अपने बच्चों को बाज़🦅बनाईए, ब्रायलर🐥नहीं

Share Button

वर्तमान समय की अनन्त सुख सुविधाओं की आदत व अभिवावकों के बेहिसाब लाड़ प्यार ने बच्चों को “ब्रायलर मुर्गे” जैसा बना दिया है, जिसके पास मजबूत टंगड़ी तो है। लेकिन चल नही सकता। वजनदार पंख तो है, मगर उड़ नही सकता। क्योंकि “गमले के पौधे और जंगल के पौधे में बहुत फ़र्क होता है…………..”

इंडिया न्यूज रिपोर्टर डेस्क। बाज ! एक ऐसा पक्षी, जिसे हम हॉक भी कहते है। जिस उम्र में बाकी परिंदों के बच्चे चिचियाना सीखते है, उस उम्र में एक मादा बाज अपने चूजे को पंजे में दबोच कर सबसे ऊंचा उड़ जाती है। पक्षियों की दुनिया में ऐसी कड़ा प्रशिक्षण किसी भी ओर की नही होती।

मादा बाज अपने चूजे को लेकर लगभग 12 किमी ऊपर ले जाती है। जितने ऊपर आधुनिक जहाज उड़ा करते हैं और वह दूरी तय करने में मादा बाज 7 से 9 मिनट का समय लेती है।

यहां से शुरू होती है उस नन्हें चूजे की कठिन परीक्षा। उसे अब यहां बताया जाएगा कि तू किस लिए पैदा हुआ है? तेरी दुनिया क्या है? तेरी ऊंचाई क्या है? तेरा धर्म बहुत ऊंचा है और फिर मादा बाज उसे अपने पंजों से छोड़ देती है।

धरती की ओर ऊपर से नीचे आते वक्त लगभग 2 किमी उस चूजे को आभास ही नहीं होता कि उसके साथ क्या हो रहा है। 7 किमी के अंतराल के आने के बाद उस चूजे के पंख जो कंजाइन से जकड़े होते है, वह खुलने लगते है।

लगभग 9 किमी आने के बाद उनके पंख पूरे खुल जाते है। यह जीवन का पहला दौर होता है जब बाज का बच्चा पंख फड़फड़ाता है।

अब धरती से वह लगभग 3000 मीटर दूर है लेकिन अभी वह उड़ना नहीं सीख पाया है। अब धरती के बिल्कुल करीब आता है जहां से वह देख सकता है उसके स्वामित्व को। अब उसकी दूरी धरती से महज 700/800 मीटर होती है लेकिन उसका पंख अभी इतना मजबूत नहीं हुआ है की वो उड़ सके।

धरती से लगभग 400/500 मीटर दूरी पर उसे अब लगता है कि उसके जीवन की शायद अंतिम यात्रा है। फिर अचानक से एक पंजा उसे आकर अपनी गिरफ्त मे लेता है और अपने पंखों के दरमियान समा लेता है।

यह पंजा उसकी मां का होता है जो ठीक उसके उपर चिपक कर उड़ रही होती है। और उसकी यह ट्रेनिंग निरंतर चलती रहती है जब तक कि वह उड़ना नहीं सीख जाता।

यह ट्रेनिंग एक कमांडो की तरह होती है। तब जाकर दुनिया को एक बाज़ मिलता है अपने से दस गुना अधिक वजनी प्राणी का भी शिकार करता है।

हिंदी में एक कहावत है… “बाज़ के बच्चे मुँडेर पर नही उड़ते।” बेशक अपने बच्चों को अपने से चिपका कर रखिए पर उसे दुनियां की मुश्किलों से रूबरू कराइए, उन्हें लड़ना सिखाइए। बिना आवश्यकता के भी संघर्ष करना सिखाइए।

1 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise
Share Button

Related News:

इन बालू माफियाओं के खिलाफ पंगु साबित है नालंदा पुलिस-प्रशासन
पी चिदंबरम के आवास पर CBI छापे के बाद लालू के कथित 22 ठिकानों पर IT की रेड
ईको टूरिज्म स्पॉट बनकर उभरेगा घोड़ा कटोरा :सीएम नीतीश
देखिये वीडियो, यूं हट रहा है राजगीर मलमास मेला सैरात भूमि से अतिक्रमण
न्यू एंंटी करप्शन लॉ के तहत अब सेक्स डिमांड होगी रिश्वत
भाजपा सांसदों ने रोकी नोटबंदी पर संसदीय समिति की रिपोर्ट
70 फीट ऊँची बुद्ध प्रतिमा के मुआयना समय बोले सीएम- इको टूरिज्म में काफी संभावनाएं
बलिया-सियालदह ट्रेन से भारी मात्रा में नर कंकाल समेत अंतर्राष्ट्रीय तस्कर धराया
गुजरात में भाजपा 'मोदी मैजिक' के बीच कांग्रेस भी उभरी
वाराणसी के इस शहीद के घर नहीं पहुंचा कोई अधिकारी-जनप्रतिनिधि
राजनीतिक दोस्तों के भी रियल 'शत्रु' हैं बिहारी बाबू !
रांची में गरजे राहुल गांधी- देश का चौकीदार चोर है
धर्मांतरण, घर वापसी और धर्मयुद्ध
हत्यारोपी BJP MLA संजीव सिंह की जेल में रोजाना सजते दरबार और लालू पर कसे शिकंजे को लेकर उठे सबाल
सरकार बताए कि MBBS छात्राओं पर पुरुष पुलिस ने क्यूं की ऐसी बर्बरताः हाई कोर्ट
भाजपा की 20-20 खेल में यूं उलझे नीतिश-कुशवाहा
नालंदा के एसपी के इस आदेश की हर तरफ-हर कोई उड़ा रहा है सरेआम धज्जियां
‘लालू के खिलाफ आपस में मिले थे सुशील मोदी, नीतीश कुमार, राकेश अस्थाना और पीएमओ’
रांची होटवार जेल बना पुलिस छावनी, काफी आक्रोश में हैं बिहार-झारखंड के राजद नेता
कैदी तबरेज तो ठीक, लेकिन वहीं हुए पुलिस संहार को लेकर कहां है ओवैसी, आयोग, संसद और सरकार?
ट्रक से टकराई महारानी बस, 9 की मौत, 25 घायल, हादसे की दर्दनाक तस्वीरें
जयंती  विशेषः एक सच्चा पत्रकार, जो दंगा रोकते-रोकते हुए शहीद
राहुल गाँधी और आतंकी डार की वायरल फोटो की क्या है सच्चाई ?
गरजे तेजस्वी- ‘मेरे अंदर लालू जी का खून, मैं किसी से डरने वाला नहीं’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Loading...
Close
error: Content is protected ! india news reporter