह पूरे देश की ओर से बिहार में रखी गई संग्राम सभा है। बिहार के गरीब लोगों ने इंकलाब किया है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र सच्ची बोली से चलता है। देश जुमलों से नहीं चलेगा।  संग्राम जारी रहेगा मैं किसी से डरता नहीं हूँ।

शरद यादव ने कहा कि बिहार की जनता ने महागठबंधन को जनादेश दिया था। लेकिन उस जनादेश का यहां अपमान हुआ है। जिन लोगों ने गठबंधन तोड़ा मेरी उनसे कोई लड़ाई नहीं है। देश में ऐसा राजनीतिक माहौल है जिसमें मेरी छाया भी बगावत कर गई।

उन्होंने कहा कि आजादी के 70 साल हो गए हैं लेकिन आज भी यहां 440 लोग पानी में डूब कर मर रहे हैं। जब कोसी का जलजला आया था तो मैं उस समय वहां का सांसद था, तब कांग्रेस सरकार ने 1000 करोड़ दिया था। कामना करता हूं कि ऐसे भारत का निर्माण हो, जहां इस तरह से किसी की जान न जाये।

हमारी जिंदगी का ऐसा दौर है, जब छाया भी हमारे खिलाफ है। सारा देश यहां बैठा था, यहां के गरीब लोगों ने हमसे ज्‍यादा मेहनत की। ऐसा इंकलाब किया कि जो लोग सोचते थे कि कोई हमारा रथ नहीं रोक सकता, बिहार के लोगों ने उसे बुरी तरह से पटखनी है।

इस बार जिस हालत में देश है, वह बहुत ही बुरा है। एक तरफ देश में किसान आत्‍महत्‍या कर रहा है, तो दूसरी ओर गाय और धर्म के नाम पर दंगा करवाया जा रहा है। लोगों की हत्या करवाई जा रही है। लेकिन बिहार की जनता ने, यहां के किसानों ने जो किया उससे पूरी सरकार हिल गई।

मालूम हो कि शरद यादव जदयू से बगावत कर चुके हैं। यहां रैली में शामिल होने के बाद शरद यादव  ने फिर दोहराया कि मैं हमेशा से किसानों और गरीबों के साथ खड़ा रहा हूँ।  मुझे सत्ता का कोई मोह नहीं रहा है।  उन्होंने कहा कि इस बार फिर एक नया गठबंधन बनेगा।

Related Post

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected ! india news reporter