» हाई कोर्ट ने खुद पर लगाया एक लाख का जुर्माना!   » बेटी का वायरल फोटो देख पिता ने लगाई फांसी, छोटे भाई ने भी तोड़ा दम   » पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » बजट का है पुराना इतिहास और चर्चा में रहे कई बजट !   » BJP राष्‍ट्रीय महासचिव के MLA बेटा की खुली गुंडागर्दी, अफसर को यूं पीटा और बड़ी वेशर्मी से बोला- ‘आवेदन, निवेदन और फिर दनादन’ हमारी एक्‍शन लाइन   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » उस खौफनाक मंजर को नहीं भूल पा रहा कुकड़ू बाजार   » प्रसिद्ध कामख्या मंदिर में नरबलि, महिला की दी बलि !   » गुजरात दंगों में नरेंद्र मोदी पर उंगली उठाने वाले चर्चित पूर्व IPS को उम्रकैद   » इधर बिहार है बीमार, उधर चिराग पासवान उतार रहे गोवा में यूं खुमार, कांग्रेस नेत्री ने शेयर की तस्वीरें  

अब राजनीति में कूदेगें सिंघम का ‘देवकांत सिकरे’!

Share Button

INR. कन्नड और तेलुगु फिल्मों में अपने जानदार अभिनय के लिए चर्चित चरित्र अभिनेता और सिंघम फिल्म का देवकांत सिकरे उर्फ यानी प्रकाश राज अब राजनीति में दो-दो हाथ करेगें। नये साल में वे अब एक नयी राजनीति पारी की शुरूआत करेंगे। 

इससे पहले दक्षिण फिल्मों के सुपर स्टार कमल हासन तथा रजनीकांत भी राजनीति में कदम रख चुके हैं।  दक्षिण भारतीय सिनेमा से कमल हासन के बाद प्रकाश राज पहले ऎसे कलाकार है, जिन्होंने हिन्दी सिनेमा में अपनी छाप छोड़ी।

कन्नड़ और तेलुगु सिनेमा के अभिनेता प्रकाश राज ने “सिंघम”, “वान्टेड” और “दबंग-2” के जरिए बॉलीवुड में खलनायक की खाली जगह को भरने का काम किया। अजय देवगन के साथ “सिंघम” से उनकी पहचान काफी बनी। अपने दमदार अभिनय से अपने प्रशंसकों के चहेते बन गए।

दक्षिण भारतीय फिल्म के इस चरित्र अभिनेता प्रकाश राज का जन्म 26 मार्च 1965 को बैंगलोर में हुआ था। प्रकाश राज का असली नाम प्रकाश राय है, जिसे उन्होंने तमिल डायरेक्टर के. बालाचंदर के कहने पर अपना नाम बदलकर प्रकाश राज कर लिया। वें 

बैंगलोर एक बेहद निम्न मध्यमवर्गीय परिवार से आते है। उनके पिता का नाम मंजुनाथ राय और माता का नाम स्वर्णलता राय है। उन्होंने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई बैंगलोर के सेंट जोसफ स्कूल से की है। अपने स्कूल समय में वह एक प्रतिभाशाली छात्र माने जाते थे। उसके बाद स्नातक की पढ़ाई सेंट जोसफ कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स से की।

प्रकाश राज की शादी अभिनेत्री ललित कुमारी से 1994 में हुई थीं। इनके दो बेटी और एक बेटा भी है। किन्ही कारणों से 2009 में पत्नी ललिता से इन्होंने दूरी बना ली।

प्रकाश राज ने अपने अभिनय करियर की शुरुआत दूरदर्शन के धारावाहिक “बिसिलु कुदुरे” से की। प्रकाश राज ने अपने फिल्मीं करियर में कई फ़िल्में की। 

इस दौरान उन्हें राष्ट्रीय पुरस्कार  से भी नवाजा गया। प्रकाश राज ने अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत साल 1998 में फिल्म हिटलर से की थी। लेकिन पहचान उन्हें वांटेड के किरदार घनी भाई से मिली।

इनकी कुछ प्रमुख फिल्में इंद्रप्रस्थम, बन्धनम,वीआईपी, नंदनी, शांति शांति शांति, वन्नावली, आज़ाद, गीता ,ऋषि, दोस्त, सिंघम, वांटेड, बुड्ढा होगा तेरा बाप, हीरोपंती, एंटरटेनमेंट, मुरारी, इंद्रा, इडियट, शक्ति द पावर, फूल्स, गंगोत्री, स्मार्ट द चैलेंज ,पोकरी,राणा,लायन, रुद्रमादेवी शामिल है।

वे अब तक हिंदी फिल्मों में बतौर विलेन कई फिल्मों में नज़र आ चुके हैं। सिंघम, दबंग 2, बुड्ढा होगा तेरा बाप, सिंह साहब द ग्रेट, वांटेड,जंजीर।

प्रकाश राज एक सफल अभिनेता होने के साथ-साथ सफल निर्देशक भी हैं , वह अब तक कई तेलगु, तमिल, कन्नड़ फिल्मों को निर्देशित कर चुके हैं। प्रकाश राज को उनके 29 साल के करियर में अब 5 बार राष्ट्रीय पुरस्कार मिल चुका है।

उनके बारे में कहा जाता है कि वे बचपन से ही थोड़े मुखर, उग्र, गुस्सैल और विरोधी स्वभाव के रहे हैं। जिसकी छाप उनके अभिनय पर भी दिखती है। इसी गुस्सैल और विरोधी स्वभाव की वजह से तेलगु सिनेमा कई बार उन पर प्रतिबंध लगा चुकी है। 

प्रकाश राज अब नये साल में अभिनय से दूर राजनीति में कदम रखने का ऐलान किया है। फिलहाल वे किसी पार्टी में शामिल होने से इंकार किया है।

उन्होंने घोषणा की है कि वे फिलहाल निर्दलीय लोकसभा का चुनाव लड़ेगें। दक्षिण की राजनीति दशा और दिशा बदलने का प्रयास करेंगे ।

उनके इस ऐलान से आने वाले समय में दक्षिण की राजनीति परिदृश्य में बदलाव आने की संभावना है। चूकि प्रकाश राज सिर्फ़ अभिनय से ही नहीं, बल्कि अपने व्यक्तित्व से भी आम लोगों के बीच लोकप्रिय है।

दक्षिण में कमल हासन तथा रजनीकांत जैसे सरीखे स्टार के बाद प्रकाश राज का एक बड़ा क्रेज है। उनके राजनीति में आने से दक्षिण की क्षेत्रीय दलों के साथ बड़ी पार्टी को भी नुकसान हो सकता है।

Share Button

Related News:

नालंदा एसपी कुमार आशीष का क्वीक एक्शन, अस्पताल कैदी वार्ड के सभी 5 सिपाही सस्पेंड
एक करोड़ के ईनामी ये 2 माओवादी ने सरकार मांग रखी है देहदान की ईच्छा  
गुजरात से बिहार आकर मुर्दों की बस्ती में इंसाफ तलाशती एक बेटी
गोविन्दाचार्य ने सुप्रीम कोर्ट से की रोहिंग्या शरणार्थियों को भारत से बाहर करने की मांग
ईको टूरिज्म स्पॉट बनकर उभरेगा घोड़ा कटोरा :सीएम नीतीश
नीतिश के बिहार एनडीए के चेहरे होने पर भाजपा में 'रार'
'यहां के मंदिर में रावण की पूजा करने वाले आज कोई खुशी भी नहीं मनाते'
इस बार यूं पलटी मारने के मूड में दिख रहा नीतीश का नालंदा
प्रियंका के इंकार के बाद रिंग में दस्ताने पहन यूं अकेले रह गए मोदी
विदेश सचिव का बयान- सिर्फ आतंकी थे टारगेट, 300 मारे गए   
एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की 'आपातकाल' की पृष्ठभूमि
विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !
बढ़ते अपराध को लेकर सीएम की समीक्षा बैठक में लिए गए ये निर्णय
नालोशिप्रा का राजगीर सीओ को अंतिम आदेश, मलमास मेला सैरात भूमि को 3 सप्ताह में कराएं अतिक्रमण मुक्त
कांग्रेस के हुए भाजपा के बागी सांसद 'कीर्ति'
अंततः तेजप्रताप के वंशी की धुन पर नाच ही गया लालू का कुनबा
कानून बनाओ या अध्यादेश लाओ, राममंदिर जल्द बनाओ : उद्धव ठाकरे
मोदी-मनमोहन मिलन में यूं दिखा भारतीय लोकतंत्र की खूबसूरती
'लोकनायक' के अधूरे चेले 'लालू-नीतीश-सुशील-पासवान'
नालंदा प्रशासन को बिहारशरीफ सदर अस्पताल के कैदी वार्ड में हादसा या वारदात का इंतजार है?
इस बार उखड़ सकते हैं नालंदा से नीतीश के पांव!
अब परचून की दुकानों में शराब बेचेगी भाजपा सरकार
पटना साहिब सीट नहीं छोड़ेंगे ‘बिहारी बाबू’, पार्टी के नाम पर कहा ‘खामोश’
बिहार के साहब के सामने लोग चिल्लाए- मुर्दाबाद, वापस जाओ!

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
loading...
» पुण्यतिथिः जब 1977 में येदुरप्पा संग चंडी पहुंचे थे जगजीवन बाबू   » कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?   » डॉक्टरी भी चढ़ गयी ग्लोबलाइजेशन की भेंट !   » विकास नहीं, मानसिक और आर्थिक गुलामी का दौर है ये !   » एक ऐतिहासिक फैसलाः जिसने तैयार की ‘आपातकाल’ की पृष्ठभूमि   » एक सटीक विश्लेषणः नीतीश कुमार का अगला दांव क्या है ?   » ट्रोल्स 2 TMC MP बोलीं- अपराधियों के सफेद कुर्तों के दाग देखो !   » जब गुलजार ने नालंदा की ‘सांसद सुंदरी’ तारकेश्वरी पर बनाई फिल्म ‘आंधी’   » आभावों के बीच राष्ट्रीय खेल में यूं परचम लहरा रही एक सुदूर गांव की बेटियां   » मुंगेरः बाहुबलियों की चुनावी ज़ोर में बंदूक बनाने वाले गायब!  
error: Content is protected ! india news reporter